ताज़ा खबर
 

बच्चे को लगी बुरी नजर उतारने के लिए अपनाए जाते हैं ये टोटके

कहते हैं कि हंसते-खेलते बच्चे के अचानक से बीमार हो जाने की वजह बुरी नजर का लगना होता है। इसके अलावा अगर बच्चा दिन में बहुत रोने लगे तो भी इसे बुरी नजर लगने का परिणाम बताया जाता है।

Author नई दिल्ली | May 1, 2018 20:24 pm
प्रतीकात्मक चित्र।

हिंदू धर्म को मानने वालों के बीच तमाम तरह की मान्यताएं फैली हुई हैं। इन्हीं मान्यताओं में से एक है बच्चे को बुरी नजर लगना। कहते हैं कि हंसते-खेलते बच्चे के अचानक से बीमार हो जाने की वजह बुरी नजर का लगना होता है। इसके अलावा अगर बच्चा दिन में बहुत रोने लगे तो भी इसे बुरी नजर लगने का परिणाम बताया जाता है। अगर छोटा बच्चा ठीक से खाए-पीए ना तो भी इसे बुरी नजर लगने का असर कहा जाता है। इन सबके बीच इस बुरी नजर को उतारने के लिए भी कुछ टोटके बताए गए हैं। मान्यता है कि इन टोटकों को अपनाने से बच्चे को लगी बुरी नजर उतारी जा सकती है। और बच्चा रोना-धोना छोड़कर हंसी-खुशी के साथ रहना शुरू कर देता है। आइए विस्तार से जानते हैं इनके बारे में।

इनमें से ही एक टोटके के अनुसार बच्चे को लगी बुरी नजर उतराने के लिए एक पोटली बनानी चाहिए। इस पोटली में हनुमानजी के पांव का सिंदूर, दस ग्राम काले तिल, दस ग्राम काले उड़द, लोहे की एक कील और तीन साबूत लाल मिर्च बांध देनी चाहिए। इस पोटली को बच्चे के सिरहाने पर 24 घंटे तक रखें। इसके बाद इस पोटली को किसी नदी में प्रवाहित कर दें। ऐसा करने से बच्चे को लगी बुरी नजर दूर हो जाती है। इसके अलावा एक अन्य टोटके के मुताबिक नजर लगे बच्चे को लिटाकर फिटकरी का एक टुकड़ा उसके सिर से पांव तक सात बार उतारें। इसके बाद फिटकरी के टुकड़े को उपले की आग में फेंक दें।

बच्चे को लगी बुरी नजर उतारने का एक अन्य टोटका यह है कि एक रोटी बनाएं। इस रोटी को केवल एक ही ओर से सेकें। इसके बाद सेकें हुए हिस्से पर तेल या घी लगांए और इसी हिस्से से रोटी को बच्चे के ऊपर सात बार उतारें। यह करने का बाद रोटी को किसी चौराहे पर छोड़ आएं। इसके अलावा अगर आपका बच्चा दूध ना पी रहा हो तो एक कोटरी में दूध लें और उसे बच्चे के ऊपर सात बार उतारें। इसके बाद यह दूध काले कुत्ते को पिला दें। टोटके के मुताबिक ऐसा करने से बच्चा दूध पीने लगता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App