ताज़ा खबर
 

कलयुग में भी मौजूद हैं रामायण काल के ये निशान, माता सीता के आंसू गिरने से बने थे तलाब

मान्यताओं के अनुसार अशोक वाटिका में माता सीता एक पेड़ के नीचे रहती थीं और पास के झरने में स्नान करती थीं।

sita vivah, ram vivah, ayodhya ram vivah, ram sita vivah, sita swayamvar, ram sita vivah chaupai, ramayan chaupai for marriage, latest news, religious news, Nepal, indian, uttar pradesh, ayodhya, ayodhya mandir, ayodhya ram mandir, ramayana, ramcharitramansa, lord rama, goddess sita, mata sita, bhagwan ram, shri ram, ram mandir, ramayan story, ram birth story, chant ramayana mantras, religious news in hindi, ravan, lanka, shri lanka, facts about lanka in shri lanka, jansattaपौराणिक ग्रंथों और मान्यताओं के अनुसार रावण ने माता सीता का धोखे से अपहरण कर लिया था।

श्रीलंका में रामायण के तथ्यों को इकठ्ठा करने के लिए एक कमेटी बनाई गई है जिसके द्वारा हुए अनुसंधानों के अनुसार श्रीलंका की उत्तर दिशा में ऐसे निशान मिले हैं जिन्हें हनुमान के प्रवेश के निशान माना जाता है। रिसर्च कमेटी के अनुसार जहां भगवान राम और रावण का युद्ध हुआ था, उस स्थान पर भी रिसर्च की गई है। आज उस युद्ध स्थान को युद्धघगवाना के नाम से जाना जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार भगवान राम ने रावण का इसी स्थान पर वध किया था। ऐसा माना जाता है कि रावण माता सीता का हरण करके जब लंका लाया था तब माता को अशोक वाटिका में रखा था। इस स्थान को सेता एलीया के नाम से जाना जाता है। ये श्रीलंका के नूवरा एलिया के पास है।

मान्यताओं के अनुसार अशोक वाटिका में माता सीता एक पेड़ के नीचे रहती थीं और पास के झरने में स्नान करती थीं। आज के श्रीलंका में सेता एलीया के पास भी एक झरना बहता है। इस स्थान पर माता सीता का एक मंदिर भी स्थित है। सेता एलिया के पास एक पर्वत भी है जिसे पवाला मलाई कहा जाता है, इस स्थान पर हनुमान के पैरों के निशान मिलते हैं। इसके लिए मान्यता है कि इसी स्थान पर हनुमान ने अपने कदम रखे थे। ये पर्वत लंकापुरा और अशोक वाटिका के बीच माना जाता है। पौराणिक ग्रंथों और मान्यताओं के अनुसार रावण ने माता सीता का धोखे से अपहरण कर लिया था और जब वो उन्हें लंका ला रहा था तो माता सीता के अश्रु जहां गिरे वहां खारे पानी का तलाब बन गया। इसी तरह का तालाब वर्तमान श्रीलंका से 50 किलोमीटर दूर नम्बारा एलिया मार्ग पर मौजूद है। इसे पौराणिक काल में सीता अश्रु ताल कहा जाता था, और वर्तमान में सीता टियर तलाब के नाम से जाना जाता है। इसके साथ ही ये मान्यता भी है कि अधिक गर्मी में जब आस-पास के तालाब सूख जाते हैं ये नहीं सूखता है।

मान्यताओं अनुसार कहा जाता है कि माता सीता को अशोक वाटिका से लाने के बाद राम और सभी वानर सेना खुशियां मना रहे थे। वहां एक व्यक्ति के कहा कि माता सीता अपवित्र हो गई हैं तब भगवान राम के कहने पर माता सीता को अग्नि परीक्षा देनी पड़ी थी। जहां माता सीता ने अग्नि परीक्षा दी थी उस स्थान पर डिवाउरुम्पाला मंदिर है। इस स्थान पर स्थानीय लोग किसी न्याय कार्य के लिए सुनवाई करते हैं। रावण के पुष्पक विमान को लेकर कई बार हमने कथाएं सुनी हैं वर्तमान श्रीलंका में जिसे रावण की लंका का स्थान माना जाता है उसके एक शहर सिन्हाला में वेरागनटोटा नामक एक स्थान हैं। इस स्थान के लिए मान्यता है कि रावण अपना पुष्पक विमान इसी स्थान पर उतारता था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 जानिए क्या है तीर्थ स्थान का महत्व, कैसे करें अपने इष्ट को प्रसन्न
2 इसके जरिए जान सकते हैं व्यक्ति का स्वभाव, जानिए क्या होता है बर्थमार्क
3 100 साल पुराने इस मंदिर में होती है रावण की पूजा, साथ विराजते हैं भगवान शंकर
IPL 2020: LIVE
X