ताज़ा खबर
 

राजयोग के संकेत हैं शरीर पर ये न‍िशान

जानकार बताते हैं कि जिस व्यक्ति के हथेली या पांव के तलवों पर धनुष, गदा,चक्र, बान, शंक आदि के चिह्न होना राजयोग की संभावना को स्पष्ट करता है।

सांकेतिक फोटो

ज्योतिषीय विद्याओं को भारतीय की प्राचीन विद्याओं में से एक माना जाता है। इसके माध्यम में व्यक्ति की कुंडली और हस्तरेखा का आंकलन करके हमारे भविष्य के बारें में बताया जा सकता है। इसके द्वारा व्यक्ति के राजयोग के बारें में भी बताया जा सकता है। लेकिन कई ज्योतिषी कहते हैं कि कंडली में होने वाला राजयोग तब तक सिद्ध नहीं होता जब तक इसके लक्षण की व्यक्ति के शारीरिक अंगों और उसकी बनावट पर ना दिखें। कहा जाता है कि जिस व्यक्ति की हथेली या पांव के तलवों पर धनुष, गदा,चक्र, बान, शंक आदि के चिह्न बने है तो ये राजयोग की संभावना को स्पष्ट करता है।

व्यक्ति के शरीर के अगं पर किस निशान का क्या महत्व है इसके बारें में समुद्र शास्त्र में विस्तार से बताया गया है। जानकार बताते हैं कि इसके द्वारा व्यक्ति के भविष्य तथा व्यक्ति की किस्मत में कौन सा राजयोग है इसके बारें में पता चलता है।

जिन लोगों की हथेली के बीचो-बीच शक्ति, तोमर, बाण, रथ, चक्र या ध्वजा का निशान है तो ऐसे लोगों को जीवन में शासन का बड़ा अवसर मिलता है। ऐसे लोग जिंदगी में मिले मौकों का फायदा उठाते हैं।

जानकार बताते हैं कि अगर किसी स्त्री के बाएं हाथ या पैर में और पुरुष के दाएं हाथ या पैर में यदि किसी भी प्रकार का कोई भी राजचिह्न दृष्टिगोचर है तो जीवन सुखमय और संपत्ति से भरपूर बीतेगा। ऐसे लोगों के जीवन में कोई परेशानी नहीं आती है।

अगर किसी व्यक्ति के पैर के तलवे में कुंडल, चक्र या अंकुश का निशान है तो ऐसा व्यक्ति एक अच्छा शासक बनकर राष्ट्र का प्रतिनिधित्व करता है।

समुद्र शास्त्र में कहा गया है कि अगर किसी व्यक्ति के हाथों या पैसों में मछली, तालाब, हस्ती, छत्र, अंकुश या वीणा जैसे दिखने वाले निशान होते तो ऐसे लोग श्रेष्ठ होते हैं। इन लोगों का जीवन सारी जिंदगी अच्छा रहता है। इन लोगों को जीवन में कोई बड़ी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता।

जिन लोगों के पैर में कमल का निशान होता है उसे भूमि-भवन जैसी सुख सुविधाएं आजीवन प्राप्त होती है। इन लोगों के घर में सदा लक्ष्मी का वास होता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App