scorecardresearch

Nightmare: लगातार बुरे सपने से हैं परेशान? ये आसान ज्योतिषीय उपाय दिला सकते हैं आपको चैन की नींद

बुरे और अशुभ स्वप्नों के कारण व्यक्ति को अच्छी नींद नहीं आती है। शास्त्रों में बुरे सपनों से छुटकारा पाने के कई उपाय बताए गए हैं।

Nightmare: लगातार बुरे सपने से हैं परेशान? ये आसान ज्योतिषीय उपाय दिला सकते हैं आपको चैन की नींद
Bad Dreams: शास्त्रों में इन सपनों के भी अर्थ बताए गए हैं। (Image: canava)

रात को सोने के बाद सपने आना एक आम बात है। सपने किसी भी तरह के हो सकते हैं। कई बार हमें बहुत अच्छे और सुखद सपने आते हैं, लेकिन कई बार बेहद डरावने सपने दिखाई देते हैं। वहीं कई लॉगिन को बार-बार बुरे सपने आते हैं, जिससे उन्हें अच्छी नींद लेने में मुश्किल होती है। कई लोगों को डरावने सपने आते हैं।

बुरे सपने (How Can I Stop My Nightmares?) न केवल आपको रात में जगाते हैं बल्कि जब आप अपनी आंखें बंद करते हैं तो डरावनी चीजें दिखाई देती हैं। स्वप्न शास्त्र के मुताबिक बुरे सपने आने के कई कारण हो सकते हैं। शास्त्रों में बुरे सपनों से छुटकारा पाने के लिए कई उपाय बताए गए हैं। आज हम आपको इन्हीं उपायों (Remedies for Bad Dreams in Astrology) के बारे में बताने जा रहे हैं।

देवी का ध्यान कर मंत्र जाप करें

निद्रा देवी को नींद की देवी कहा जाता है इसलिए सोने से पहले निद्रा देवी के मंत्रों का जाप करना चाहिए। यदि आपको बुरे स्वप्नों के कारण नींद नहीं आ रही है तो प्रतिदिन रात को सोने से पहले निद्रा देवी के निम्न मंत्र का जाप करें- वाराणस्यां दक्षिणे तु कुक्कुटो नाम वै द्विज:। तस्य स्मरणमात्रेण दु:स्वपन: सुखदो भवेत्।।

क्या आपने सपने में देखा राजा ? तो आप बन सकते हैं धनवान; देखिए VIDEO

इस वृक्ष की जड़ का उपयोग करें

ज्योतिषियों के अनुसार यदि किसी व्यक्ति को रात में डरावने सपने आते हैं तो उसे सोते समय अपने सिरहाने के नीचे पीपल के पेड़ की एक छोटी सी जड़ रखनी चाहिए। साथ ही ‘ॐ नमो भगवते वासुदेवाय’ का 5 बार जाप करें। यह बुरे और डरावने सपनों को रोक सकता है।

ॐ नमः शिवाय का जाप करें

अगर आपको रात में अचानक नींद में कुछ ऐसा दिखाई दे जो बहुत ही डरावना हो और आपको नींद ना आए तो आपको महादेव के इस मंत्र – “ॐ नमः शिवाय” का जाप करना (Remedies to Overcome Nightmares) चाहिए। इस मंत्र का 11 बार जाप करने से अशुभ स्वप्नों से मुक्ति मिलती है।

ऊँ नमः शिवं दुर्गा गणपतिं कार्तिकेयं दिनेश्वरम् ।
धर्म गंगां च तुलसीं राधां लक्ष्मीं सरस्वतीम ॥
नामान्येतानि भद्राणि जले स्नात्वा च यो जपेत ।
वांछितं च लभेत सोऽपि दुःस्वप्नः शुभवान् भवेत् ॥

पढें Religion (Religion News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 08-12-2022 at 05:41:06 pm