Basant Panchami 2018, Saraswati Puja Vidhi, Shubh Muhurat, Puja Mantra, Samagri in Hindi: Know Vasant Panchami Puja Vidhi and Procedure Here - सरस्वती पूजा 2018 विधि और शुभ मुहूर्त: यहां जानें सरस्वती पूजा के मंत्र, आरती और शुभ समय - Jansatta
ताज़ा खबर
 

सरस्वती पूजा 2018 विधि और शुभ मुहूर्त: यहां जानें सरस्वती पूजा के मंत्र, आरती और शुभ समय

Basant Panchami 2018, Saraswati Puja Vidhi, Muhurat, Mantra: बसंत पंचमी का त्योहार हर साल माघ मास में शुक्ल पक्ष की पांचवे दिन मनाया जाता है। इस वर्ष देशभर में वसंत पंचमी का त्योहार 22 जनवरी 2018 को पूरी श्रद्धा के साथ मनाया जा रहा है।

Basant Panchami 2018, Saraswati Puja Vidhi: वसंत पंचमी त्योहार 22 जनवरी 2018।

Saraswati Puja Mantra, Muhurat and Aarti: बसंत पंचमी का त्योहार हर साल माघ मास में शुक्ल पक्ष की पांचवे दिन मनाया जाता है। इस वर्ष भी देशभर में बसंत पंचमी का त्योहार 22 जनवरी 2018 को पूरी श्रद्धा के साथ मनाया जा रहा है। बसंत पंचमी के दिन के बारे में मान्यता है कि इस दिन ज्ञान-विज्ञान, संगीत, कला और बुद्धि की देवी माता सरस्वती का जन्म हुआ था। इसलिए बसंत पंचमी के दिन खास तौर पर देवी सरस्वती की पूजा की जाती है। अन्य मान्यता के अनुसार कहा जाता है कि माता सरस्वती ने संसार में सभी को वाणी का दान दिया था, इससे प्रसन्न होकर भगवान कृष्ण ने माता सरस्वती को आशीर्वाद दिया था कि माघ माह की शुक्ल पक्ष पंचमी के दिन सरस्वती पूजा का विशेष विधान होगा और इस दिन पूजा करने वाले भक्त को आप बुद्धि और विद्या का वरदान देंगी।

बसंत पंचमी 2018 पूजा शुभ मुहूर्त इस प्रकार है: बसंत पंचमी के त्योहार पर सरस्वती पूजा का शुभ मुहूर्त 22 जनवरी 2018 को सुबह 07 बजकर 17 मिनट से शुरू हो जाएगा। यह मुहूर्त करीब 5 घंटे और 15 मिनट तक रहेगा यानी दोपहर 12 बजकर 32 मिनट पर देवी सरस्‍वती की आराधना का शुभ मुहूर्त समाप्त हो जाएगा।

Happy Basant Panchami 2018 Images: इन शानदार वॉट्सऐप, फेसबुक मैसेज और फोटोज से दे अपने दोस्तों को शुभकामनाएं

देवी सरस्वती जी आरती: जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता। सद्गुण, वैभवशालिनि, त्रिभुवन विख्याता ।।जय.।। चन्द्रवदनि, पद्मासिनि द्युति मंगलकारी। सोहे हंस-सवारी, अतुल तेजधारी।। जय.।। बायें कर में वीणा, दूजे कर माला। शीश मुकुट-मणि सोहे, गले मोतियन माला ।।जय.।। देव शरण में आये, उनका उद्धार किया। पैठि मंथरा दासी, असुर-संहार किया।।जय.।। वेद-ज्ञान-प्रदायिनी, बुद्धि-प्रकाश करो।। मोहज्ञान तिमिर का सत्वर नाश करो।।जय.।। धूप-दीप-फल-मेवा-पूजा स्वीकार करो। ज्ञान-चक्षु दे माता, सब गुण-ज्ञान भरो।।जय.।। माँ सरस्वती की आरती, जो कोई जन गावे। हितकारी, सुखकारी ज्ञान-भक्ति पावे।।जय.।।

Basant Panchami 2018: जानिए बसंत पंचमी के दिन क्यों की जाती है सरस्वती माता की पूजा

मां सरस्वती की आराधना करते वक्‍त इस श्‍लोक का उच्‍चारण करना चाहिए:

ॐ श्री सरस्वती शुक्लवर्णां सस्मितां सुमनोहराम्।।
कोटिचंद्रप्रभामुष्टपुष्टश्रीयुक्तविग्रहाम्।
वह्निशुद्धां शुकाधानां वीणापुस्तकमधारिणीम्।।
रत्नसारेन्द्रनिर्माणनवभूषणभूषिताम्।
सुपूजितां सुरगणैब्रह्मविष्णुशिवादिभि:।।वन्दे भक्तया वन्दिता च मुनीन्द्रमनुमानवै:।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App