scorecardresearch

Shani Vakri 2022: कर्मफल दाता शनिदेव 141 दिन तक रहेंगे वक्री, इन 4 राशि वालों की बढ़ सकतीं हैं मुश्किलें

वैदिक ज्योतिष अनुसार शनि देव 5 जून को वक्री होने जा रहे हैं। शनि देव का वक्री प्रभाव 4 राशि वालों को थोड़ा कष्टकारी हो सकता है।

religion, shanidev
शनि देव होने जा रहे हैं वक्री- (जनसत्ता)

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जब भी कोई ग्रह राशि परिवर्तन या वक्री होता है, तो उसका सीधा प्रभाव मानव जीवन पर पड़ता है। इस साल 2022 में कई बड़े ग्रह राशि परिवर्तन और वक्री होने जा रहे हैं। आयु प्रदाता शनि देव भी 5 जून को वक्री होने जा रहे हैं और 23 अक्टूबर तक वक्री अवस्था में ही रहेंगे। शनि की इन उल्टी चाल का प्रभाव सभी राशियों पर पड़ेगा। लेकिन 4 ऐसी राशि हैं, जिनसे जुड़े जातकों को थोड़ा संभलकर चलना होगा।

वृश्चिक राशि: इस राशि के जातकों को कुछ आर्थिक तंगी से गुजरना पड़ सकता है। वश्चिक राशि के स्वामी मंगल ग्रह हैं और ज्योतिष के अनुसार मंगल ग्रह और शनिदेव में शत्रुता का भाव है। इसलिए इस राशि के लोगों को नौकरी में किसी बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। स्वास्थ्य के प्रति सावधान रहें, फेफड़ों और पैरों से संबंधित रोग हो सकता है।

कर्क राशि: शनि के वक्री होने से आपको अपने कार्यस्थल पर दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। कर्क राशि पर चंद्र देव का आधिपत्य और ज्योतिष के अनुसार चंद्र देव और शनि ग्रह में शत्रुता का भाव है। इसलिए धन के मामले में थोड़ा सतर्क रहें क्योंकि कहीं पैसा फंसने के आसार दिखाई दे रहे हैं। वाहन संभालकर चलाएं, दुर्घटना के योग बन रहे हैं।

सिंह राशि: शनि वक्री होने से आपके कामकाज में रुकावटें आ सकती हैं। कार्यक्षेत्र में किसी भी काम में सफलता पाने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी। आपके खर्च अचानक से बढ़ सकते हैं। सेहत बिगड़ सकती है इसलिए सतर्क रहें। इस राशि वालों को भी स्वास्थ्य समस्याओं से दो चार होना पड़ सकता है। इस दौरान गले, छाती, कमर और दांतों में दर्द की समस्या हो सकती है। 

मकर राशि: इस राशि के जुड़े लोगों को मित्रों और संचार के माध्यमों से जुड़ी चीजों में मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। शनि के वक्री होने से किसी भी लक्ष्य को पूरा करने में आपको मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही कार्यस्थल पर वरिष्ठ अधिकारियों का सहयोग प्राप्त करने में आप असफल रहेंगे। फेफड़ों और पैरों के रोग से संबधित कोई परेशानी हो सकती है।

जानिए क्या होती है वक्री अवस्था:

वक्री का अर्थ है उल्टा या तिरछा चलना और मार्गी का अर्थ है सीधा चलना। वक्री चाल में ग्रह किसी राशि में उल्टी दिशा में गति करने लगते हैं। सूर्य और चन्द्र को छोड़कर सभी ग्रह वक्री होते हैं जबकि राहु और केतु सदैव वक्री ही रहते हैं।

यह भी पढ़ें: मेष राशिफल 2022वृषभ राशिफल 2022, मिथुन राशिफल 2022कर्क राशिफल 2022सिंह राशिफल 2022कन्या राशिफल 2022तुला राशिफल 2022वृश्चिक राशिफल 2022धनु राशिफल 2022मकर राशिफल 2022कुंभ राशिफल 2022, मीन राशिफल 2022

पढें Religion (Religion News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट