ताज़ा खबर
 

Sawan Shivratri Katha: शिवरात्रि व्रत कथा से जानिए कैसे भगवान शंकर ने शिकारी को मोक्ष प्रदान किया

Shivratri Katha: श्रावण कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को सावन शिवरात्रि के नाम से जाना जाता है। शिव उपासकों के लिए ये दिन बेहद ही खास माना गया है। इस दिन शिव भक्त व्रत रख भोलेनाथ की अराधना करते हैं। लेकिन शिवरात्रि व्रत बिना इस व्रत कथा को पढ़े अधूरा माना जाता है।

shivratri vrat katha, sawan shivratri vrat katha, shravan shivratri vrat katha, shivratri ki katha, शिवरात्रि व्रत कथा,शिवरात्रि व्रत कथा से जानिए कैसे शिवरात्रि व्रत करने से एक शिकारी को मोक्ष की हुई प्राप्ति।

Shivratri Vrat Katha: पौराणिक कथा के अनुसार वाराणसी के वन में एक भील रहा करता था। जिसका नाम गुरुद्रुह था। वह वन में रहने वाले प्राणियों का शिकार करके अपने परिवार का पालन करता था। एक बार शिवरात्रि के दिन वह शिकार करने वन में गया। उस दिन उसे दिनभर कोई शिकार नहीं मिला और रात भी हो गई। तभी उसे वन में एक झील दिखाई दी। उसने सोचा मैं यहीं पेड़ पर चढ़कर शिकार की राह देखता हूं। कोई न कोई प्राणी यहां पानी पीने आएगा।

यह सोचकर वह पानी का पात्र भरकर बिल्ववृक्ष पर चढ़ गया। उस वृक्ष के नीचे शिवलिंग स्थापित था। थोड़ी देर बाद वहां एक हिरनी आई। गुरुद्रुह ने जैसे ही हिरनी को मारने के लिए धनुष पर तीर चढ़ाया तो बिल्ववृक्ष के पत्ते और जल शिवलिंग पर गिरे। इस प्रकार रात के प्रथम प्रहर में अंजाने में ही उसके द्वारा शिवलिंग की पूजा हो गई। तभी हिरनी ने उसे देख लिया और उससे पूछा कि तुम क्या चाहते हो?

Sawan Shivratri 2020 Puja Vidhi, Muhurat, Timings: कैसे रखें शिवरात्रि व्रत, क्या है पूजा विधि और मुहूर्त, सभी जानकारी यहां देखें

वह बोला कि तुम्हें मारकर मैं अपने परिवार का पेट भरूंगा। यह सुनकर हिरनी बोली कि मेरे बच्चे मेरी राह देख रहे होंगे। मैं उन्हें अपनी बहन को सौंपकर लौट आऊंगी। हिरनी के ऐसा कहने पर शिकारी ने उसे छोड़ दिया। थोड़ी देर बाद उस हिरनी की बहन उसे खोजते हुए झील के पास आ गई। शिकारी ने उसे देखकर पुन: अपने धनुष पर तीर चढ़ाया। इस बार भी रात के दूसरे प्रहर में बिल्ववृक्ष के पत्ते व जल शिवलिंग पर गिरे और शिव की पूजा हो गई।

उस हिरनी ने भी अपने बच्चों को सुरक्षित स्थान पर रखकर आने को कहा। शिकारी ने उसे भी जाने दिया। थोड़ी देर बाद वहां एक हिरन अपनी हिरनी की खोज में आया। इस बार भी वही सब हुआ और तीसरे प्रहर में भी शिवलिंग की पूजा हो गई। वह हिरन भी अपने बच्चों को सुरक्षित स्थान पर छोड़कर आने की बात कहकर चला गया। जब वह तीनों हिरनी व हिरन मिले तो प्रतिज्ञाबद्ध होने के कारण तीनों शिकारी के पास आ गए।

सबको एक साथ देखकर शिकारी बड़ा खुश हुआ और उसने फिर से अपने धनुष पर बाण चढ़ाया जिससे चौथे प्रहर में पुन: शिवलिंग की पूजा हो गई। इस प्रकार गुरुद्रुह दिनभर भूखा-प्यासा रहकर रात भर जागता रहा और चारों प्रहर अंजाने में ही उससे शिव की पूजा हो गई और शिवरात्रि का व्रत संपन्न हो गया, जिसके प्रभाव से उसके पाप तत्काल भस्म हो गए। सूर्योदय होते ही उसने सभी हिरनों को मारने का विचार त्याग दिया।

तभी शिवलिंग से भगवान शंकर प्रकट हुए और उन्होंने गुरुद्रुह को वरदान दिया कि त्रेतायुग में भगवान राम तुम्हारे घर आएंगे और तुम्हारे साथ मित्रता करेंगे। तुम्हें मोक्ष भी प्राप्त होगा। इस प्रकार अंजाने में किए गए शिवरात्रि व्रत से भगवान शंकर ने शिकारी को मोक्ष प्रदान कर दिया।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Sawan Shivratri 2020 Puja Vidhi, Muhurat, Timings: सावन की शिवरात्रि पर इस प्रकार व्रत रखने से मनोकामनाएं पूर्ण होने की है मान्यता, जानिये
2 मेष वालों को आर्थिक समस्याओं का करना पड़ सकता है सामना, वृषभ वालों को मिलेगा लाभ
3 तुला वालों के जीवनसाथी की बिगड़ सकती है सेहत, मकर वालों के लिए रोमांस भरा दिन
राशिफल
X