ताज़ा खबर
 

शनि साढ़ेसाती के प्रकोपों से बचने के लिए ज्योतिष शास्त्र के इन उपायों को माना जाता है खास, जानिए

कहते हैं कि व्यक्ति जाने-अनजाने में जो पाप कर्म करता है शनि देव उसे उसके दुष्कर्मों की सजा देते हैं। कई बार लोग यह समझ नहीं पाते हैं कि उनके किस कर्म की सजा उन्हें मिल रही है।

shani dev ke upay, shani sadesati ke upay, shani grah ke upayशनि साढ़ेसाती के दुष्प्रभावों से बचने के लिए उपाय किए जाते हैं।

Shani Sadesati: ज्योतिष शास्त्र में यह माना जाता है कि ग्रहों का प्रभाव मानव जीवन पर पड़ता है। विद्वानों का मानना है कि सभी ग्रहों की तरह ही शनि ग्रह का भी मानव जीवन पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है। शनि ग्रह एक ऐसा ग्रह है जिसे न्याय देने वाला माना गया है।

कहते हैं कि व्यक्ति जाने-अनजाने में जो पाप कर्म करता है शनि देव उसे उसके दुष्कर्मों की सजा देते हैं। कई बार लोग यह समझ नहीं पाते हैं कि उनके किस कर्म की सजा उन्हें मिल रही है। ऐसे में यह बहुत जरूरी हो जाता है कि दुष्प्रभावों से बचने के लिए शनि साढ़ेसाती के ज्योतिष शास्त्र में बताे उपायों का सहारा लिया जाए।

शनि साढ़ेसाती के उपाय (Shani Sadesati Ke Upay)
शनि साढ़ेसाती के दुष्प्रभावों से बचने के लिए हर शनिवार काले रंग के कपड़े पर बैठकर शनि स्तोत्र और शनि चालीसा का पाठ करें। इसके बाद शनि देव के मंदिर में जाकर उनकी आरती करें।

शनिवार की शाम को काले रंग के कुत्ते को काले चने खिलाएं। साथ ही संभव हो तो गरीब या जरूरतमंदों को भी काले रंग का पेय पदार्थ या काले रंग के चने दान करें।

एक काले रंग का मटका लें। उसमें दो किलो काले चने या काली उड़द की दाल डालें। अब उस मटके को हाथ में लेकर शनि देव के रूप का ध्यान करें। फिर शनि देव के मंत्र की दो माला जाप करें। फिर इस मटके को किसी गरीब या जरूरतमंद को दान करें।

अपने बाएं पैर में काले रंग का धागा बांधें। हर शनिवार काले रंग के कपड़े दान करें। अगर संभव ना हो पाए तो काले रंग के रुमाल का भी दान कर सकते हैं।

एक कटोरी में सरसों का तेल डालें। अब उसमें अपनी छवि देखें। अब इस तेल का शनि देव के मंदिर में जाकर दीपक जलाएं। आप चाहें तो इसे किसी को दान भी कर सकते हैं।

रोजाना पक्षियों को सात प्रकार का अनाज दान करें। साथ ही संभव हो तो कुष्ठ रोगियों की सेवा करें। जानकारों का मानना है कि कुष्ठ रोगियों की सेवा करने से बहुत जल्द शनि साढ़ेसाती के प्रकोप से बचा जा सकता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पैरों की उंगलियों के आकार से पता चल सकता है व्यक्तित्व, जानिए क्या कहता है सामुद्रिक शास्त्र
2 Chhath Puja 2020 Vrat Katha, Vidhi: छठ पूजा की कथा को पढ़ने-सुनने से मनोकामना पूर्ति की है मान्यता, जानें
3 Chhath Puja 2020 Puja Vidhi, Shubh Muhurat: प्राचीन विधि से दें सूर्य देव को अर्घ्य, जानें विधि और शुभ मुहूर्त
यह पढ़ा क्या?
X