ताज़ा खबर
 

Ramadan 2019: रमजान में गरीबों को खाना खिलाना और उन्हें जकात देना सबसे बड़ी इबादत

इस माह में गरीब लोगों को खाना खिलाना व उन्हें जकात देना सबसे बड़ी इबादत मानी गयी है। रमजान का यह पवित्र महीना गरीबों का हक अदा करने का महीना होता है। इस महीने में गरीबों को खेरात, जकात और सदका दिया जाता है।

ramadan 2019, ramjan 2019, ramzan 2019, ramadan significance,significance of roza, रमजान का महत्व, रमादान, रमजान का महीना, रमजान के बारे में, रमजान के महीने में गरीबों को खाना खिलाना, रमजान के नियम, रोजा रखने के नियम, roza rule, how to have roza, roza ke niyam, islamic rules for roza, roza all rules, roza rules, help poor people in ramzan, how to help poor people in ramzan, how to help poor people in ramadan, how to help poor people in ramjan, what is ramzan,रमजान का यह पवित्र महीना गरीबों का हक अदा करने का महीना होता है।

Ramadan 2019: मुस्लिम समुदाय में रमजान के महीने को सबसे पवित्र माना जाता है। इन दिनों में मुस्लिम लोग रोजा रखकर सच्चे दिल से अल्लाह की इबादत करते हैं। इस्माल में गरीबों को खान खिलाने की बड़ी फजीलत होती है। इन दिनों में बड़े ही नियम के अनुसार रोजा रखा जाता है। इस माह में गरीब लोगों को खाना खिलाना व उन्हें जकात देना सबसे बड़ी इबादत मानी गयी है। रमजान का यह पवित्र महीना गरीबों का हक अदा करने का महीना होता है। इस महीने में गरीबों को खेरात, जकात और सदका दिया जाता है। जो भी मोमिन माल-ए-हैसियत होता है वह अपने माल की जकात मुख्य तौर से इसी महीने में गरीबों को देता है।

कहा जाता है कि रमजान के इस महीने में नेकी करने से 70 गुना सवाब मिलता है। यह महीना अमीर और गरीब के बीच के फासला खत्म करता है और सबको एक समान बनाता है। वास्तव में यह महीना गरीबों को उनका हक अदा करता है। जैसे इस महीने में रोजा रखने का खास महत्व होता है उसी तरह रोजा रखने वाले व्यक्ति को तब तक रोजा इफ्तार नहीं करना चाहिए जब तक वह किसी गरीब रोजेदार को इफ्तार का समान न दे दे। एक मात्र रोजा ही है जो खुदा और बंदे के बीच गुप्त होता है, क्योंकि नमाज पढ़ते हुए व्यक्ति को हर कोई देख सकता है। लेकिन रोजेदार कब क्या खा रहा है इस बात का पता किसी को नहीं होता है।

रोजा रखते समय कई बातों का ध्यान रखा जाता है कि रोजे रखने वाले इंसान को कभी किसी की बुराई नहीं करनी चाहिए। इस दौरान सच्चे मन से रोजा रखने का प्रावधान होता है। इस दौरान रोजा रखने वाले लोगों को अपने अंदर किसी भी तरह का घमंड नहीं रखना चाहिए क्योंकि इससे रोजा अल्लाह की बारगाह में कबूल नहीं होता। खुदा का फरमान है कि रोजा का बदला वह अपने बंदे को खुद देंगे। रोजेदार का हर एक पल इबादत में गुजरना चाहिए। साथ ही रोजा रखने वाले व्यक्ति को चाहिए कि वह ऐसा कोई भी काम न करे जिससे दूसरे को परेशानी हो।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Ramadan 2019: रमजान में रोजे रखने से मानसिक और आध्यात्मिक कसरत हो जाती है: हाशिम अमला
2 Horoscope Today, May 28, 2019: मिथुन राशि के जातक आज किसी को पैसा उधार देने से बचें, यहां जानें वित्त राशिफल
3 चाणक्य नीति: ऐसी चीजें बनती है किसी भी व्यक्ति के दुख का कारण
ये पढ़ा क्या...
X