ताज़ा खबर
 

इन 5 राशियों पर चल रही है शनि साढ़े साती और ढैय्या, देखें कहीं आपकी राशि भी तो इसमें शामिल नहीं?

ऐसी मान्यता है कि शनि अपनी दशा या महादशा के समय लोगों को उनके कर्मों का ही फल देते हैं। जानिए किन राशियों पर चल रही है शनि साढ़े साती (Shani Sade Sati) और किन पर है शनि ढैय्या (Shani Dhaiya), क्या करें उपाय?

अगर शनि की साढ़े साती या फिर शनि ढैय्या चल रही है तो महामृत्युंजय और शनि मंत्र का जप करना चाहिए।

Shani Sade Sati And Shani Dhaiya 2021: कहते हैं कि शनि की बुरी नजर जिन लोगों पर पड़ती है उन्हें जीवन में कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। वहीं अगर शनि की अच्छी दृष्टि आप पर है तो लाइफ में सुख सुविधाओं की भी कोई कमी नहीं रहती। धार्मिक मान्यतओं अनुसार शनि को न्याय देवता की उपाधि प्राप्त है। ऐसी मान्यता है कि शनि अपनी दशा या महादशा के समय लोगों को उनके कर्मों का ही फल देते हैं। जानिए किन राशियों पर चल रही है शनि साढ़े साती और किन पर है शनि ढैय्या, क्या करें उपाय?

शनि साढ़े साती किन पर है? धनु, मकर और कुंभ वालों पर शनि की साढ़े साती चल रही है। शनि साढ़े साती तीन चरणों में होती है। धनु वालों पर इसका आखिरी चरण चल रहा है। मकर वालों पर शनि साढ़े साती का दूसरा चरण तो कुंभ वालों पर इसका पहला चरण चल रहा है। धनु वालों को 29 अप्रैल 2022 को इससे मुक्ति मिल जाएगी।

शनि ढैय्या किन पर है? मिथुन और तुला वालों पर शनि की ढैय्या चल रही है। साल 2022 में 29 अप्रैल को शनि के कुंभ राशि में प्रवेश करते ही इन दोनों राशियों को शनि ढैय्या से मुक्ति मिल जाएगी। यह भी पढ़ें- विदुर नीति: ये 3 आदतें इंसान को कर देती हैं बर्बाद, इनका तुरंत कर देना चाहिए त्याग

शनि की शांति के उपाय:
-अगर शनि की साढ़े साती या फिर शनि ढैय्या चल रही है तो महामृत्युंजय और शनि मंत्र का जप करना चाहिए।
-कहते हैं भगवान शिव और हनुमान जी की पूजा करने से भी शनि के दोषों से छुटकारा मिल जाता है।
-शनिवार के दिन शनि से संबंधित चीजों का दान करना भी शुभ माना जाता है। शनि की ढैया और साढ़ेसाती से पीड़ित जातकों को शनिवार के दिन तिल, उड़द दाल, लोहा, तेल, काले कपड़ों आदि चीजों का दान करना चाहिए। यह भी पढ़ें- इन 4 राशि वालों के जीवन में धन की नहीं होती कमी, बचत करने में ये लोग होते हैं माहिर

-शनि को प्रसन्न करने के लिए काली चालीसा, श्री दुर्गा सप्तशती का अर्गला स्तोत्र का पाठ करना चाहिए।
-शनि की ढैय्या या साढ़े साती के समय ज्योतिष की सलाह से नीलम रत्न भी धारण कर सकते हैं।
-शनि पीड़ा से मुक्ति पाने के लिए जातकों को हर शनिवार छाया दान करना चाहिए। इसके लिए एक कटोरी लेकर उसमें सरसों का तेल डालें फिर उस कटोरी में अपना चेहरा देखकर उसे तेल सहित शनि दान लेने वाले को दान कर दें। यह भी पढ़ें- अपनी इन 5 चीजों की जानकारी कभी किसी को न दें, जानिए क्या कहती हैं जया किशोरी

Next Stories
1 कुंभ राशि में शुरू होगी गुरु की उल्टी चाल, 5 राशि वालों की खुलेगी किस्मत, देखें क्या आपकी राशि है इसमें शामिल
2 इन बर्थ डेट वालों पर शनि का रहता है प्रभाव, कड़ी मेहनत से ही इन्हें मिलती है सफलता, पीएम मोदी की भी यही है जन्म तारीख
3 अपने Lifestyle पर खूब पैसा खर्च करते हैं इन 4 राशि वाले, हाथ में नहीं टिकता पैसा
ये पढ़ा क्या?
X