ताज़ा खबर
 

Durga Ashtami 2017: जानिए क्यों मनाई जाती है महाअष्टमी, क्यों इस दिन कन्या पूजन करना होता है शुभ

Durga Ashtami 2017, Maha Ashtami: अष्टमी के दिन कन्याओं का पूजन किया जाए तो मां महागौरी आपको विशेष आशीर्वाद देती हैं और आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी करती हैं।

durga ashtami, ashtami 2017, ashtami, durga ashtami 2017, maha ashtami, maha ashtami 2017, durga ashtami significance, durga ashtami importance, significance of durga ashtami, durga ashtami importance in hindi, importance of durga ashtami in hindi, durga ashtami 2017 india, religion news updates in hindi, religion news updates in hindiDurga Ashtami 2017: महाष्टमी मनाए जाने के पीछे हैं विशेष कारण।

महाष्टमी को महादुर्गाअष्टमी के मां से भी जाना जाता है। महा अष्टमी दुर्गा पूजा के महत्वपूर्ण दिनों में से एक है। नौ दिनों के इस पर्व में मां के नौ रूपों की पूजा की जाती है। महा अष्टमी वाले दिन मां गौरी की पूजा की जाती है। मां गौरी भगवान शिव की पत्नी और भगवान गणेश की मां हैं। इस दिन पूजा पाठ और विशेषतौर पर कन्या पूजन किया जाता है। नौ रातों का समूह यानी नवरात्रे की शुरूआत अश्विन माह के शुक्ल पक्ष की पहली यानी तारीख 21 सितंबर से हो चुकी है और 30 सितंबर दशमी वाले दिन ये पूर्ण होंगे। सबसे पहले भगवान रामचंद्र ने समुंद्र के किनारे नौ दिन तक दुर्गा मां का पूजन किया था और इसके बाद लंका की तरफ प्रस्थान किया था। फिर उन्होंने युद्ध में विजय भी प्राप्त की थी, इसलिए दसवें दिन दशहरा मनाया जाता है और माना जाता है कि अधर्म की धर्म पर जीत, असत्‍य की सत्‍य पर जीत के लिए दसवें दिन दशहरा मनाते हैं। मां दुर्गा नवरात्रि के दौरान कैलाश छोड़कर धरती पर आकर रहती हैं। अष्टमी का दिन वो दिन होता है जब मां दुर्गा के नवरात्रि अंतिम चरण पर होते हैं। इस दिन छोटी कन्याओं को भोजन करवाया जाता है।

नवरात्रि के 8वें दिन की देवी मां महागौरी हैं। परम कृपालु मां महागौरी कठिन तपस्या कर गौरवर्ण को प्राप्त कर भगवती महागौरी के नाम से संपूर्ण विश्व में विख्यात हुईं। अष्टमी का अत्यन्त विशिष्ट महत्त्व है। आज के दिन ही आदिशक्ति भवानी का प्रादुर्भाव हुआ था। भगवती भवानी अजेय शक्तिशालिनी महानतम शक्ति हैं और यही कारण है कि इस अष्टमी को महाष्टमी कहा जाता है। महाष्टमी को भगवती के भक्त उनके दुर्गा, काली, भवानी, जगदम्बा, दवदुर्गा आदि रूपों की पूजा-आराधना करते हैं। अष्टमी के दिन कन्या पूजन करना श्रेष्ठ माना जाता है। कुछ लोग नवमी के दिन भी मां दुर्गा का पूजन करके कन्याओं का पूजन करते हैं और अपना व्रत खोलते हैं। लेकिन अगर अष्टमी के दिन कन्याओं का पूजन किया जाए तो मां महागौरी आपको विशेष आशीर्वाद देती हैं और आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी करती हैं। महागौरी भक्तों को अभय, रूप व सौंदर्य प्रदान करने वाली है अर्थात शरीर में उत्पन्न अनेक प्रकार के विष व्याधियों का अंत कर जीवन को सुख-समृद्धि व आरोग्यता से पूर्ण करती हैं। मां की शास्त्रीय पद्धति से पूजा करने वाले सभी रोगों से मुक्त हो जाते हैं और धन-वैभव संपन्न होते हैं।

प्रतिमा को शुद्ध जल से स्नान कराकर वस्त्राभूषणों द्वारा पूर्ण श्रृंगार किया जाता है और फिर विधिपूर्वक आराधना की जाती है। हवन की अग्नि जलाकर धूप, कपूर, घी, गुग्गुल और हवन सामग्री की आहुतियां दी जाती हैं। सिन्दूर में एक जायफल को लपेटकर आहुति देने का भी विधान है। धूप, दीप, नैवेद्य से देवी की पूजा करने के बाद मातेश्वरी की जय बोलते हुए 101 परिक्रमाएं दी जाती हैं। कुछ क्षेत्रों में गोबर से पार्वती जी की प्रतिमा बनाकर पूजने का विधान भी है। वहां इस दिन कुमारियां तथा सुहागिन पार्वती जी को गोबर निर्मित प्रतिमा का पूजन करती हैं। नवरात्रों के पश्चात् इसी दिन दुर्गा का विसर्जन किया जाता है। इस पर्व पर नवमी को प्रात: काल देवी का पूजन किया जाता हैं। अनेक पकवानों से दुर्गाजी को भोग लगाया जाता है। छोटे बालक-बालिकाओं की पूजा करके उन्हें पूड़ी, हलवा, चने और भेंट दी जाती है।

Next Stories
1 दुर्गा पूजा 2017: 10 करोड़ की लागत से बना है बाहुबली-महिषामती पैलेस जैसा कलकत्ता का ये दुर्गा पूजा पंडाल
2 Durga Ashtami 2017: जानिए इस वर्ष भारत में कब है दुर्गा अष्टमी पूजन की तिथि
3 दुर्गा पूजा 2017: करोड़ों की साड़ी पहनी है यहां के पंडाल की दुर्गा मां की मूर्त ने, देख कर रह जाएंगे हैरान
आज का राशिफल
X