ताज़ा खबर
 

इन पांच टोटकों से क्रोध से बचने की है मान्यता

ज्योतिष की मानें तो जन्मकुंडली में मंगल और चंद्रमा का तालमेल बिगड़ने से भी काफी क्रोध आने लगता है। ऐसे में गले में लाल मूंगे के गणेश जी का पेडेंट धारण करने की बात कही गई है।

Author नई दिल्ली | July 4, 2018 7:58 PM
प्रतीकात्मक चित्र।

क्रोध आना एक सामान्य प्रक्रिया बताई गई है। लेकिन कई बार यह क्रोध हमारे रिश्ते भी खराब कर देता है। इसके साथ ही कई लोग ऐसे भी हैं जिन्हें कुछ ज्यादा ही क्रोध आता है। क्या आप जानते हैं कि क्रोध पर नियंत्रण पाने के लिए कुछ टोटके भी अपनाए जाते हैं। यदि नहीं तो आज हम आपको उन पांच टोटकों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनसे क्रोध दूर होने की मान्यता है।

1. मान्यता है कि नियमीत रूप से गणेश जी की पूजा करने से क्रोध से बचा जा सकता है। कहते हैं गणेश जी की कृपा पाने के लिए गणपति अथर्वशीष का पाठ करना चाहिए। इससे एक सुखमय जीवन जीने और क्रोध ना आने की बात कही गई है।

2. ज्योतिष के अनुसार कुंडली में चंद्रमा ग्रह की दशा खराब होने पर व्यक्ति क्रोधी स्वभाव का हो जाता है। कहते हैं कि चंद्रमा की स्थिति मजबूत करने के लिए चांदी की अंगूठी धारण करनी चाहिए। इससे बात-बात पर क्रोध से बचने की मान्यता है।

3. कई बार ऐसा होता है कि परिवार के लोग ही आपकी बात नहीं मानते हैं। इससे आपको उन पर काफी क्रोध आता है। इस क्रोध से बचने के लिए हाथ में चांदी का कड़ा पहनने की बात कही गई है। कहते हैं कि इससे गुस्से पर नियंत्रण रहता है और पारिवारिक रिश्ते खराब नहीं होते।

4. ज्योतिष की मानें तो जन्मकुंडली में मंगल और चंद्रमा का तालमेल बिगड़ने से भी काफी क्रोध आने लगता है। ऐसे में गले में लाल मूंगे के गणेश जी का पेडेंट धारण करने की बात कही गई है।

5. कहते हैं कि गुस्से पर नियंत्रण पाने के लिए नियमीत रूप से दही का सेवन करना चाहिए। मान्यता है कि दही खाने से कुंडली में चंद्रमा की स्थिति मजबूत होती है जिससे व्यक्ति गुस्से का शिकार होने से बचता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App