ताज़ा खबर
 

Surya Grahan/Solar Eclipse 2019 Date, Timings in India: भारत के दक्षिणी भागों में दिखा सूर्य ग्रहण का अद्भुत नजारा, देखें तस्वीर

Surya Grahan 2019 (Solar Eclipse December 2019) Date and Time, Timings in India: इस बार लगने वाले सूर्य ग्रहण में 6 ग्रह एक साथ हैं केवल एक की ही कमी है। वो 6 ग्रह हैं सूर्य, चंद्रमा, शनि, बुध, बृहस्पति, केतु। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इन 6 ग्रहों के एक साथ होने से सूर्य ग्रहण का प्रभाव लंबे समय तक रहेगा।

Solar Eclipse/Surya Grahan 2019 Date: यह ग्रहण सुबह 8 बजकर 17 मिनट से शुरू होगा और इसका समापन सुबह 10 बजकर 57 मिनट पर होगा।

Surya Grahan/Solar Eclipse December 2019 Date and Time in India: 2019 का आखिरी सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है। खास बात ये है कि इसे भारत में भी देखा जा सकेगा। सूर्य ग्रहण के दौरान कुछ विशेष परिस्थितियां भी बन रही हैं। ज्योतिषियों की माने तो 26 दिसंबर को लगने वाले ग्रहण के समय जो स्थिति बन रही है कुछ वैसी ही स्थिति वर्ष 1962 में बनी थी जब 7 ग्रह एक साथ थे।

विशेष किस्म का चश्मा पहन आसमां ताकते रहे पीएम मोदी, नहीं कर सके सूर्यग्रहण का दीदार, खगोलीय घटना पर 3 वैज्ञानिकों ने समझाया

इस बार लगने वाले सूर्य ग्रहण में 6 ग्रह एक साथ हैं केवल एक की ही कमी है। वो 6 ग्रह हैं सूर्य, चंद्रमा, शनि, बुध, बृहस्पति, केतु। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इन 6 ग्रहों के एक साथ होने से सूर्य ग्रहण का प्रभाव लंबे समय तक रहेगा। यह ग्रहण सुबह 8 बजकर 17 मिनट से शुरू होगा और इसका समापन सुबह 10 बजकर 57 मिनट पर होगा। अलग अलग शहरों में सूर्य ग्रहण के शुरू और समाप्ति होने के समय में थोड़ा बहुत अंतर आ सकता है। सूतक काल का प्रारंभ 25 दिसंबर से ही हो जायेगा।

Solar Eclipse/Surya Grahan 2019 Effects on Zodiac Signs: जानिए साल के आखिरी सूर्य ग्रहण का किन राशियों पर पड़ेगा सकारात्मक प्रभाव और किन्हें होगा कष्ट

ये ग्रहण धनु राशि में लगने जा रहा है जिस दौरान नक्षत्र मूल होगा। इस कारण धनु राशि और मूल नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोगों पर इस ग्रहण का विशेष प्रभाव पड़ेगा। यहां आप जानेंगे भारत के अलावा और किन जगहों पर ये ग्रहण लगने जा रहा है, राशियों पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा, विभिन्न शहरों में इस ग्रहण के लगने का क्या समय रहने वाला है और सभी संबंधित  जानकारी जानने के लिए बने रहिए हमारे इस ब्लॉग पर…

आने वाला साल 2020 कैसा होगा? जानिए अपनी राशि के अनुसार वार्षिक फल:

मेष (Aries ) | वृषभ (Taurus) | मिथुन (Gemini) | कर्क (Cancer) | सिंह (Leo) | कन्या (Virgo) | तुला (Libra) | वृश्चिक (Scorpio) | धनु (Sagittarius) | मकर (Capricorn) | कुंभ (Aquarius) | मीन (Pisces)

सूर्य ग्रहण से संबंधित सभी जानकारी जानने के लिए बने रहिए हमारे इस ब्लॉग पर…

Live Blog

Highlights

    13:37 (IST)26 Dec 2019
    ग्रहण के बाद स्नान के फायदे

    धार्मिक मान्यताओं के अनुसार दो अशुभ ग्रहों राहु और केतु के कारण ग्रहण लगता है। सूर्य ग्रहण के दौराण केतु सूर्य को ग्रसित करता है। इससे नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव बढ़ जाता है। ग्रहों के राजा के ग्रसित हो जाने से आसुरी शक्तियां जागृत हो जाती हैं। वैज्ञानिक दृष्टि से देखें तो रोगाणुओं का प्रभाव बढ़ जाता है। सूर्य से निकलने वाले अल्ट्रावॉयलेट किरणों से स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। इसलिए भी सूर्य ग्रहण के बाद स्वास्थ्य लाभ के लिए स्नान करना चाहिए।

    12:42 (IST)26 Dec 2019
    सूर्य ग्रहण के बाद जरूर करें ये काम

    - घर पर करें गंगाजल का छिड़काव- घर के मंदिर में रखी मूर्तियों को कराएं शुद्ध जल से स्नान- ग्रहण समाप्ति के बाद करें शुद्ध भोजन- ग्रहण समाप्ति के बाद करें दान धर्म का कार्य

    12:10 (IST)26 Dec 2019
    अब भविष्य में कब बनेगा ऐसा योग?

    पं. मनीष शर्मा के अनुसार 26 दिसंबर को  धनु राशि में 6 ग्रहों की युति के साथ सूर्य ग्रहण होने जा रहा है, ये योग 296 साल बाद बना है। गुरुवार को सूर्य, बुध, गुरु, शनि, चंद्र और केतु धनु राशि में रहेंगे। राहु की दृष्टि रहेगी, मंगल वृश्चिक में और शुक्र मकर राशि में रहेगा। इस तरह का सूर्य ग्रहण 7 जनवरी 1723 को 296 साल पहले बना था। अब ऐसा योग 559 साल बाद 9/1/2578 को बनेगा। उस समय सूर्य, बुध, गुरु, शनि, चंद्र और केतु धनु राशि में रहेंगे, राहु की दृष्टि के साथ सूर्य ग्रहण होगा।

    11:30 (IST)26 Dec 2019
    सरकारी नौकरी पाने का भी बन रहा है योग

    ग्रहण कुछ मायने में शुभ भी है। अधिकांश राशि के जातकों के लिए ग्रहण के साथ सरकारी नौकरी पाने के शुभ संकेत भी बन रहे हैं। जातक चाहें तो इस दिशा में भी अपनी किस्‍मत आज़मा सकते हैं। सरकारी नौकरियों की जानकारी देखने के लिए यहां क्लिक करें। 

    11:18 (IST)26 Dec 2019
    म्यांमार में भी सूर्यग्रहण का खूबसूरत नजारा देखने को मिला

    10:52 (IST)26 Dec 2019
    सूर्य ग्रहण वीडियो...

    यूएई में देखिए सूर्य ग्रहण का खूबसूरत नजारा...

    10:25 (IST)26 Dec 2019
    सूर्य ग्रहण का ऐसा पड़ेगा प्रभाव...

    ये सूर्य ग्रहण धनु राशि और मूल नक्षत्र में बना है। इसलिए व्यक्तिगत रूप से धनु राशि और मूल नक्षत्र में जन्मे लोगों पर इस ग्रहण का खास प्रभाव पड़ने वाला है। ज्योतिषियों की मानें तो इस ग्रहण का दुनिया के कई हिस्सों में विनाशकारी प्रभाव पड़ सकता है। राजनीति में कई उथल पुथल देखने को मिलेंगे। महंगाई बढ़ने के आसार रहेंगे। अपराधों में वृद्धि हो सकती है। ये देश की आंतरिक व्यवस्था को पूरी तरह से प्रभावित करता नजर आ रहा है। सूर्य ग्रहण के कारण देश के कुछ राज्यों में कानून व्यवस्था को चुनौती भी मिल सकती है। सूर्य ग्रहण के प्रभाव के चलते राजनीति के धुरधंरों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए राजनीति के लिहाज से इस ग्रहण को ठीक नहीं माना जा रहा है।

    09:21 (IST)26 Dec 2019
    दुबई में सूर्य ग्रहण का दिखा खूबसूरत नजारा...

    दुबई में 'रिंग ऑफ फायर’ की तरह नजर आया सूर्य...

    08:44 (IST)26 Dec 2019
    सूर्य ग्रहण लाइव देखिए यहां...

    शुरू हो चुका है वलयाकार सूर्य ग्रहण। यह सूर्य ग्रहण को देश के दक्षिणी भाग में कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु के हिस्सों देखा जा सकेगा जबकि देश के अन्य हिस्सों में यह आंशिक सूर्य ग्रहण के रूप में दिखाई देगा। इसके साथ ही साथ यह पूर्वी यूरोप, उत्तरी-पश्चिम ऑस्ट्रेलिया और पूर्वी अफ्रीका में भी देखा जा सकेगा।

    08:16 (IST)26 Dec 2019
    धार्मिक मान्यताओं अनुसार राहु केतु के कारण लगता है ग्रहण...

    कहा जाता है कि एक बार समुद्र मंथन से निकले अमृत को लेकर देवों और दानवों के बीच में विवाद उत्पन्न हो गया। हर कोई अमृत पीकर अमर होना चाहता था। इस विवाद को सुलझाने के लिए भगवान विष्णु ने दानवों का ध्यान भटकाने के लिए मोहिनी रूप धारण किया और अमृत सभी में बराबर बांटने की बात कही। भगवान विष्णु ने देवताओं और असुरों को अलग-अलग बिठा दिया। लेकिन असुर छल से देवताओं की लाइन में आकर बैठ गए और अमृत पान कर लिया। देवों की लाइन में बैठे चंद्रमा और सूर्य ने राहू को ऐसा करते देख लिया। जिस बात की जानकारी उन्होंने तुरंत भगवान विष्णु को दे दी, जिसके बाद भगवान विष्णु ने अपने सुदर्शन चक्र से राहू का सर धड़ से अलग कर दिया। क्योंकि राहू ने अमृत पान कर लिया था, जिसके कारण उसकी मृत्यु नहीं हुई और उसके सर वाला भाग राहू और धड़ वाला भाग केतू के नाम से जाना गया। इसी कारण राहू और केतु सूर्य और चंद्रमा को अपना शत्रु मानते हैं और पूर्णिमा और अमावस्या के दिन सूर्य और चंद्रमा का ग्रास कर लेते हैं।

    07:53 (IST)26 Dec 2019
    भारत के इन शहरों में लग रहा है सूर्य ग्रहण...

