ताज़ा खबर
 

बिल्ली का हर बार रास्ता काटना नहीं होता अशुभ, जानें किन कारणों से माना जाता है अपशगुनी

माना जाता है कि बिल्ली घर में आकर दूध पी जाए तो धन का नाश होने लगता है।

Author Updated: December 12, 2017 1:02 PM
बिल्ली का रास्ता काटना माना जाता है अशुभ।

हिंदू धर्म में अनेकों ऐसी मान्यताएं है जिनके अनुसार कई शगुन और अपशगुन माने जाते हैं। इसी तरह माना जाता है कि घर से निकलते हुए छींक आए तो थोड़ी देर रुक जाना चाहिए। किसी काम से निकलते हुए यदि बिल्ली रास्ता काट जाए तो दूसरे रास्ते से चले जाना चाहिए। इन सभी को अपशगुन की नजर से ही देखा जाता है। माना जाता है कि पशु-पक्षियों की छठी इंद्री बहुत तेज होती है। भविष्य में होने वाली घटनाओं की जानकारी उन्हें पहले से रहती है। माना जाता है कि कुत्ता या बिल्ली रोएं तो वो सबसे बड़ा अपशगुन होता है। इसी तरह एक मान्यता है बिल्ली का रास्ता काट जाना अशुभ होता है, यहां जानते हैं कि इसके पीछे के क्या कारण हैं।

– माना जाता है कि जब आप किसी काम से बाहर जा रहे हों और बिल्ली बाईं तरफ से रास्ता काटती हुई दाईं तरफ जाए तो इसे अशुभ संकेत माना जाता है।
– बिल्ली का घर के बाहर रोना किसी बड़ी अनहोनी का संकेत माना जाता है। बिल्लियों के लड़ने का संकेत होता है कि घर में आर्थिक हानि हो सकती है।
– बिल्ली को राहु ग्रह की सवारी माना जाता है। राहु क्रूर ग्रह माना गया है, यदि वो कुंडली में विराजमान हो जाए तो चोट लगने या शारीरिक हानि हो सकती है। माना जाता है कि बिल्ली रास्ता काट जाए तो व्यक्ति को चोट लग सकती है।

– बिल्ली घर में रखे दूध को पी जाए तो ये अशुभ संकेत माना जाता है। इससे घर में रखे धन का नाश होता है।

– यदि सोते समय बिल्ली आकर किसी बीमार व्यक्ति के शरीर पर से कूद जाए तो उस बीमार व्यक्ति के लिए संकट बढ़ जाते हैं।
– नींद में किसी व्यक्ति का सिर चाटना बिल्ली शुरु करे तो वो व्यक्ति सरकारी मामलों में फंस सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 इन मंत्रों के उच्चारण से मिलती है विद्या, जानें देवी सरस्वती के जन्म की कहानी
2 भाषण से पैदा होगा विवाद! जानें और क्या कहती है नरेंद्र मोदी की कुंडली?
3 ब्रह्मा जी ने करवाया था राधा का श्रीकृष्ण से विवाह, गर्ग संहिता में है यह उल्लेख