ताज़ा खबर
 

Surya Grahan 2018: सूर्य ग्रहण के समय भोजन नहीं करने के पीछे है ये मान्यता

Surya Grahan 2018 Today, Solar Eclipse 13 July 2018 Today: शास्त्रों में ऐसा कहा गया है कि ग्रहण के दौरान भोजन करने वाला व्यक्ति पाप का भागी होता है। कहते हैं कि जो व्यक्ति ग्रहण के समय भोजन करता है, उसके 12 वर्षों के पुण्य कार्य समाप्त हो जाते हैं।

Author नई दिल्ली | July 13, 2018 1:19 PM
ऐसी मान्यता है कि सूर्य ग्रहण के दौरान निकलने वाला विकिरण भोजन को दूषित कर देता है।

Surya Grahan 2018 Today, Solar Eclipse 13 July 2018 Today: 13 जुलाई को साल 2018 का दूसरा सूर्य ग्रहण लगने वाला है। इसे लेकर लोगों के मन में कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। दरअसल हमारे देश में ग्रहण(सूर्य ग्रहण या चंद्र ग्रहण) को लेकर कई तरह की मान्यताएं प्रचलित हैं। हमारे यहां ग्रहण का लगना शुभ नहीं माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि जब भगवान पर संकट की घड़ी आती है, उस वक्त ग्रहण लगता है। ऐसी मान्यता है कि सूर्य ग्रहण के दौरान भोजन नहीं करना चाहिए। इसके साथ ही सूर्य ग्रहण के दौरान भोजन पकाने के लिए भी मना किया गया है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसके पीछे सच्चाई क्या है। यदि नहीं तो आज हम आपको इस बारे में विस्तार से बताने जा रहे हैं।

शास्त्रों में ऐसा कहा गया है कि ग्रहण के दौरान भोजन करने वाला व्यक्ति पाप का भागी होता है। कहते हैं कि जो व्यक्ति ग्रहण के समय भोजन करता है, उसके 12 वर्षों के पुण्य कार्य समाप्त हो जाते हैं। इसलिए ग्रहण के दौरान भोजन करने व पकाने से मना किया जाता है। ऐसी मान्यता है कि सूर्य ग्रहण के दौरान निकलने वाला विकिरण भोजन को दूषित कर देता है। कहा जाता है कि यह दूषित भोजन करने से सेहत खराब हो सकती है। इसके अलावा ग्रहण के दौरान किए गए भोजन से अपच होने की भी बात कही गई है।

उल्लेखनीय है कि सूर्य ग्रहण के दौरान सोने से भी मना किया जाता है। ऐसा कहते हैं कि ग्रहण के समय सोने से सेहत पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। कुछ अन्य मान्यताओं के अनुसार ग्रहण के समय मलमूत्र का त्याग भी नहीं करना चाहिए। बता दें कि 13 जुलाई को सुबह के समय सूर्य ग्रहण पड़ेगा। सूर्य ग्रहण सुबह 7 बजकर 18 मिनट 23 सेकंड से शुरू होगा, जो कि 8 बजकर 13 मिनट 5 सेकंड तक रहेगा। इस बार सूर्य ग्रहण का माध्यम काल 8 बजकर 13 मिनट 5 सेकंड पर होगा और मोक्ष 9 बजकर 43 मिनट 44 सेकंड पर होगा।

बता दें कि सूर्य ग्रहण के बाद अनाज दान करने को शुभ बताया गया है। कहते हैं कि सूर्य ग्रहण समाप्त होते गरीबों को भोजन कराना चाहिए। इससे पुण्य मिलने की मान्यता है। ऐसा भी कहा जाता है कि सूर्य ग्रहण समाप्त होने के बाद अपने वजन के बराबर सात तरह के अनाजों का दान करना चाहिए। इसके साथ ही सूर्य ग्रहण के दौरान महामृत्युंजय जाप करने को शुभ माना गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App