ताज़ा खबर
 

Ramadan 2018: रोजा यानी तमाम बुराइयों से रुकना और परहेज करना

Ramadan 2018, Ramzan 2018 Live Updates: रोजा रखकर खाना सामने होते हुए भी न खाना हमारे शारीरिक और मानसिक दोनों के नियंत्रण में रखना सिखाता है। रोजे को अरबी में सोम कहते हैं जिसका मतलब है रुकना।

Ramadan 2018 Live: दिल में रहम और दूसरों की मदद करने से अल्लाह आपकी दुआ कुबूल करेंगे।

Ramadan 2018, Ramzan 2018 Live Updates: रमजान का पाक महीना शुरू हो गया है। आज (17 मई) पहला रमजान है। रोजा रखने की पहली शर्त भूखे रहना नहीं बल्कि खुदा की इबादत है। इस महीने में कोई भी बुरा काम करना हराम माना गया है। दिल में रहम और दूसरों की मदद करने से अल्लाह आपकी दुआ कुबूल करेंगे। कुरान के अनुसार मोहम्मद पैगंबर का आदेश था कि रमजान अल्लाह का महीना माना जाए। रमजान में हर मुसलमान रोजा जरुर रखें, इबादत करें। रोजे में दिन भर भूखा प्यासा रहने के अलावा तमाम बुराइयों से दूर रहने, रुकने की हिदायत दी गई है।

रोजा रखकर खाना सामने होते हुए भी न खाना हमारे शारीरिक और मानसिक दोनों को नियंत्रण में रखना सिखाता है। रोजे को अरबी में सोम कहते हैं जिसका मतलब है रुकना। रोजा यानी तमाम बुराइयों से रुकना और परहेज करना। अपनी जुबान से गलत या बुरा नहीं बोलना, अपनी आंखों से गलत नहीं देखना, कान से गलत नहीं सुनना, कोई नाजायज अमल नहीं करना। किसी को या किसी के बारे में भला बुरा नहीं कहना।

Live Blog

Ramadan 2018

18:32 (IST) 17 May 2018
इफ्तारी और सहरी का समय

जाने आज (गुरुवार) इफ्तार और कल ( शुक्रवार) सुबह सहरी का समय आज इफ्तार सुन्नी 6:37 शाम कल सहरी 3:47 सुबह आज इफ्तार शिया 6:56 शाम कल सहरी सुबह 3:46

17:57 (IST) 17 May 2018
इन बातों का रखें विशेष ध्यान

डॉक्टरों का कहना है कि सहरी और इफ्तार के बाद खूब पानी पिएं। अधिक मात्रा में फल, साबुत अनाज, मिठाइयां, तले हुए खाद्य पदार्थ और ज्यादा मीठे व नमक पकवानों से बचें। सहरी में प्रोटीन से भरपूर चीजें लें।

17:35 (IST) 17 May 2018
समय में आया फर्क

इस्लामी कैलेंडर के नौवें महीने को रमदान-अल-मुबारक या रमजान कहा जाता है। इस दौरान पूरे महीने दुनिया भर के मुसलमान रोजे रखते हैं। पिछली बार की तुलना में इस बार रोजे के समय में पंद्रह मिनट का फर्क आया है। इस बार आखिरी रोजा सबसे ज्यादा वक्त का होगा।

17:15 (IST) 17 May 2018
इस दिन होगा सबसे लंबा रोज़ा

आज पहला रोजा है,  आज का रोजा 14 घंटे का होगा। वहीं सबसे लंबा रोजा 15 जून को होगा। इस दिन रोजे का वक्त 15 घंटे 6 मिनट रहेगा। यह इस बार के रोजों में सबसे लंबा रोजा होगा।

16:54 (IST) 17 May 2018
इन्हें होती है रोजा रखने में छूट

मुस्लिमों के लिए रोजा रखना जरूरी होता है। लेकिन बीमारों, गर्भवती महिलाओं और बच्चों को इसमें छूट होती है। इस बार रमजान के महीने में नेक बंदों को 5 बार जुमे की नमाज़ अदा करने का अवसर मिलेगा।

16:34 (IST) 17 May 2018
फिर शव्वाल का चांद दिखेगा

15 जून को रमजान के पांचवे जुमे की नमाज अता होगी और 16 जून से इस्लामिक महीने शव्वाल की शुरुआत होगी। शव्वाल का चांद दिखने पर ही 16 जून को ईद उल फित्र मनाई जाएगी। हालांकि चांद के हिसाब से तारीख एक दिन घट भी सकती है।

15:10 (IST) 17 May 2018
फजर की अजान

अल सुबह फजर की अजान यानी सूरज उगने से पहले जो खाना खाया जाता है उसे सहरी कहते हैं। सहरी की नमाज के बाद कुरान-ए-पाक की तिलावत की जाती है। दोपहर एक से सवा एक बजे के करीब जोहर की नमाज होगी। इसके बाद शाम 5.30 बजे असर की नमाज के समय खजूर खाकर इफ्तार किया जाएगा। इसके बाद शाम 7:20 बजे मगरिब की नमाज होगी।

13:40 (IST) 17 May 2018
खुदा रहमतें बरसाएगा

रमजान रहमतों और बरकतों का महीना है। इस दौरान मन से बुरे विचार निकाल कर सच्चे मन से अल्लाह को याद किया जाता है। इस महीने के बारे में यह कहा जाता है कि इस महीने में जितनी हो सकते उतनी गरीबों की मदद करनी चाहिए तभी इबादत से राजी होकर खुदा बेपनाह रहमतें बरसाता है।

13:21 (IST) 17 May 2018
रमजान में इनका है महत्‍व

रमजान के पूरे महीने रोजे रखना बेहद ही अच्छा माना जाता है। रोजे के दौरान सभी के लिए सलामति के लिए अल्लाह से दुआ की जाती है। इसके साथ ही कुरान पढ़ना और रात में तरावीह की नमाज पढ़ना अच्छा माना जाता है। इस महीने में जकात (दान) करना भी अच्छा माना जाता है। जो लोग कुरान पढ़ नहीं सकते वे इसे सुन कर पुण्‍य लाभ ले सकते हैं।

13:06 (IST) 17 May 2018
बाजारों में बढ़ी रौनक

चांद के दीदार के साथ ही बाजारों में रोजेदारों की रौनक दिखी। बाजारों में सेवइयों व खजूर की दुकानें सज गईं। वहीं फलों की दुकानों में रौनक देखने को मिली। इस महीने को अल्लाह के महीने के साथ नेकियों और इबादत का महीना भी कहा जाता है।

12:42 (IST) 17 May 2018
ऐप से जानें सहरी और इफ्तार का वक्त

रमजान के पाक महीने के दौरान रोजेदारों को सहरी, इफ्तार और तरावीह का वक्त जानने में सहूलियत के लिए एक विशेष मोबाइल ऐप्लीकेशन की शुरुआत की गई। इसका नाम ‘आईसीआई रमजान हेल्प लाइन ऐप’है। इस पर सभी अपडेट मिलते रहेंगे।

12:25 (IST) 17 May 2018
रमजान में होंगे पांच जुमे

रमजान की पहला जुमा 18 मई, दूसरा 25 मई, तीसरा 1 जून, चौथा 8 जून और आखरी जुमा जुमातुल विदा 15 जून को होगा। इस्लामिक माह शव्वाल महीने का चांद दिखाई देने पर 16 जून को ईद उल फित्र मनाई जाएगी।