शनि की 3 प्रिय राशियों पर चल रही है शनि साढ़े साती और शनि ढैय्या, जानिए कब तक इन्हें मिलेगी मुक्ति

ज्योतिष अनुसार 3 राशियां ऐसी होती हैं जिन पर शनि देव की विशेष कृपा रहती है। वर्तमान में इन तीनों ही राशियों पर शनि साढ़े साती (Shani Sade Sati) और शनि ढैय्या (Shani Dhaiya) चल रही है। जानिए शनि की महादशा से इन्हें कब मिलेगी मुक्ति…

Shani Sade Sati, shani dhaiya, Shani Sade Sati on makar rashi, shani lucky zodiac sign, shani favourite zodiac sign,
तुला राशि: ये शनि की उच्च राशि है और इनकी सबसे प्रिय राशि भी मानी जाती है। इस राशि के जातक काफी ईमानदार और सच्चे दिल के होते हैं।

Shani Favourite Zodiac Sign: ज्योतिष में शनि को एक महत्वपूर्ण ग्रह माना जाता है। कहते हैं इनकी बुरी दृष्टि से जहां मनुष्य को कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है वहीं इनकी शुभ दृष्टि से जीवन में तमाम सुखों की भी प्राप्ति होती है। इसलिए शनि ग्रह को मजबूत करने के लिए लोग कई तरह के उपाय करते हैं। लेकिन ज्योतिष अनुसार 3 राशियां ऐसी होती हैं जिन पर शनि देव की विशेष कृपा रहती है। वर्तमान में इन तीनों ही राशियों पर शनि साढ़े साती और शनि ढैय्या चल रही है। जानिए शनि की महादशा से इन्हें कब मिलेगी मुक्ति…

तुला राशि: ये शनि की उच्च राशि है और इनकी सबसे प्रिय राशि भी मानी जाती है। इस राशि के जातक काफी ईमानदार और सच्चे दिल के होते हैं। ये हमेशा खुश रहते हैं और अपने आस-पास के लोगों को भी खुश रखने का प्रयास करते हैं। वर्तमान में तुला वालों पर शनि ढैय्या चल रही है और इससे मुक्ति 29 अप्रैल 2022 में मिलेगी।

मकर राशि: शनि देव इस राशि के स्वामी हैं। ये लोग काफी मेहनती और वफादार होते हैं। इस राशि वालों पर शनिदेव की विशेष कृपा रहती है जिस कारण ये लोग जिस भी क्षेत्र को चुनते हैं उसमें शीर्ष तक पंहुचते हैं। वर्तमान में इस राशि वालों पर शनि साढ़े साती का दूसरा चरण चल रहा है और इससे मुक्ति 29 मार्च 2025 में मिलेगी। (यह भी पढ़ें- इस राशि की लड़कियों की होती है अट्रैक्टिव पर्सनालिटी, किसी को भी बना देती हैं अपना दीवाना)

कुंभ राशि: शनिदेव इस राशि के स्वामी ग्रह हैं। कुंभ जातक काफी ईमानदार और दूसरों का भला करने वाले होते हैं। शनिदेव की कृपा से ये कठिन परिश्रम करके सफलता हासिल कर लेते हैं। इस राशि के जातकों पर शनि साढ़े साती की शुरुआत 24 जनवरी 2020 में हुई थी और इससे मुक्ति 3 जून 2027 में मिलेगी। लेकिन 20 अक्टूबर 2027 में ही शनि के वक्री होने से कुंभ राशि के जातक फिर से शनि की चपेट में आ जायेंगे और 23 फरवरी 2028 में शनि के पुन: मार्गी होने पर ही इन्हें शनि की महादशा से पूर्ण रूप से मुक्ति मिलेगी।

पढें Religion समाचार (Religion News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट