ताज़ा खबर
 

Vastu Shastra: वास्तु के मुताबिक किस दिशा में होना चाहिए घर का मुख्य द्वार, जानिये

वास्तु के जानकार मानते हैं कि अच्छी किस्मत व खुशियों का सीधा संबंध घर के मुख्य द्वार यानी मेन गेट से होता है

घर का मेन गेट अगर दक्षिण दिशा में है तो वास्तु के अनुसार इसे काला, भूरा अथवा गहरे बैंगनी रंग में रंगवाए

Main Gate Vastu: ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक घर के प्रत्येक हिस्से का अपना एक अलग महत्व होता है। वास्तु विज्ञान में इस बात को बताया गया है कि घर का कौन-सा कोना किस तरह के फल देने वाला होता है। बता दें कि कई बार घर की सुख समृद्धि में रुकावट का कारण गलत वास्तु भी होता है। विद्वानों का मानना है कि इससे वास्तु दोष लग जाता है जो धन हानि, कलह व बीमारियों के लिए जिम्मेदार हो सकता है। वास्तु के जानकार मानते हैं कि अच्छी किस्मत व खुशियों का सीधा संबंध घर के मुख्य द्वार यानी मेन गेट से होता है। आइए जानते हैं विस्तार से –

क्या है मेन गेट और वास्तु का कनेक्शन: वास्तु विशेषज्ञों के अनुसार बाहर की दुनिया से वापस घर में प्रवेश करते वक्त हर कोई मुख्य द्वार से ही गुजरता है। मुख्य द्वार धन-धान्य, आरोग्यता, यश और सद्भाव को बढ़ाने वाली पॉजिटिव ऊर्जा को घर के अंदर लाता है। इस कारण ही मेन गेट की अहमियत ज्यादा होती है। इसके अलावा, जिन लोगों के घर का मुख्य द्वार अच्छा होता है उनका इंप्रेशन भी दूसरों पर अच्छा पड़ता है।

किस दिशा में होना चाहिए मुख्य द्वार: जानकार मानते हैं कि मुख्य द्वार भी घर की दिशा में होना चाहिए। मान्यता है कि अगर मेन गेट और घर के दरवाज़े विपरीत दिशा में होते हैं तो घर में नकारात्मकता आती है। इसके अलावा, मुख्य द्वार सदैव उत्तर, उत्तर-पूर्व या पश्चिम दिशा में होनी चाहिए। वास्तु विशेषज्ञ मेन गेट के लिए इन दिशाओं को शुभ मानते हैं। साथ ही, घर के बाकी दरवाज़ों के मुकाबले मेन गेट का साइज अधिक होना चाहिए। वहीं, 3 दरवाज़े एक ही लाइन में नहीं होने चाहिए।

दिशा के अनुसार मेन गेट का रंग: अगर घर का मेन गेट पूर्व दिशा में है तो वास्तु के अनुसार इसका रंग गोल्डन या फिर नारंगी होना चाहिए। वहीं, जिनके घर का मुख्य द्वार पश्चिम दिशा में हो उन्हें इसे सफेद या फिर पीले रंग से रंगवाना चाहिए। उत्तर दिशा में मुख्य द्वार होने पर नीला या आसमानी रंग होना चाहिए। जबकि घर का मेन गेट अगर दक्षिण दिशा में है तो इसे काला, भूरा अथवा गहरे बैंगनी रंग में रंगवाए। उत्तर पूर्व और उत्तर पश्चिम दिशा में मुख्य द्वार होने पर क्रमशः सफेद व हल्का नीला रंग कराएं। इसके अलावा, दक्षिण पश्चिम दिशा में गेट अगर हो तो गुलाबी या हल्का भूरा रंग कराएं। दक्षिण पूर्वी दिशा में लगे मेन गेट का रंग पीला या केसरिया रखें।

Next Stories
1 Horoscope Today, 26 January 2021: मिथुन राशि के जातकों की सेहत अच्छी रहेगी, सिंह राशि वालों गाड़ी चलाते समय सावधानी बरतें
2 कल है भौम प्रदोष व्रत, जानें इस दिन क्यों दी जाती है भगवान शिव की उपासना करने की सलाह
3 2021 में कब है बसंत पंचमी, जानें सरस्वती पूजा की विधि, मुहूर्त व मंत्र
ये पढ़ा क्या?
X