ताज़ा खबर
 

रामचरितमानस: जानिए रामायण के किस चौपाई से मिलता है किस समस्या का समाधान

रामचरितमानस के मुताबित अलग-अलग इच्छाओं के लिए अलग-अलग चौपाई का जप करने से बहुत जल्द ही सकारात्मक फल मिलते हैं।

Author नई दिल्ली | June 28, 2019 4:22 PM
रामचरितमानस।

रामायण को सभी सुखों का संग्रह कहा जाता है। इसमें मनुष्य के जीवन से संबंधित सभी समस्याओं का समाधान बताया गया है। साथ ही इस महाकाव्य में इंसान की मनोकामनाओं की पूर्ति करने वाले चौपाई और मंत्र निहित हैं। गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित रामचरितमानस की हर चौपाई मंत्र की तरह है। रामचरितमानस के मुताबित अलग-अलग इच्छाओं के लिए अलग-अलग चौपाई का जप करने से बहुत जल्द ही सकारात्मक फल मिलते हैं। परंतु क्या जानते हैं कि रामायण की किन चौपाइयों का पाठ करने से किस समस्या का समाधान मिलता है? यदि नहीं, तो जानते हैं इसे।

मान्यताओं के अनुसार चौपाइयों का पाठ करने के लिए मंगलवार या शनिवार सबसे अच्छा दिन है। कहते हैं कि चौपाई का पाठ रोजाना 108 बार करना चाहिए। इसके लिए सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नान से निवृत होकर अपने इष्ट का ध्यान कर चौपाई का जप 108 बार करें। माना जाता है कि ऐसा नियमित रूप से करने पर श्रीराम के साथ-साथ हनुमान जी का भी आशीर्वाद मिलता है। साथ ही समस्याओं का भी निदान हो जाता है।

धन-संपत्ति के लिए
जे सकाम नर सुनहि जे गावहि।
सुख-संपत्ति नाना विधि पावहि।।

मनचाही नौकरी के लिए
बिस्व भरण पोषन कर जोई
ताकर नाम भरत जस होई

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए

तब जनक पाई वशिष्ठ आयसु ब्याह साज संवारि कै।
मांडवी श्रुतकीर्ति उर्मिला, कुंअरि लई हंकारि कै॥

नजर दोष दूर करने के लिए

स्याम गौर सुंदर दोउ जोरी।
निरखहिं छबि जननी तृन तोरी॥

हनुमान जी की कृपा पाने के लिए

सुमिरि पवनसुत पावन नामू।
अपने बस करि राखे रामू॥

यात्रा को सफल बनाने के लिए

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा।
हृदयं राखि कोसलपुर राजा॥

शत्रु भय को दूर करने के लिए

बयरु न कर काहू सन कोई।
राम प्रताप विषमता खोई।।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App