ताज़ा खबर
 

खुशहाल जिंदगी के लिए पढ़ें लक्ष्मी माता की ये आरती

घर में किसी देवी-देवता की आरती करने से घर से नकारात्मक शक्तियां दूर होती है।
लक्ष्मी को धन, संपदा, समृद्धि और ऐश्वर्य की देवी माना जाता है।

देवताओं को खुश करने के लिए कई तरह के पूजा-पाठ किए जाते हैं। ज्योतिषियों का कहना है कि देवताओं के खुश होने पर व्यक्ति के जीवन में कई तरह की परेशानियां दूर हो जाती है। वहीं पूजा-पाठ में आरती का भी बहुत महत्व होता है। आरती का अर्थ होता है- पूजा-पाठ करते समय पूरी श्रद्धा के साथ भगवान की भक्ति में डूब जाना।

अगर किसी के पूजा-पाठ में मंत्रों का जाप नहीं जाता तो आरती करने से भी पूजा को पूर्ण माना जाता है। घर में किसी देवी-देवता की आरती करने से घर से नकारात्मक शक्तियां दूर होती है। वहीं जीवन में सुख-समृद्धि के रास्ते खुलते हैं। आज हम आपके लिए लाए हैं लक्ष्मी माता की आरती, जिसे करने से लक्ष्मी माता खुश होती हैं। ज्योतिषियों का कहना है कि लक्ष्मी जी की आरती करने से घर में पैसे की कमी नहीं रहती है।

श्री लक्ष्मी माता की आरती
ऊँ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता।
तुमको निशदिन सेवत, हर विष्णु विधाता।।
ऊँ जय लक्ष्मी माता।
ब्रह्माणी रूद्राणी कमला, तुम ही जगमाता।
सूर्य चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता।।
ऊँ जय लक्ष्मी माता।
दुर्गा रूप निरंजनि, सुख सम्पति दाता।
जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि सिद्धि पाता।।
ऊँ जय लक्ष्मी माता।
तुम पाताल निवासिनि, तुम ही शुभ दाता।
कर्म प्रभाव प्रकाशक, भवनिधि से त्राता।।
ऊँ जय लक्ष्मी माता।
जिस घर में तुम रहती सब सद्गुण आता।
सब सुंदर हो जाता, मन नहीं घबराता।।
ऊँ जय लक्ष्मी माता।

हमारे शास्त्रों में भी आरती का बहुत महत्व बताया गया है। कहा जाता है कि आरती करने से घर में किसी तरह की नकारात्मक ऊर्जा नहीं आती। आरती करते समय कपूर, कुंकुम, चंदन, रूई और घी, शंक और घंटी का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए। आरती को रोजाना सुबह और शाम के समय करना शुभ माना जाता है। आरती के लिए रखी गई सामग्री को हमेशा चांदी, पीतल या तांबे के बर्तन में रखा जाना चाहिए। आरती की थाली में आटे या किसी धातु से बना दीपक रखना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.