ताज़ा खबर
 

लक्ष्मी चरण पादुका को घर में स्थापित करने के बताए गए हैं ये लाभ

शास्त्रों में माता लक्ष्मी के चरणों में सोलह शुभ चिह्न बताए गए हैं। ये चिह्न अष्ट लक्ष्मी के दोनों पावों में उपस्थित हैं जो सोलह कलाओं के प्रतीक हैं।

Author नई दिल्ली | November 12, 2018 6:32 PM
लक्ष्मी चरण पादुका।

माता लक्ष्मी को धन की देवी कहा गया है। लक्ष्मी जी की कृपा से ही धन की प्राप्ति होती है। कहते हैं कि जिस व्यक्ति से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं, वे उसकी दरिद्रता को खत्म कर देती हैं। माता लक्ष्मी को वैभव स्वरूप भी बताया गया है। ऐसा कहा जाता है कि माता लक्ष्मी की पूजा-अर्चना करने से जीवन में वैभव का आगमन होता है। मालूम हो कि लक्ष्मी जी को प्रसन्न करने के लिए लोग तरह-तरह के उपाय करते हैं। इन्हीं उपायों में से एक है, घर में लक्ष्मी चरण पादुका स्थापित करना। आज हम आपको इस बारे में विस्तार से बताएंगे कि लोग अपने घरों में लक्ष्मी चरण पादुका क्यों स्थापित करते हैं। और इसे स्थापित करने के क्या लाभ बताए गए हैं।

लक्ष्मी चरण पादुका को बहुत ही शुभ माना गया है। यह अष्ट धातु की बनी होती है। कहते हैं कि लक्ष्मी चरण पादुका जिस स्थान पर भी स्थापित की जाती है, वहां से समस्याओं का नाश हो जाता है। उस स्थान पर निवास करने वाले लोगों की दरिद्रता दूर हो जाती है और उनके जीवन में खुशियों का आगमन होता है। बता दें कि लक्ष्मी चरण पादुका को घर के अलावा दुकान या दफ्तर में भी स्थापित किया जा सकता है। इन जगहों पर लक्ष्मी चरण पादुका स्थापित करने से कार्य में प्रगति होने की बात कही गई है। कहते हैं कि इससे बिजनेस में धनलाभ होना आरंभ हो जाता है।

शास्त्रों में माता लक्ष्मी के चरणों में सोलह शुभ चिह्न बताए गए हैं। ये चिह्न अष्ट लक्ष्मी के दोनों पावों में उपस्थित हैं जो सोलह कलाओं के प्रतीक हैं। यहीं वजह है कि माता लक्ष्मी को षोडशी कहकर भी पुकारा जाता है। ये सोलह कलाएं इस प्रकार से हैं- अन्नमया, प्राणमया, मनोमया, विज्ञानमया, आनंदमया, अतिशयिनी, विपरिनाभिमी, संक्रमिनी, प्रभवि, कुंथिनी, विकासिनी, मर्यदिनी, सन्हालादिनी, आह्लादिनी, परिपूर्ण और स्वरुपवस्थित।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App