scorecardresearch

Sturgeon Supermoon 2022: आज भारत में दिखाई देगा दुर्लभ और अद्भुत नजारा, जानें- साल के आखिरी ‘सुपरमून’ की खासियत

2022 के सबसे बड़े सुपरमून के बाद साल का चौथा और आखिरी सुपरमून 11 अगस्त को दिखाई देगा। इसे स्टर्जन मून भी कहा जाता है। अगस्त के महीने में दिखाई देने वाली पूर्णिमा को स्टर्जन मून कहते हैं।

Sturgeon Supermoon 2022: आज भारत में दिखाई देगा दुर्लभ और अद्भुत नजारा, जानें- साल के आखिरी ‘सुपरमून’ की खासियत
August Supermoon: इस माह पूर्णिमा के दिन चंद्रमा बड़ा और उज्ज्वल दिखाई देगा। (Image: Pixabay)

Sturgeon Moon 2022: अगर आप पिछले महीने सुपरमून देखने से चूक गए तो गुरुवार को फिर से देख पाएंगे। 2022 के सबसे बड़े सुपरमून के बाद साल का चौथा और आखिरी सुपरमून 11 अगस्त को दिखाई देगा। इसे स्टर्जन मून भी कहा जाता है। यह गुरुवार (11 अगस्त) को पूरी दुनिया में दिखाई देगा। इससे पहले दो सुपरमून देखे जा चुके हैं। उनके नाम थे स्ट्राबेरी मून और थंडर मून।

यह है साल का आखिरी सुपरमून (Last Supermoon of the Year)

स्टर्जन सुपरमून पूर्णिमा की रात को दिखाई देगा। सुपरमून रात में लगभग 01:36 GMT पर चरम पर होगा। बुधवार से शुक्रवार तक चंद्रमा पूर्ण चमक और परिपूर्णता में दिखाई देगा। चंद्रमा में परिवर्तन बहुत धीमा होगा, जिससे यह पूर्णिमा की तरह दिखेगा।

भारत में 12 अगस्त को दिखाई देखा सुपरमून

भारत में आखिरी सुपरमून 12 अगस्त को दिखेगा। भारत में लोग इस दुर्लभ खगोलीय घटना को बिना दूरबीन या उपकरण के सीधे अपनी आंखों से देख सकेंगे। अगस्त के महीने में दिखाई देने वाली पूर्णिमा को स्टर्जन मून कहा जाता है क्योंकि अगस्त के महीने में उत्तरी अमेरिका में स्टर्जन मछली पाई जाती है।

अगस्त 2022 सुपरमून: समय और तारीख (August 2022 supermoon: Time and date)

स्टर्जन सुपरमून गुरुवार (11 अगस्त) की पूर्णिमा की रात को दिखाई देगा। सुपरमून रात में लगभग 01:36 बजे GMT के आसपास अपने चरम पर यानी पूर्ण रूप में होगा। हालांकि, सुपरमून रात- बुधवार (10 अगस्त) और शुक्रवार (12 अगस्त) से पहले और बाद की रात में भी चंद्रमा लगभग अपनी चमक और पूर्णता में दिखाई देगा।

इस दिन चमकीला दिखाई देता है चांद

सुपरमून तब दिखाई देता है जब चंद्रमा पृथ्वी से 3,60,000 किमी या उससे कम की दूरी पर होता है। इसे पहली बार 1979 में ज्योतिषी रिचर्ड नोल ने सुपरमून नाम दिया था। सुपरमून साल में 3 से 4 बार होता है। इस दिन चंद्रमा पृथ्वी के सबसे करीब होता है। इसलिए बड़ा वाला 16 प्रतिशत अधिक चमकीला दिखाई देता है। सुपरमून का असर समुद्र पर भी दिखेगा। सुपरमून के कारण समुद्र में उच्च और निम्न ज्वार की एक बड़ी श्रृंखला देखी जा सकती है।

12 अगस्त को पृथ्वी के करीब होगा चंद्रमा

12 अगस्त को स्टर्जन मून के दिन चंद्रमा पृथ्वी के काफी करीब होगा। यही कारण है कि सामान्य दिनों में हम जो चंद्रमा देखते हैं, वह उससे बड़ा और चमकीला दिखाई देगा। खगोलीय घटनाओं के अनुसार इस दौरान शुक्र और मंगल भी दिखाई दे रहे हैं।

कैसे हुआ नामकरण

कहा जाता है कि सुपर मून या स्टर्जन मून का नाम वर्ष 1930 से लिया जा रहा है। उस समय, सुपर मून नाम सबसे पहले किसान अलमानेक द्वारा निर्धारित किया गया था। उस दौरान अप्रैल में दिखने वाले सुपरमून का नाम पिंक मून रखा गया था। उस दौरान सुपरमून का नाम अमेरिका में पाए जाने वाले एक पौधे के नाम पर रखा गया था।

आइए जानते हैं कि हर माह के फूल मून को किन नामों से जाना जाता है-

  • जनवरी – वुल्फ मून (Wolf Moon)
  • फरवरी – स्नो मून (Snow Moon)
  • मार्च – वॉर्म मून (Worm Moon)
  • अप्रैल – पिंक मून (Pink Moon)
  • मई – फ्लावर मून (Flower Moon)
  • जून – स्ट्रॉबेरी मून (Strawberry Moon)
  • जुलाई – बक मून (Buck Moon)
  • अगस्त – स्टर्जन मून (Sturgeon Moon)
  • सितंबर – कॉर्न मून (Corn Moon)
  • अक्टूबर – हंटर्स मून (Hunters Moon)
  • नवंबर – बेवर मून (Beaver Moon)
  • दिसंबर – कोल्ड मून (Cold Moon)

एक बड़ी पुरानी मछली के नाम पर रखा गया (Why is it named the Sturgeon Moon?)

अगस्त में पूर्णिमा को स्टर्जन मून कहा जाता है क्योंकि साल के इस समय उत्तरी अमेरिका में ग्रेट लेक्स में बड़ी संख्या में स्टर्जन मछली पाई जाती हैं। ग्रेट लेक्स में सबसे आम स्टर्जन झील स्टर्जन है – नर मछली का जीवन काल 55 वर्ष होता है, जबकि मादा मछली150 वर्ष तक जीवित रह सकती है! यह अमेरिकी महाद्वीप की सबसे बड़ी मीठे पानी की मछली भी है और दो मीटर से अधिक लंबी (6 फीट) तक बढ़ सकती है और इसका वजन लगभग 90 किलो (200 पाउंड) होता है। झील स्टर्जन क्षेत्र में रहने वाले मूल अमेरिकी जनजातियों के लिए आवश्यक था और ग्रेट लेक्स में सबसे पुरानी और सबसे बड़ी देशी प्रजाति है।

पढें Religion (Religion News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट