scorecardresearch

Shani Dev Ke Sanket: इन राशियों के लिए शुभ माने जाते हैं कर्मफल दाता, ज्योतिष अनुसार जानें किसके ऊपर प्रसन्न हैं शनिदेव

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनि देव को कर्म फल का दाता भी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि व्यक्ति अपने कर्मों के अनुसार अच्छा या बुरा फल देता है।

Shani Dev Ke Sanket: इन राशियों के लिए शुभ माने जाते हैं कर्मफल दाता, ज्योतिष अनुसार जानें किसके ऊपर प्रसन्न हैं शनिदेव
शनि देव की महादशा 19 साल तक चलती है – (जनसत्ता)

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनि देव को कर्म फल का दाता भी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि व्यक्ति अपने कर्मों के अनुसार अच्छा या बुरा फल देता है। जब कुंडली में शनि अशुभ स्थिति में होता है तो व्यक्ति को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। वहीं दूसरी ओर जो लोग अपनी कुंडली में शुभ स्थिति में होते हैं, ऐसे में वे रैंक को राजा भी बनाते हैं। जानिए कुंडली में शनि के शुभ स्थिति में होने पर क्या होते हैं संकेत-

थोड़े से प्रयास में सफलता पाने के लिए: यदि किसी व्यक्ति पर शनिदेव की कृपा हो तो जीवन में आने वाली हर समस्या का समाधान पहले ही हो जाता है। कोई न कोई किसी तरह के हादसों से बच जाता है। वे हर क्षेत्र में अपनी अलग पहचान बनाते हैं।

धन लाभ : यदि व्यक्ति अचानक धन लाभ के साथ समाज में मान सम्मान पाता है तो समझ लें कि आपकी कुंडली में शनिदेव की कृपा है।

जूते-चप्पल की चोरी: अगर शनिवार के दिन अचानक आपके जूते-चप्पल चोरी हो जाएं तो समझ लें कि शनि देव का शुभ प्रभाव शुरू हो गया है।

शनि का प्रभाव इन राशियों के लिए शुभ

ज्योतिषीय गणना के अनुसार शनि ग्रह मकर और कुंभ राशि का स्वामी है। इसके साथ ही ये तुला राशि में उच्च भाव में होते हैं। इसलिए यदि शनि सप्तम भाव में मकर, कुम्भ या तुलसा में स्थित हो तो समझ लें कि इन राशियों का भाग्य उड़ जाएगा। इसके अलावा एकादश भाव में शनि का होना भी अच्छा माना जाता है।

शनि दोष से बचने के उपाय

  • यदि शनि की ढैया या साढ़े साती चल रही हो तो आप अपने आप को सभी परेशानियों से घिरे हुए पा रहे हैं तो शमी के पेड़ की जड़ को काले कपड़े में बांधकर शनिवार की शाम को दाहिने हाथ में बांध दें और ओम प्रां प्रीम प्रौंसा: शनिश्चराय नमः मंत्र का जाप करें. मंत्र तीन बार
  • शनि से जुड़े दोषों को दूर करने या उनकी कृपा पाने के लिए शिव की पूजा एक सिद्ध तरीका है। शिव सहस्रनाम या शिव के पंचाक्षरी मंत्र का नियमित पाठ करने से शनि के प्रकोप का भय दूर हो जाता है और सभी बाधाएं दूर हो जाती हैं। इस उपाय से शनि द्वारा दिया गया नकारात्मक फल समाप्त हो जाता है।
  • कुंडली में शनि से जुड़े दोषों को दूर करने के लिए प्रतिदिन सुंदरकांड का पाठ करें और हनुमान जी के मंदिर में जाकर अपनी क्षमता के अनुसार कुछ मीठा प्रसाद चढ़ाएं।

पढें Religion (Religion News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट