ताज़ा खबर
 

चंद्र ग्रहण 2017: जानिए भारत में कितने बजे लगेगा चंद्र ग्रहण और आपकी राशि पर क्या पड़ेगा इसका असर

Chandra Grahan 2017 Date, Time India: भारत में 7-8 अगस्त की रात लोग खंडछायायुक्त (पीनम्ब्रल) एवं आंशिक चंद्र ग्रहण देख सकेंगे। सात अगस्त को रात 10.55 बजे से आंशिक चंद्र ग्रहण शुरू होगा, जो मध्यरात्रि के बाद 47 मिनट तक देखा जा सकेगा।

Chandra Grahan Date and Time: सोमवार की रात 11.51 बजे ग्रहण अपने सर्वोच्च प्रभाव में रहेगा।

Chandra Grahan 2017 Date, Time India: भारत में 7-8 अगस्त की रात लोग खंडछायायुक्त (पीनम्ब्रल) एवं आंशिक चंद्र ग्रहण देख सकेंगे। सात अगस्त को रात 10.55 बजे से आंशिक चंद्र ग्रहण शुरू होगा, जो मध्यरात्रि के बाद 47 मिनट तक देखा जा सकेगा। देश के शीर्ष खगोल विज्ञान संगठन स्पेस इंडिया ने रविवार को एक वक्तव्य जारी कर बताया कि सोमवार की रात 11.51 बजे ग्रहण अपने सर्वोच्च प्रभाव में रहेगा। खंडछायायुक्त चंद्र ग्रहण करीब पांच घंटे एक मिनट तक और आंशिक चंद्रग्रहण एक घंटे 55 मिनट तक बना रहेगा। अफ्रीका, एशिया और आस्ट्रेलिया में आंशिक चंद्र ग्रहण को इसकी पूर्णता में देखा जा सकेगा। चंद्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण हमेशा साथ-साथ होते हैं तथा सूर्य ग्रहण से दो सप्ताह पूर्व चंद्र ग्रहण होता है। सात अगस्त को होने वाला चंद्र ग्रहण, 21 अगस्त को होने वाले सूर्य ग्रहण से संबद्ध है।

इस बार चंद्र ग्रहण और रक्षा बंधन लगभग साथ साथ होने से लोग इस खगोलीय घटना के ज्योतिषीय प्रभाव को जानने को लेकर उत्सुक हैं। बता दें कि मकर राशि और श्रवण नक्षत्र के संयोग में पड़ने वाले इस चंद्र ग्रहण का हर राशि पर अलग अलग प्रभाव पड़ने वाला है। ये चंद्र ग्रहण कुछ राशियों की किस्मत चमका सकता है तो कुछ राशियों के लिए अशुभ समाचार लेकर आ सकता है। अब हम आपको बताते हैं कि इस चंद्र ग्रहण का अलग-अलग राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा।

मेष, सिंह, कन्या, वृश्चिक और मीन राशि वालों के लिए ये चंद्र ग्रहण शुभ समाचार लेकर आने वाला है। इन राशि वालों को नौकरी, विवाह, धन और संतान योग के परम लक्षण दिखाई दे रहे हैं। जबकि मकर राशि में होने की वजह से मकर, मिथुन, तुला और कुंभ राशि के जातक को कुछ बुरे प्रभाव का सामना करना पड़ सकता है। आपको मानसिक कष्ट झेलना पड़ सकता है। सेहत पर ध्यान रखें साथ ही धन हानि की भी स्थितियां पैदा हो सकती हैं। इन राशि वालों से अपेक्षा की जाती है कि वे ग्रहण काल में चन्द्रधारी भगवान शिव की पूजा अर्चना करें, एवं चंद्र ग्रहण के दौरान ‘ॐ नम: शिवाय’ मंत्र का जाप करें। बाकी बचे वृषभ, कर्क और धनु राशि वालों के लिए ग्रहण फल मिश्रित होगा। ग्रहण के प्रभाव से इन राशि के जातकों का काम तो होगा लेकिन इसके बाधाएं आने के संकेत हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Happy Valentine's Day 2020 Wishes, Images: वेलेंटाइन डे पर अपने पार्टनर से शेयर करें अपने दिल की बात
2 Valentine Special: राशि से जानिए किन राशि के लोगों को लाइफ में कितनी बार तक हो सकता है प्यार
3 Mahashivratri 2020: जानिए, क्यों मनाई जाती है महाशिवरात्रि, इस दिन क्या करना चाहिए
ये पढ़ा क्या?
X