ताज़ा खबर
 

सोमवती अमावस्या: 27 साल बन रहा है विशेष संयोग, पति की लंबी उम्र के लिए इस तरह करें पूजा

माना जाता है इस दिन स्नान करने तक मौन व्रत करने वाले को गोदान का फल मिलता है। इस व्रत को अश्वत्थ प्रदक्षिणा के नाम से भी जाना जाता है।

इस दिन महिलाएं व्रत कर पति की लंबी आयु की कामना करती है।

सोमवार, 16 अप्रैल को सोमवती अमावस्या मनाई जा रही है। सोमवार के दिन पड़ने वाली अमावस्या को सोमवती अमावस्या कहा जाता है। इस साल सोमवती अमावस्या को 27 साल बाद एक विशेष संयोग बन रहा है। आज यानी बैशाख के कृष्ण पक्ष को अश्‍विन नक्षत्र में सूर्य और चंद्रमा एक साथ आ रहे हैं। ये एक विशेष संयोग बन रहा है। जो करीब 27 साल पहले बना था। इस संयोग को शुभ माना जा रहा है। इस दिन महिलाएं व्रत कर पति की लंबी आयु की कामना करती है।

माना जाता है इस दिन स्नान करने तक मौन व्रत करने वाले को गोदान का फल मिलता है। इस व्रत को अश्वत्थ प्रदक्षिणा के नाम से भी जाना जाता है। क्‍योंकि इस दिन पीपल के पेड़ की पूजा की जाती है। कहा जाता है सोमवती अमावस्या के दिन पवित्र नदियों में स्नान करने से मनुष्य समृद्ध, स्वस्थ्य और सभी दुखों से मुक्त हो जाता है।

पूजा विधि – सुबह जल्दी उठकर स्नान करें। साफ कपड़े पहनें। पीपल की जल, पुष्प, अक्षत, चन्दन इत्यादि से पूजा करने के बाद पीपल चारों ओर 108 बार धागा लपेट कर परिक्रमा करें। पूजा करने के बाद सूर्य को जल से अर्ध्‍य देना भी कल्‍याणकारी माना जाता है। इस दिन मौन व्रत रखना बहुत पुण्यदायी होता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App