ताज़ा खबर
 

शनि साढ़ेसाती का प्रकोप राजा को बना सकता है रंक, इन 4 उपायों को करने से इससे मुक्ति मिलने की है मान्यता

Shani Sade Sati Upay: कोई गरीब कन्या जो पढ़ाई करने में सक्षम ना हो उसे पढ़ने के लिए स्कूल भेजने और किताबें दान करने से शनि साढ़ेसाती के दुष्परिणामों से बचा जा सकता है।

Shani Sade sati ke upay, Shani Sade sati se kaise bache, shani dosh, shani sade sati remediesमाना जाता है कि शनि साढ़ेसाती के दौरान जो व्यक्ति पक्षियों की सेवा करता है। उस पर शनिदेव की कृपा बरसती है।

Shani Sade Sati: शनि साढ़ेसाती की वजह से अक्सर लोग परेशान रहा करते हैं। कहा जाता है कि शनिदेव अगर किसी व्यक्ति से नाराज हो तो उसे शनि साढ़ेसाती का प्रकोप और अधिक झेलना पड़ता है। किसी भी मनुष्य के लिए दुख के समय को बिता पाना बहुत मुश्किल हो जाता है। इसलिए लोग शनि साढ़ेसाती के उपाय ढूंढते रहते हैं। माना जाता है कि अगर शनि महाराज कुपित हो उठते हैं तो राजा को रंक बना सकते हैं। शनि के बुरे प्रभाव से व्यक्ति को व्यापार, नौकरी से लेकर वैवाहिक जीवन तक में दिक्कतें आने लगती हैं। लेकिन अगर शनि मजबूत हैं तो ये व्यक्ति को इन सब क्षेत्रों में आपार सफलताएं भी दिलाते हैं। आइए जानते हैं कुछ ऐसे असरदार उपाय जिन्हें करके आप शनि साढ़ेसाती के प्रकोप से मुक्ति पा सकते हैं।

जिस व्यक्ति की राशि में शनि साढ़ेसाती चल रही हो उस व्यक्ति को कुष्ठ रोगियों की सेवा करनी चाहिए। ऐसा माना जाता है कि जो व्यक्ति शनि साढ़ेसाती के दौरान कुष्ठ रोगियों की सेवा करता है शनिदेव उसे परेशान नहीं करते हैं। बल्कि वह व्यक्ति शनिदेव की कृपा का पात्र बन जाता है। कुष्ठ रोगियों को अन्न, धन, वस्त्र या अपने सामर्थ्य के अनुसार कोई भी वस्तु दान करें। हो सके तो उन्हें शनिवार के दिन काला वस्त्र जरूर दान करें।

माना जाता है कि शनि साढ़ेसाती के दौरान जो व्यक्ति पक्षियों की सेवा करता है। उस पर शनिदेव की कृपा बरसती है। ऐसे व्यक्ति के जीवन पर शनि साढ़ेसाती का नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ता है। पक्षियों के लिए सात प्रकार का अनाज दान करें। संभव हो तो रोज यह उपाय करें अन्यथा इसे शनिवार के दिन अवश्य ही करें। दाने के साथ ही पक्षियों के लिए जल की व्यवस्था भी करें। ऐसा करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं।

कोई गरीब कन्या जो पढ़ाई करने में सक्षम ना हो उसे पढ़ने के लिए स्कूल भेजने और किताबें दान करने से शनि साढ़ेसाती के दुष्परिणामों से बचा जा सकता है। कहते हैं कि जो असहाय लोगों का सहारा बनता है उस पर शनि देव विशेष कृपा बरसाते हैं। इसलिए जितना संभव हो गरीब कन्याओं को पुस्तकों का दान अवश्य करें। यह ध्यान रखें कि कन्याओं को किताबें काले कपड़े में लपेट कर दें। यह उपाय बहुत कारगर है।

एक काले रंग का कपड़ा लें। उसमें 250 ग्राम वजन की लोहे की कील, 250 ग्राम काले तिल, 250 ग्राम उड़द की दाल, 250 ग्राम सरसों का तेल, 250 ग्राम तिल का तेल, 250 ग्राम मिश्री और एक काला या नीला फूल रखें। साथ ही जितना संभव हो उतनी दक्षिणा रखें। काले कपड़े में यह सब सामान डालकर उसकी पोटली बना दें। शनिवार की शाम यह पोटली किसी निर्धन, कुष्ठ रोगी या ब्राह्मण को दें। यह उपाय बहुत असरदार है। इसके प्रभाव से शनि साढ़ेसाती के नकारात्मक प्रभाव तुरंत कम होने लग जाते हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सपने में दिखते हैं पितृ, जानिये स्वप्न शास्त्र के अनुसार क्या होता है इसका फल
2 तनाव करना हो दूर या शिक्षा में चाहते हैं बेहतर प्रदर्शन, गणेश रुद्राक्ष धारण करने से मिल सकती है मदद
3 Horoscope Today, 31 August 2020: अगस्त महीने का आखिरी दिन इन जातकों के लिए रहेगा खास, यहां देखिये आज का राशिफल
IPL Records
X