ताज़ा खबर
 

आज का पंचांग, 31 अक्तूबर 2020: आज बनेगा अमृत काल, वाल्मीकि जयंती जानिये क्या है आज का शुभ मुहूर्त और राहु काल का समय

Valmiki Jayanti/ Aaj Ka Panchang: वाल्मीकि जयंती के दिन ऋषि वाल्मीकि और श्री राम की उपासना की जाती है। कहते हैं कि इस दिन भगवान गणेश की आराधना भी करनी चाहिए।

panchang, 31 october panchang, aaj ka panchangकोई भी शुभ कार्य करने से पहले पंचांग देखा जाता है।

Today Panchang 31 October 2020 (आज का पंचांग): हिंदू पंचांग के मुताबिक हर साल आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को वाल्मीकि जयंती मनाई जाती है। वाल्मीकि जयंती के दिन ऋषि वाल्मीकि और श्री राम की उपासना की जाती है। कहते हैं कि इस दिन भगवान गणेश की आराधना भी करनी चाहिए।

साथ ही इस दिन रामायण की पूजा की जाती है। कहते हैं कि किसी भी पूजा पाठ को करने के दौरान पंचांग और मुहूर्त का खास ख्याल रखना चाहिए। बिना मुहूर्त में किये गये कार्यों का फल नहीं मिलता है। इस साल वाल्मीकि जयंती का त्योहार 31 अक्तूबर यानी आज मनाया जाएगा। आइए जानते हैं आज का पंचांग और शुभ मुहूर्त –

बन रहा है अमृत काल – आज के दिन अमृत काल बन रहा है। सुबह 11 बजकर 42 मिनट से दोपहर 12 बजकर 27 मिनट अमृत कला बना रहेगा। बता दें कि इस योग को बहुत अच्छा माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि इस योग में किये गए कार्य निश्चित तौर पर सफल होते हैं। इस योग में नई नौकरी या कोई धार्मिक कार्य करना चाहिए। जैसा कि नाम से प्रतीत होता है, इस योग में किये गए कर्म शुभ फल देने वाले होते हैं।

आज दोपहर 5 बजकर 58 मिनट से अश्विनी नक्षत्र लगेगा। आश्विन महीने के शुक्ल पक्ष में शाम 5 बजकर 45 मिनट तक चतुर्दशी तिथि रहेगी। उसके बाद पूर्णिमा शुरू हो जाएगी।

आज के शुभ मुहूर्त – आज अभिजित मुहूर्त भी बना रहेगा, सुबह 11 बजकर 42 मिनट से लेकर दोपहर 12 बजकर 27 मिनट तक यह मुहूर्त बन रहेगा। दोपहर 1 बजकर 55 मिनट से 2 बजकर 39 मिनट तक विजय मुहूर्त रहेगा। वहीं, सुबह 9 बजकर 52 मिनट से सुबह 11 बजकर 40 मिनट तक अमृत काल रहेगा। शाम 5 बजकर 25 मिनट से 5 बजकर 49 मिनट तक गोधूलि मुहूर्त का समय है। सायाह्न सन्ध्या का समय शाम 5 बजकर 36 मिनट से 6 बजकर 54 मिनट तक होगा। इसके अलावा, रात 11 बजकर 39 मिनट से 12 बजकर 31 मिनट तक निशिता मुहूर्त लगा रहेगा।

कब रहेगा राहु काल – सुबह 09 बजकर 18 मिनट से लेकर सुबह 10 बजकर 41 मिनट तक राहु काल का समय है। वहीं, गुलिक काल का 06:18 से 10:41 तक माना जा रहा है। इसके अलावा सुबह 6 बजकर 32 मिनट से 07 बजकर 17 मिनट तक दुर्मुहूर्त भी लगा रहेगा। इसके अलावा यमगण्ड काल दोपहर 1 बजकर 27 मिनट से लेकर शाम 2 बजकर 50 मिनट तक रहेगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Horoscope Today, 31 October 2020: कन्‍या राशि के लोग आलोचना करने से बचें ,जानें बाकी राशियों का क्‍या रहेगा हाल
2 इन सपनों से करियर में सफलता हासिल करने की है मान्यता, जानिये क्या कहता है स्वप्न शास्त्र
3 Valmiki Jayanti 2020 Date: क्यों इतनी खास मानी जाती है वाल्मीकि जयंती, जानें महत्व और इतिहास
यह पढ़ा क्या?
X