Shani Sade Sati: किस पर चल रही है शनि साढ़े साती और किस पर शनि ढैय्या? जानिए

Shani Sade Sati And Shani Dhaiya Zodiac Sign: मिथुन और तुला वालों पर शनि की ढैय्या चल रही है। साल 2022 में 29 अप्रैल को शनि के कुंभ राशि में प्रवेश करते ही आपके अच्छे दिन शुरू हो जायेंगे।

Shani Sade Sati, shani dhaiya, Shani Sade Sati 2021, शनि साढ़े साती, शनि ढैय्या 2021,
Shani Sade Sati: शनि 23 मई से अपनी उल्टी चाल शुरू करने जा रहे हैं।

Shani Sade Sati And Shani Dhaiya 2021: शनि साढ़े साती और शनि ढैय्या दोनों ही परेशान करती हैं। कहा जाता है कि शनि अपनी महादशा के समय लोगों को उनके कर्मों के हिसाब से फल देते हैं। यानि अगर आपके कर्म अच्छे हैं तो शनि की इस महादशा का कोई भी बुरा प्रभाव आप पर नहीं पड़ेगा। शनि वर्तमान में अपनी ही राशि मकर में विराजमान हैं। मकर राशि में शनि का गोचर 5 राशि वालों पर प्रभाव डाल रहा है।

इन पर है शनि साढ़े साती: वर्तमान में धनु, मकर और कुंभ जातकों पर शनि की साढ़े साती चल रही है। जिनमें से धनु वालों को अगले साल यानि 2022 में इससे मुक्ति मिल जाएगी। लेकिन मकर और कुंभ वालों को इससे मुक्ति पाने के लिए अभी इंतजार करना पड़ेगा। शनि साढ़े साती के कारण अगर आपके जीवन में परेशानियां आ रही हैं तो इसके उपाय जरूर कर लें। शनि की पूजा करने से शनि दोष से आपको मुक्ति मिल सकती है। साथ ही कहा जाता है कि शनि शिव भक्तों और हनुमान जी के भक्तों को कभी परेशान नहीं करते। इसलिए अगर शनि साढ़े साती के अशुभ प्रभाव से बचना चाहते हैं तो भगवान शिव और हनुमान जी की अराधना अवश्य करें। मकर और कुंभ वालों को शनि साढ़े साती कई साल करेगी परेशान, जानिए शनि दोष से मुक्ति के उपाय

इन पर शनि की ढैय्या: मिथुन और तुला वालों पर शनि की ढैय्या चल रही है। साल 2022 में 29 अप्रैल को शनि के कुंभ राशि में प्रवेश करते ही आपके अच्छे दिन शुरू हो जायेंगे। क्योंकि आपको शनि की ढैय्या से इस साल मुक्ति मिल जाएगी। फिलहाल शनि की ढैय्या के बुरे प्रभावों से बचने के लिए आपको शनि चालीसा जरूर पढ़नी चाहिए। साथ ही शनि देव के समक्ष सरसो के तेल का दीपक भी जलाना चाहिए। शनि देव को मनाने के 5 सरल ज्योतिषीय उपाय, शनि साढ़े साती के प्रकोप से भी दिला सकते हैं निजात

शनि वक्री 2021: शनि 23 मई से अपनी उल्टी चाल शुरू करने जा रहे हैं। शनि की ये चाल शनि साढ़े साती और शनि ढैय्या से पीड़ित जातकों को सबसे ज्यादा परेशान करेगी। शनि जब राशि में पीछे की ओर चलने लगते हैं तो उसे शनि का वक्री होना कहा जाता है। शनि 11 अक्टूबर को पुन: मार्गी होंगे।

पढें Religion समाचार (Religion News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट