ताज़ा खबर
 

स्नान के बाद भोजन करने के क्या बताए गए हैं वैज्ञानिक और धार्मिक लाभ, जानिए

कहते हैं कि स्नान करके और पवित्र होकर ही भोजन करना चाहिए। बिना स्नान किए भोजन करना पशुओं के समान माना गया है।

सांकेतिक तस्वीर।

भोजन हमारे शरीर की मूलभूत आवशकता है। भोजन से हमारे शरीर को ऊर्जा, स्फूर्ति और शक्ति मिलती है। जिससे हम अपनी दिनचर्या के सभी कार्य सुचारु रूप से कर पाते हैं। हिंदू धर्म शास्त्रों में लिखा है कि हमें स्नान करके भोजन करना चाहिए। परंतु आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में इसकी क्या महत्ता है या आज के वैज्ञानिक युग में हम ऐसा मान सकते हैं कि भोजन करने के लिए नहाना पहले जरूरी है? क्या नहाकर ही हमें भोजन करना चाहिए या कभी भी कर सकते हैं? चलिए, आगे हम इसे जानते हैं।

भारत की प्राचीन चिकित्सा पद्धति आयुर्वेद के अनुसार स्नान करने से हमारे शरीर के रोमकूपों का सिंचन हो जाता है यानि हमारे शरीर से निकले पसीने के कारण जो पानी की कमी हो जाती है, स्नान करने से हमारे शरीर में पानी की पूर्ति हो जाती है। जिससे शरीर शीतल होकर स्फूर्ति से भर जाता है। इसके साथ-साथ भूख भी लग जाती है और अगर पहले से ही भूख लगी है तो यह और भी अधिक बढ़ जाती है।

वहीं शास्त्रों के अनुसार बिना स्नान किए भोजन करना निषेध है। कहते हैं कि स्नान करके और पवित्र होकर ही भोजन करना चाहिए। बिना स्नान किए भोजन करना पशुओं के समान माना गया है। साथ ही मान्यता यह भी है कि बिना स्नान किए भोजन करने से देवी-देवता नाराज हो जाते हैं जिससे जीवन में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। इसलिए ऐसा कहा जाता है कि भोजन करने से पहले ही स्नान करना चाहिए। ताकि हमारा तन और मन दोनों स्वस्थ रहे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पूजा-पाठ में क्या है आसन का महत्व और किस आसन पर बैठकर पूजन करना माना गया है शुभ, जानिए
2 ज्योतिष शास्त्र: शनि का रत्न होता है नीलम, जानिए क्या बताए गए हैं इसे धारण करने के लाभ
3 इस शिव मंदिर में शिवलिंग की जगह होती है ‘जलधर’ की पूजा, जानिए क्या है पिपलेश्वर महादेव की महिमा
ये पढ़ा क्या?
X