    नई दिल्ली, मुम्बई, हैदराबाद, बंगलौर, चेन्नई, कोलकाता, अहमदाबाद, सूरत, पुणे, जयपुर, लखनऊ, कानपुर, नागपुर, इन्दौर, ठाणे, भोपाल, विशाखापट्टनम, पटना, लुधियाना, आगरा, मंगलौर, कोयम्बटूर, ऊटी, शिवगंगा, तिरुवनन्तपुरम में सूर्य ग्रहण को देखा जायेगा।

    07:25 (IST)26 Dec 2019
    सूर्य ग्रहण का समय Surya Grahan 2019 Time:

    सूर्य ग्रहण प्रारंभ होगा - 08 बजकर 17 मिनट सेपरमग्रास का समय - 09 बजकर 31 मिनट परग्रहण कब खत्म होगा - 10 बजकर 57 मिनट परग्रहण काल यानी खण्डग्रास कितने समय रहेगा - 02 घंटे 40 मिनट 06 सेकेंड

    21:57 (IST)25 Dec 2019
    सूर्य ग्रहण पर कई सालों बाद बन रहा है ऐसा संयोग

    26 दिसंबर को सूर्य ग्रहण लग रहा है। 144 साल बाद ऐसा सूर्य ग्रहण है जिसका दुष्प्रभाव सभी राशियों पर पड़ेगा। इसके अलावा ग्रहण के 10 दिनों के अंदर भूकंप, सुनामी और बर्फबारी का भयानक खतरा आने वाला है।

    21:26 (IST)25 Dec 2019
    जानिए, भारत के अलावा किन-किन देशों में दिखाई देगा सूर्य ग्रहण

    गुरुवार का सूर्य ग्रहण सऊदी अरब, कतर, संयुक्त अरब अमीरात, ओमान, भारत, श्रीलंका, मलेशिया, इंडोनेशिया, सिंगापुर, उत्तरी मारियाना द्वीप और गुआम में दिखाई देगा।

    20:41 (IST)25 Dec 2019
    मान-सम्मान में कमी, नौकरी और बिजनेस में कराएगा नुकसान

    धनु मास चल रहा है जिसे अशुभ मलमास माना जाता है. इससे आपके मान-सम्मान में कमी आ सकती है. बिजनेस में बड़ा नुकसान हो सकता है। नौकरी पर भी आंच आ सकती है। ज्योतिषीय योग के हिसाब से इस वक्त युद्ध जैसे हालात बनते भी नजर आ रहे हैं।

    20:10 (IST)25 Dec 2019
    भूकंप, बारिश और फसलों की तबाही की आशंका

    प्राकृतिक आपदा के रूप में भूकंप, भारी वर्षा या भयंकर बर्फबारी की आशंका है। ओलावृष्टि से सबसे ज्यादा खतरा फसलों को होगा। गन्ने की फसल को सबसे ज्यादा नुकसान हो सकता है। ग्रहण लगने के 15 दिन पहले और 15 दिन बाद संभलकर रहने की जरूरत होती है।

    19:35 (IST)25 Dec 2019
    जातकों को ऐसे पहुंचाएंगे कष्ट

    राहू केतु छाया ग्रह हैं जिसके प्रभाव से चंद्रमा और सूर्य भी नहीं बच पाते। इसलिए अगर ये कुंडली में बुरे भाव में जाकर बैठ जाएं तो जातक को काफी कष्टों का सामना भी करना पड़ सकता है।

    19:03 (IST)25 Dec 2019
    सूर्य ग्रहण में खाना, बच्चों और भगवान को ऐसे बचाएं

    किसी भी ग्रहण का सूतक शुरू होने से पहले खाने पीने की सभी वस्तुओं में तुलसी के पत्ते डालकर रख देने चाहिए। इससे खाना दूषित नहीं होता। सूतक काल के समय छोटे बच्चों को अकेला कभी भी न छोड़ें। घर के मंदिर के दरवाजे सूर्य ग्रहण लगते ही बंद कर दिये जाते हैं। अगर मंदिर खुले में है तो भगवान की मूर्तियों पर परदा डाल दें।

    18:31 (IST)25 Dec 2019
    सूर्य ग्रहण के दौरान भी ये 5 चीजें रहती हैं पवित्र

    ज्योतिषविद्या की मानें तो सूर्यग्रहण को शुभ नहीं माना गया है। इस दौरान बहुत से काम करना वर्जित बताया गया है। हालांकि, 5 ऐसी चीजें हैं जिनका प्रयोग सूर्यग्रहण के दौरान किया जा सकता है। तुलसी, गंगाजल, तिल, कुश और जौ सूर्यग्रहण के दौरान भी पवित्र रहते हैं।

    17:56 (IST)25 Dec 2019
    सूतक काल में क्या न करें

    ग्रहण का सूतक काल लगते ही बुरी शक्तियां प्रबल हो जाती हैं इसलिए सूतक काल के समय किसी भी सुनसान जगह या शमशान आदि के पास से न गुजरें।

    17:15 (IST)25 Dec 2019
    जानिए कहां दिखेगा वलयाकार सूर्य ग्रहण...

    वर्ष के इस अंतिम सूर्य ग्रहण को भारत समेत नेपाल, पाकिस्तान, श्रीलंका, बांग्लादेश, भूटान, चीन, ऑस्ट्रेलिया आदि देशों में असर दिखाई देगा। वैज्ञानिकों की मानें तो दक्षिण भारत में यह सबसे बेहतर तरीके से दिखाई देगा। इस सूर्य ग्रहण की कुल अवधि करीब 3.30 घंटे की रहेगी। जबकि भारत में सूर्य ग्रहण सुबह 8.04 बजे से शुरू हो जायेगा। ग्रहण के शुरू और समाप्त होने का समय अलग-अलग स्थानों पर अलग-अलग होगा। कोयम्बटूर, ऊटी, शिवगंगा, तिरुवनन्तपुरम, टेलिचेरी, अल होफुफ, सिंगापुर में वलयाकार सूर्य ग्रहण दिखेगा।

    16:47 (IST)25 Dec 2019
    Solar Eclipse 2019 Effects On Rashi:

    26 दिसंबर को वलयाकार सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है। जिसका कई राशियों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। खासकर मेष, वृष, सिंह और कन्या राशि के जातकों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। दुश्मनों से सतर्क रहने की जरूरत पड़ेगी। जानिए किन राशि वालों के लिए कैसा रहेगा साल का ये आखिरी सूर्य ग्रहण…Surya Grahan Effects On Rashi 

    16:12 (IST)25 Dec 2019
    कैसा दिखेगा वलयाकार सूर्य ग्रहण का नजारा?

    इस ग्रहण के दौरान चन्द्रमा की छाया सूर्य के केन्द्र के साथ मिलकर सूर्य के चारों ओर एक वलयाकार आकृति बनायेगी। इस प्रक्रिया में सूर्य का 97 % भाग चंद्रमा द्वारा ढक जायेगा। लेकिन सूर्य का बाहरी हिस्सा प्रकाशित रहेगा। जिस कारण सूर्य इस दौरान एक आग की अंगूठी की तरह नजर आयेगा। इस सूर्य ग्रहण की सर्वाधिक लम्बी अवधि 3 मिनट और 39 सेकण्ड की होगी।

    15:55 (IST)25 Dec 2019
    सूर्य ग्रहण का समय...

    सूर्य ग्रहण का प्रारम्भ - 08:17 ए एमपरमग्रास - 09:31 ए एमग्रहण समाप्ति - 10:57 ए एमखण्डग्रास की अवधि - 02 घण्टे 40 मिनट्स 06 सेकण्ड्ससूतक प्रारम्भ समय - 08:10 पी एम, दिसम्बर 25 सेसूतक समाप्त - 10:57 ए एम

    15:36 (IST)25 Dec 2019
    2020 Grahan: जानिए नये साल में कब कौन सा ग्रहण लगेगा...

    10 जनवरी - चंद्र ग्रहण

    5 जून - चंद्र ग्रहण

    21 जून - सूर्य ग्रहण

    5 जुलाई - चंद्र ग्रहण

    30 नवंबर -चंद्र ग्रहण

    14 दिसंबर - सूर्यग्रह

    14:11 (IST)25 Dec 2019
    Surya Grahan 2019: (सूर्य ग्रहण का प्रभाव आपके ऊपर कैसा पड़ने वाला है)

    ज्योतिष अनुसार चाहे कोई भी ग्रहण हो उसका राशियों पर कुछ न कुछ असर जरूर पड़ता है। 26 दिसंबर को वलयाकार सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है। जिसका कई राशियों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। खासकर मेष, वृष, सिंह और कन्या राशि के जातकों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। दुश्मनों से सतर्क रहने की जरूरत पड़ेगी। जानिए किन राशि वालों के लिए कैसा रहेगा साल का ये आखिरी सूर्य ग्रहण…

    13:33 (IST)25 Dec 2019
    ग्रहण लगने के वैज्ञानिक और धार्मिक कारण...

