ताज़ा खबर
 

ज्योतिष शास्त्र: पुखराज होता है बृहस्पति का स्टोन, जानिए क्या हैं इसके लाभ और कब पहुंचता है नुकसान

ज्योतिष शास्त्र के जानकारों का मानना है कि कुंडली में यदि बृहस्पति खराब होता है तो जातक को नौकरी और शादी में रुकावटें आती है। साथ ही बृहस्पति के कारण माता-पिता से विवाद और कन्या के विवाह में दिक्कतें पैदा होती है।

Author नई दिल्ली | February 8, 2019 7:23 PM
पीला पुखराज।

ज्योतिष के अनुसार पुखराज बृहस्पति का स्टोन होता है। बहुत सारे लोग इसको बहुतायत में इस्तेमाल करते हैं। पीला पुखराज बृहस्पति से संबंधित समस्याओं का निवारण करता है। बृहस्पति को नवग्रहों में गुरु माना गया है। ज्योतिष शास्त्र के जानकारों का मानना है कि कुंडली में यदि बृहस्पति खराब होता है तो जातक को नौकरी और शादी में रुकावटें आती है। साथ ही बृहस्पति के कारण माता-पिता से विवाद और कन्या के विवाह में दिक्कतें पैदा होती है। इसलिए बृहस्पति दोष के बुरे प्रभाव से बचने के लिए पुखराज पहनने की सलाह दी जाती है। जानते हैं कि पुखराज के क्या-क्या लाभ बताए गए हैं और कब यह नुकसान पहुंचाता है।

पुखराज कुंडली में बने बृहस्पति दोष को ठीक करता है। यदि पुखराज नुकसान करता है तब व्यक्ति को पाचन तंत्र से संबंधित समस्या होती है। साथ ही खराब बृहस्पति की स्थिति में जातक का मोटापा बढ़ाना शुरू हो जाता है। यदि कोई व्यक्ति पुखराज पहनकर यह अनुभव कर रहा है कि उसका पेट कमजोर हो रहा है। साथ ही पाचन में दिक्कत हो रही है, एसिडिटी हो रही है या एकदम से बिना कारण के मोटापा बढ़ रहा है तो समझना चाहिए कि पुखराज नुकसान पहुंचा रहा है।

वहीं अगर पुखराज लाभ पहुंचाता है तो सबसे पहला लक्षण होता है कि जातक धैर्यवान और गंभीर हो जाता है। साथ ही व्यक्ति का मोह और भय दूर हो जाता है। इसके अलावा जातक का ईश्वर की तरफ झुकाव बढ़ जाता है। ज्योतिष के मुताबिक बृहस्पति से लाभ लेने के लिए, इसे मजबूत करने के लिए पीले पुखराज को सोने की अंगूठी में तर्जनी अंगुली में धारण किया जाता है। इसलिए कहा जाता है कि पुखराज पहनने से पहले हमेशा ध्यान रखना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App