ताज़ा खबर
 

Basant Panchami 2018: परीक्षा में सफलता पाने के इच्छुक छात्र इस दिन विशेष रुप से करें माता सरस्वती का पूजन

Basant Panchami 2018, Maa Saraswati Puja Vidhi: पौराणिक शास्त्रों के अनुसार माना जाता है कि जो छात्र बसंत पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा विधि-विधान से करते हैं उनपर माता विशेष कृपा करती हैं।

Basant Panchami 2018, Maa Saraswati Puja: बसंत पंचमी के दिन मांगलिक कार्यों के लिए अबूझ मुहूर्त होता है।

Basant Panchami 2018: हिंदू पंचाग के अनुसार माघ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी से ऋतुओं के राजा बसंत ऋतु का आरंभ हो जाता है। इस दिन से प्रकृति के सौंदर्य में निखार दिखने लगता है। इसी के साथ इस दिन पूजन के लिए मान्यता है कि भगवान श्री कृष्ण से प्रसन्न होकर माता सरस्वती को वरदान दिया था कि माह माह की पंचमी तिथि को जब नई ऋतु की शुरुआत हो रही होगी तुम्हारा पूजन होगा। मां सरस्वती विद्या की देवी है और उनका बुद्धि और शिक्षा से सीधा संबंध माना जाता है। पौराणिक शास्त्रों के अनुसार माना जाता है कि जो छात्र बसंत पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा विधि-विधान से करते हैं उनपर माता विशेष कृपा करती हैं।

बसंत पंचमी के दिन सुबह स्नान करने के बाद पीताम्बर या पीले वस्त्रों को धारण किया जाता है। पंचमी के दिन ब्रह्म मुहूर्त में उत्तम वेदी पर वस्त्र बिछाकर अक्षत से अष्टदल कमल बनाना लाभदायक माना जाता है। इसके अग्र भाद में श्रीगणेश को स्थापित करना लाभदायक होता है। पीछे की तरफ बसंत स्थापित किए जाते हैं। जौं और गेहूं की बाली के पुंज को जल से भरे कलश में डंठल सहित रखकर सजाने को ही बसंत कहते हैं। सबसे पहले भगवान गणेश जी का पूजन करें और बसंत पुंज के द्वारा रति और कामदेव का पूजन किया जाता है।

बसंत पंचमी 2018: बुद्धि की देवी मां सरस्वती के पूजन के साथ करें ये उपाय, मंगल कार्य होंगे पूरे

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार कहा जाता है कि इस दिन दूध पीते बच्चों को नए कपड़े पहना कर उसे चौंकी पर लाल वस्त्र बिछाकर उसपर बैठाना चाहिए और उसके बाद चांदी के चम्मच से अन्न खिलाना चाहिए। इस दिन शास्त्रों के अनुसार मांगलिक कार्यों के लिए अबूझ मुहूर्त होता है। इस दिन विवाह करने के लिए मान्यता है कि भगवान स्वयं धरती पर आकर वर-वधु को आशीर्वाद देते हैं। कई लोग बंसत पंचमी के दिन नींव पूजन, गृह प्रवेश, वाहन खरीदना और नवीन व्यापार शुरु करते हैं। माना जाता है कि इस दिन मांगलिक कार्य करने से भगवान की कृपा बनी रहती है। इस दिन माता सरस्वती के साथ नवग्रह का पूजन करना भी लाभदायक माना जाता है।

Basant Panchami 2018: …तो इसलिए बसंत पंचमी त्योहार पर पहने जाते हैं पीले वस्त्र

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App