    सूर्य ग्रहण लगने के वैज्ञानिक और धार्मिक दोनों ही कारण हैं। विज्ञान के अनुसार सूर्य ग्रहण लगना एक फेस्टिवल की तरह ही है क्योंकि उससे उन्हें ब्रह्मांड के बारे में और भी ज्यादा जानने का मौका मिलता है। विज्ञान अनुसार सूर्य ग्रहण तब लगता है जब चंद्रमा आंशिक या पूर्ण रूप से सूर्य को अपनी छाया से कवर कर लेता है। इस प्रक्रिया में चांद सूर्य और धरती के बीच में आ जाता है। तो वहीं धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ग्रहण राहु केतु के द्वारा लगाया जाता है। क्योंकि ये  सूर्य और चंद्रमा को अपना दुश्मन मानते हैं। 

    12:53 (IST)25 Dec 2019
    कब होता है वलयाकार सूर्य ग्रहण...

    वलयाकार सूर्य ग्रहण उस समय घटित होता है, जब चंद्रमा पृथ्वी से बहुत दूर होते हुए भी पृथ्वी और सूर्य के बीच में आ जाता है। इस कारण चंद्रमा पूरी तरह से पृथ्वी को अपनी छाया में नहीं ले पाता है। वलयाकार सूर्य ग्रहण में सूर्य के बाहर का क्षेत्र प्रकाशित होता रहता है। इस घटना को वलयाकार सूर्य ग्रहण कहते हैं।

    12:31 (IST)25 Dec 2019
    वलयाकार सूर्य ग्रहण इन जगहों पर दिखेगा...

    यह सूर्य ग्रहण भारत, श्रीलंका, सऊदी अरब, सुमात्रा तथा बोर्नियो में दिखाई देगा। ऊटी, मंगलुरु, कासरगोड, करूर, कोझिकोड, टेलिचेरी, कोयम्बटूर, शिवगंगा, तिरुचिरापल्ली, जाफना, अल होफुफ तथा सिंगापुर कुछ प्रसिद्ध शहर हैं जहाँ पर वलयाकार सूर्यग्रहण दिखाई देगा।

    12:31 (IST)25 Dec 2019
    26 दिसंबर को लगने वाला सूर्य ग्रहण कैसा होगा?

    26 दिसम्बर, 2019 का ग्रहण वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा। इसका परिमाण 0.97 होगा। यह पूर्ण सूर्यग्रहण नहीं होगा क्योंकि चन्द्रमा सूर्य का मात्र 97% भाग ही ढकेगी। आकाशमण्डल में चन्द्रमा की छाया सूर्य के केन्द्र के साथ मिलकर सूर्य के चारों ओर एक वलयाकार आकृति बनायेगी। इस सूर्य ग्रहण सर्वाधिक लम्बी अवधि 3 मिनट और 39 सेकण्ड की होगी।

    11:55 (IST)25 Dec 2019
    सूतक काल में क्या करें...

    – सूर्य ग्रहण के सूतक काल में पूजा पाठ मना होता है लेकिन आप अपने ईष्ट देव के मंत्रों का जाप कर सकते हैं। अगर आप अपने ईष्ट देवता के बारे में नहीं जानते तो किसी भी भगवान के मंत्रों का जाप कर सकते हैं। – किसी भी ग्रहण का सूतक शुरू होने से पहले खाने पीने की सभी वस्तुओं में तुलसी के पत्ते डालकर रख देने चाहिए। इससे खाना दूषित नहीं होता। – सूतक काल के समय छोटे बच्चों को अकेला कभी भी न छोड़ें। – गर्भवती महिलाएं सूतक काल के समय घर से न निकलें। इस बात का ध्यान रखें की ग्रहण की छाया आपके गर्भ में पल रहे बच्चे पर नहीं पड़नी चाहिए। – घर के मंदिर के दरवाजे सूर्य ग्रहण लगते ही बंद कर दिये जाते हैं। अगर मंदिर खुले में है तो भगवान की मूर्तियों पर परदा डाल दें। – सूतक काल समाप्त होने के बाद पीने के पानी को बदल दें। – सूर्य ग्रहण का सूतक खत्म होने के बाद स्नान कर लें। – सूतक काल की समाप्ति के बाद दान जरूर करना चाहिए। इससे ग्रहण का बुरा प्रभाव नहीं पड़ेगा।

    11:22 (IST)25 Dec 2019
    Surya Grahan Effects On Rashi: सूर्य ग्रहण का राशियों पर प्रभाव...

