ताज़ा खबर
 

शनिवार की शाम इस विधि से शनिदेव की पूजा करने से शनि ग्रह के दुष्प्रभावों से मुक्ति मिलने की है मान्यता

Shani Dev: माना जाता है कि शनिवार की शाम सच्चे मन से शनिदेव की पूजा करने से शनि साढ़ेसाती, शनि ढैय्या और शनि ग्रह के दुष्प्रभावों से मुक्ति पाई जा सकती है।

shani dev, shani, shani ke upayशनिदेव की कृपा प्राप्त करने के लिए उनकी आराधना की जाती हैं।

Shanivar ke Upay: शनिदेव को न्याय का देवता कहा जाता हैं। कहते हैं कि जिस व्यक्ति के कर्म जैसे होते हैं, शनिदेव उसे वैसा ही फल देते हैं। ज्योतिष शास्त्र में शनि ग्रह के दुष्प्रभाव से बचने के लिए शनिवार की शाम को उपाय करने की सलाह दी जाती है। ऐसी मान्यता है कि शनिवार को सूर्यास्त होने के बाद शनिदेव की आराधना की जाए तो उसका फल अधिक मिलता है। माना जाता है कि शनिवार की शाम सच्चे मन से शनिदेव की पूजा करने से शनि साढ़ेसाती, शनि ढैय्या और शनि ग्रह के दुष्प्रभावों से मुक्ति पाई जा सकती है।

शनिवार की शाम हाथ-मुंह धोकर पवित्र हो जाएं। ध्यान रखें कि इस दिन काले, नीले और स्लेटी रंग के वस्त्र नहीं पहनें।
50 ग्राम उड़द की दाल, 50 ग्राम काले तिल, 50 ग्राम सरसों का तेल, ढाई मीटर काला कपड़ा, 5 लोहे की कील और कोई भी फल या मिठाई लेकर शनिदेव के मंदिर जाएं।
शनिदेव के मंदिर में जाकर काले रंग के आसन पर बैठें।
फिर भगवान शनिदेव के रूप, गुण, स्वभाव और दयालुता का ध्यान करते हुए उन्हें नमन करें।

इसके बाद शनिदेव का चालीसा और स्तोत्र का पाठ करें।पाठ पूरा हो जाने पर ‘ॐ प्रां प्रीं प्रों सः श्नैचराय नमः’ मंत्र का 11 माला जाप करें।
जाप करने के दौरान यह ध्यान रखें कि मंत्रों की जाप संख्या सही हो और उनका उच्चारण भी ठीक तरह से किया जाए।
मंत्र जाप पूर्ण होने पर शनिदेव पर ढाई मीटर काला कपड़ा अर्पित करें। साथ ही 50 ग्राम काली उड़द की दाल, 50 ग्राम काले तिल, 50 ग्राम सरसों का तेल और 5 लोहे की कील भी चढ़ाएं।

अगर आप शनिदेव के मंदिर जाने में सक्षम नहीं हैं तो आप यह दान किसी कुष्ठ रोगी को भी कर सकते हैं। ऐसी मान्यता है कि शनिदेव कुष्ठ रोगियों की सहायता करने से बहुत प्रसन्न होते हैं। इसलिए अगर संभव हो तो कुष्ठ रोगियों को भी शनिवार के दिन कोई वस्तु दान जरूर करें।अब शनिदेव के जयकारों के साथ शनिदेव की आरती करें।

आरती करते समय इस बात का ध्यान रखें कि आप शनिदेव की प्रतिमा के ठीक सामने खड़े न हो। संभव हो तो थोड़ा तिरछा हो कर खड़े होते हुए आरती करें।
आरती करने के बाद स्वयं भी आरती लें। अब शनिदेव को दंडवत प्रणाम करें।
इसके बाद शनिदेव से प्रार्थना करें कि वह शनि साढ़ेसाती, शनि ढैय्या और शनि ग्रह के दुष्प्रभावों से आपकी मुक्ति करवाएं।

Next Stories
1 धन प्राप्ति के लिए फेंगशुई के इन आसान उपायों को करने की है मान्यता, जानिए
2 चाणक्य नीति के मुताबिक घर में गरीबी ला सकते हैं ये 5 संकेत, जानें क्या है मान्यता
3 हथेली के आकार से जीवन में सुख आगमन के संकेत मिलने की है मान्यता, जानिए क्या कहता है सामुद्रिक शास्त्र
ये पढ़ा क्या?
X