    सूर्य ग्रहण मेष राशि के भाग्य भाव को प्रभावित करेगा। इस दौरान आप अपने ईष्ट देव के मंत्र जाप या हनुमान चालीसा का पाठ करें। वृष राशि के अष्टम भाव को प्रभावित करेगा। गणपति की आराधना आपके लिए उत्तम रहेगी। मिथुन के सातवें भाव को प्रभावित करेगा। भगवान विष्णु व श्रीकृष्ण की प्रार्थना करें। कर्क राशि के छठवें भाव को प्रभावित करेगा इसलिए आप शिव आराधना करें। सिंह राशि के पांचवें भाव पर ग्रहण लगेगा। आदित्य ह्दय स्त्रोत का पाठ करें। कन्या चतुर्थ भाव के प्रभाव को सूर्यदेव की अराधना करके समाप्त कर सकते हैं। तुला राशि के तीसरे भाव को ग्रहण प्रभावित करेगा। मां दुर्गा की उपासना से समस्याओं का निदान होगा । वृश्चिक राशि के दूसरे भाव के कारण परेशानी आएगी। सुंदरकांड का पाठ करें। धनु राशि के लग्न को प्रभावित करेगा। विष्णु सहस्रनाम के पाठ से कष्टों का शमन होगा। मकर के 12 वें भाव के प्रभाव से आने वाली समस्या शिव उपासना से दूर होगी। कुंभ के 11 वें भाव को प्रभावित करेगा। सरसों तेल का दीपक जलाएं। मीन राशि 10 वें भाव के प्रभाव से पिता को कष्ट होगा। निर्धनों को गेहूं का दान करें।

    10:50 (IST)25 Dec 2019
    सूतक काल में क्या न करें (What should you not do during a Surya Grahan Sutak):

    ग्रहण का सूतक काल लगते ही बुरी शक्तियां प्रबल हो जाती हैं इसलिए सूतक काल के समय किसी भी सुनसान जगह या शमशान आदि के पास से न गुजरें। गर्भवती महिलाएं ग्रहण और सूतक काल के प्रारंभ होते ही कुछ भी चाकू एवं छुरी का इस्तेमाल न करें। साथ ही सलाई कढ़ाई का काम भी नहीं करना चाहिए। सूतक काल प्रारंभ होने के बाद कुछ भी नहीं खाना चाहिए। सूतक काल के दौरान सोना भी नहीं चाहिए लेकिन बच्चों, वृद्ध और बीमार लोगों पर ये मान्य नहीं है। सूतक काल के दौरान तुलसी के पत्तों को न तोड़ें। सूतक काल लगते ही भगवान की प्रतिमाओं को भी नहीं छूना चाहिए। सूतक काल के दौरान शारीरिक संबंध भी नहीं बनाने चाहिए। सूतक काल लगने पर खुली आंखों से सूर्य को न देखें इसका बुरा प्रभाव आप पर पड़ सकता है। ग्रहण के समय शुभ काम की शुरुआत न करें।

    10:28 (IST)25 Dec 2019
    सूर्य ग्रहण से मिल रहे ये संकेत...

    ग्रहण के स्पर्श के मुताबिक सूतक बुधवार की शाम सवा आठ पांच बजे से लगेगा। आज यानी बुधवार को ही मंगल का राशि परिवर्तन होगा। वह तुला से वृश्चिक में प्रवेश करेंगे। वहीं गुरुवार को ग्रहण के साथ ही धनु राशि में केतु के साथ छह ग्रहों की युति हो रही है। इसके कारण सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक व सामरिक हर दृष्टि से अशुभ संकेत मिल रहे हैं।

    09:54 (IST)25 Dec 2019
    Surya Grahan 26 December 2019: यहां दिखाई देगा सूर्य ग्रहण

    यह सूर्य ग्रहण भारत, श्रीलंका, सऊदी अरब, सुमात्रा, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और बोर्नियो में दिखाई देगा। ऊटी, कोयंबटूर, शिवगंगा, तिरुचिरापल्ली, अल होफुफ और सिंगापुर के कुछ प्रसिद्ध शहरों में वलयाकार सूर्य ग्रहण दिखाई देगा। वहीं मुंबई, बेंगलुरु, दिल्ली, चेन्नई, मैसूर, कन्याकुमारी, रियाद, दोहा, अबू धाबी, मस्कट, कुवैत सिटी, कराची, कुआलालंपुर, जकार्ता और भारत के कुछ प्रसिद्ध शहरों में आंशिक सूर्य ग्रहण दिखाई देगा।

    09:25 (IST)25 Dec 2019
    Surya Grahan 2019: कल लगेगा साल का आखिरी सूर्य ग्रहण, यहां जानिए कब से शुरू हो जायेगा सूतक काल...

    ग्रहण प्रारम्भ काल - 08:17 ए एमपरमग्रास - 09:31 ए एमग्रहण समाप्ति काल - 10:57 ए एमखण्डग्रास की अवधि - 02 घण्टे 40 मिनट्स 06 सेकण्ड्सअधिकतम परिमाण - 0.55सूतक प्रारम्भ - 05:31 पी एम, दिसम्बर 25सूतक समाप्त - 10:57 ए एमबच्चों, बृद्धों और अस्वस्थ लोगों के लिये सूतक प्रारम्भ - 03:47 ए एमबच्चों, बृद्धों और अस्वस्थ लोगों के लिये सूतक समाप्त - 10:57 ए एम

    09:00 (IST)25 Dec 2019
    ये वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा...

    26 दिसम्बर, 2019 का ग्रहण वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा। यह पूर्ण सूर्यग्रहण नहीं होगा क्योंकि चन्द्रमा की छाया सूर्य का मात्र 97% भाग ही ढकेगी। आकाशमण्डल में चन्द्रमा की छाया सूर्य के केन्द्र के साथ मिलकर सूर्य के चारों ओर एक वलयाकार आकृति बनायेगी। इस सूर्य ग्रहण सर्वाधिक लम्बी अवधि 3 मिनट और 39 सेकण्ड की होगी।

    08:18 (IST)25 Dec 2019
    सूर्य ग्रहण से जुड़ी कुछ जरूरी बातें

    पृथ्वी सूरज की परिक्रमा करती है और चाँद पृथ्वी की। कभी-कभार इस प्रक्रिया में चाँद, सूरज और धरती के बीच में आ जाता है। जिससे सूरज की कुछ या फिर सारी रोशनी धरती पर आने से रूक जाती है। जिससे धरती पर अंधेरा फैल जाता है। इसी घटना को सूर्य ग्रहण कहा जाता है। यह घटना अमावस्या के दिन होती है।

    07:45 (IST)25 Dec 2019
    दो साल का पहला पूर्ण सूर्यग्रहण होगा कल

    साल का आखिरी पूर्ण सूर्यग्रहण भारत समेत अन्य देशों में भी प्रभावी तौर पर नजर आएगा। यह साल का तीसरा सूर्यग्रहण है, लेकिन पूर्ण सूर्यग्रहण के तौर पर देखें तो ये दो साल में पहला ग्रहण होगा। इससे पहले 6 जनवरी और 2 जुलाई को भी आंशिक सूर्यग्रहण पड़ा था।

    04:30 (IST)25 Dec 2019
    आज रात 8 बजे से बंद हो जाएंगे मंदिरों के कपाट

    साल का आखिरी सूर्य ग्रहण कल यानी 26 दिसंबर को लगने वाला है। लेकिन इसका सूतक काल आज रात 8 बजे से ही लग जाएगा। इस कारण देशभर के कई मंदिरों में संध्या आरती के बाद कपाट बंद कर दिए जाएंगे। इसके बाद 26 दिसंबर को ग्रहण काल से मोक्ष मिलने के बाद ही भगवान के पुन: दर्शन हो सकेंगे।

    17:31 (IST)24 Dec 2019
    तुला और वृश्चिक राशि वालों पर ग्रहण का असर...

    यह ग्रहण आपको धनलाभ एवं शुभ फल देगा। इन दिनों में की गयी यात्रा सफल होगी। निजी व्यवसाय में अधिक धन प्राप्त होगा। परिवार का माहौल अच्छा रहेगा। तो वहीं वृश्चिक राशि के जातकों के लिए ये ग्रहण अशुभ फल प्रदान करेगा। साझेदारी के काम में हानि झेलनी पड़ सकती है। खर्चों में बढ़ोतरी के आसार रहेंगे।

    16:56 (IST)24 Dec 2019
    सूर्य ग्रहण का सिंह और कन्या राशि वालों पर क्या होगा असर (Surya Grahan Rashi Effects):

    इस ग्रहण से आप चिन्ताग्रस्त हो सकते हैं। बिना सोचे गलत निर्णय ले सकते हैं। पूर्व में प्रारम्भ किये गये कार्यों में सतर्कता बरतने की जरूरत होगी। अपच तथा पेट दर्द की समस्या बनी रहेगी। तो वहीं कन्या राशि वालों के लिए भी ये ग्रहण कष्टकारी साबित होने वाला है। मन अशांत रहेगा। दुर्घटना के प्रबल आसार हैं।

    16:24 (IST)24 Dec 2019
    सूर्य ग्रहण का कर्क राशि पर प्रभाव (Surya Grahan Effects On Kark Rashi):

    यह ग्रहण आपको सुख प्रदान करने वाला रहेगा। शत्रुओं एवं विरोधियों पर आप अपने विजय प्राप्ति कर पायेंगे। किसी भी कार्य में किये गये श्रम का उचित पारिश्रमिक फल प्राप्त होगा। इस दौरान ऋण से मुक्ति मिलेगी। गंभीर रोग से छुटकारा मिल सकता है। 

    16:01 (IST)24 Dec 2019
    सूर्य ग्रहण का सूतक:

    सूर्य ग्रहण का सूतक 25 दिसंबर को शाम 5 बजकर 31 मिनट से शुरू हो जायेगा। जिस दौरान किसी भी तरह के शुभ कार्य नहीं किये जाते और खाने पीने की चीजों में तुलसी के पत्ते डालकर रख दिये जाते हैं। गर्भवती महिलाओं को सूतक लगते ही घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए। 

    15:24 (IST)24 Dec 2019
    सूर्य ग्रहण का मिथुन राशि वालों पर प्रभाव (Surya Grahan Effects On Mithun Rashi)...

    इस ग्रहण का असर आपके दांपत्य जीवन में पड़ सकता है। साझेदार के काम में मनमुटाव को दूर रखें। व्यवसाय को लेकर कठिन परिश्रम करने की जरूरत पड़ेगी। कार्यस्थल पर किसी के उकसावे में आकर कोई निर्णय न लें। 

    14:54 (IST)24 Dec 2019
    वृषभ वालों पर सूर्य ग्रहण का प्रभाव (Surya Grahan Effects On Vrishabha Rashi):

    यह ग्रहण आपको अत्यन्त कष्टदायक परिस्थिति का अनुभव करा सकता है। स्वास्थ्यहीनता, दुर्घटना का भय, चिन्ता, अनावश्यक वाद-विवाद , मित्रों से छोटी-मोटी बातों में शत्रुता हो सकती है। यदि आप पहले से अस्वस्थ हैं, तो थोड़ी सावधानी रखें। खान-पान और व्यायाम का विशेष ध्यान रखें। 

    14:27 (IST)24 Dec 2019
    मेष वालों पर ग्रहण का प्रभाव (Surya Grahan Effects On Aries) :

    इस ग्रहण से आपको अपमान या मान हानि जैसे अशुभ फल की प्राप्ति हो सकती है। छोटे-मोटे आर्थिक संकट से समस्या हो सकती है। व्यवसाय करने वाले जातक सतर्क रहें। आलस्य, थकावट एवं निर्बलता की समस्या रहेगी। अपने लोगों से वाद विवाद हो सकता है।

    13:56 (IST)24 Dec 2019
    सूर्यग्रहण के दौरान इन बातों का रखें ध्यान?

    - सूर्य ग्रहण के दौरान नंगी आंखों से सूरज को न देखें। इससे आपकी आंखों को नुकसान पहुंच सकता है।

    - सूर्यग्रहण देखने के लिए सोलर फिल्टर चश्मे का इस्तेमाल करें।

    - सोलर फिल्टर चश्मे को सोलर-व्युइंग ग्लासेस, पर्सनल सोलर फिल्टर्स या आइक्लिप्स ग्लासेस भी कहा जाता है। सूर्यग्रहण के दौरान सूरज को पिनहोल, टेलेस्कोप या फिर दूरबीन से भी न देखें।

    13:28 (IST)24 Dec 2019
    जानिए सूर्य ग्रहण लगने के धार्मिक कारण...

    मान्यता के अनुसार जब समुद्र मंथन के बाद अमृतपान को लेकर देवगण और दानवों के बीच विवाद शुरू हुआ तो भगवान विष्णु मोहिनी का रूप रखकर आए। मोहिनी को देखकर सभी दानव मोहित हो गए। मोहिनी ने दैत्यों और देवगणों को अलग अलग बैठा दिया और पहले देवताओं को अमृतपान पिलाना शुरू कर दिया। मोहिनी की चाल को एक असुर समझ गया और देवताओं के बीच चुपचाप जाकर बैठ गया। धोखे से मोहिनी ने उसे अमृतपान दे दिया। लेकिन तभी देवताओं की पंक्ति में बैठे चंद्रमा और सूर्य ने उसे देख लिया और भगवान विष्णु को बताया। इससे क्रोधित होकर भगवान विष्णु ने दानव का गला काटकर सुदर्शन चक्र से अलग कर दिया। चक्र से दानव के शरीर के दो टुकड़े तो हो गए लेकिन वो मरा नहीं क्योंकि तब तक वो अमृतपान पी चुका था। उस दानव का सिर का हिस्सा राहू और धड़ का हिस्सा केतू कहलाया। राहू—केतू खुद के शरीर की इस हालत का जिम्मेदार सूर्य और चंद्रमा को मानते हैं, इसलिए राहू हर साल पूर्णिमा और अमावस्या के दिन सूर्य और चंद्रमा का ग्रास कर लेते हैं। इसे सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण कहा जाता है।

    12:54 (IST)24 Dec 2019
    विज्ञान अनुसार जानिए ग्रहण में क्यों नहीं करना चाहिए भोजन

    वैज्ञानिकों का कहना है कि ग्रहण के दौरान कुछ विकिरण वातावरण में मिलकर पृथ्वी पर पहुंचती हैं और ये विकिरण मनुष्य की सेहत के लिए हानिकारक होती हैं। जिससे बहुत जल्दी भोजन में बैक्टीरिया फैल जाता है। फिर ऐसे में शरीर को तो कई तरह की बीमारियों का सामना करना ही पड़ता ही है। सेहत के लिए ग्रहण के समय भोजन करना अच्छा नहीं माना गया है।

    Next Stories
    1 Numerology 2020: जानिए किस मूलांक वालों के लिए कैसा रहने वाला है साल 2020
    2 Rashifal Today, 24 December 2019: वृष वालों को हो सकता है धन लाभ, सोच समझकर बड़ा निर्णय लें धनु राशि के जातक
    3 लव राशिफल 24 December: वृष राशि के जातकों की लव लाइफ में अड़चन, धनु वालों का लव पार्टनर के साथ रिश्ता होगा मजबूत
    ये पढ़ा क्या?
    X