ताज़ा खबर
 

Pradosh Vrat Katha: बुध प्रदोष व्रत की व्रत कथा और भगवान शिव की आरती यहां देखें

Pradosh Vrat Katha, Vidhi, Shiv Aarti: एक साल में कुल 24 प्रदोष व्रत पड़ते हैं। सात वारों के लिए सात व्रत हैं। मान्यतानुसार इसका फल वार के अनुसार बदल जाता है। बुधवार का प्रदोष व्रत समृद्ध जीवन की कामना के लिए रखा जाता है।

pradosh vrat, pradosh vrat katha, shiv aarti, pradosh vrat ki katha, budh pradosh vrat, budh pradosh vrat katha in hindi, pradosh vrat vidhi, शिव आरती, शिव जी की आरती,Pradosh Vrat: हर माह के दोनों पक्षों की त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत रखा जाता है।

Budh Pradosh Vrat Katha, Shiv Aarti: आज प्रदोष व्रत है। जब ये व्रत बुधवार के दिन आता है तो उसे बुध प्रदोष व्रत कहा जाता है। इस दिन भगवान शिव की स्तुति की जाती है। एक साल में कुल 24 प्रदोष व्रत पड़ते हैं। सात वारों के लिए सात व्रत हैं। मान्यतानुसार इसका फल वार के अनुसार बदल जाता है। बुधवार का प्रदोष व्रत समृद्ध जीवन की कामना के लिए रखा जाता है। जानिए बुध प्रदोष व्रत की कथा…

बुध प्रदोष व्रत की कथा के अनुसार एक पुरुष का नया-नया विवाह हुआ। विवाह के 2 दिनों बाद उसकी पत्‍नी मायके चली गई। कुछ दिनों के बाद वह पुरुष पत्‍नी को लेने उसके यहां गया। बुधवार को जब वह पत्‍नी के साथ लौटने लगा तो ससुराल पक्ष ने उसे रोकने का प्रयत्‍न किया कि विदाई के लिए बुधवार शुभ नहीं होता। लेकिन वह नहीं माना और पत्‍नी के साथ चल पड़ा। नगर के बाहर पहुंचने पर पत्‍नी को प्यास लगी। पुरुष लोटा लेकर पानी की तलाश में चल पड़ा। पत्‍नी एक पेड़ के नीचे बैठ गई। थोड़ी देर बाद पुरुष पानी लेकर वापस लौटा, तब उसने देखा कि उसकी पत्‍नी किसी के साथ हंस-हंसकर बातें कर रही है और उसके लोटे से पानी पी रही है। उसको क्रोध आ गया।

Budh Pradosh Vrat Vidhi: बुध प्रदोष व्रत की पूजा विधि, उपाय और महत्व यहां देखें 

वह निकट पहुंचा तो उसके आश्‍चर्य का कोई ठिकाना न रहा, क्योंकि उस आदमी की सूरत उसी की भांति थी। पत्‍नी भी सोच में पड़ गई। दोनों पुरुष झगड़ने लगे। भीड़ इकट्ठी हो गई। सिपाही आ गए। हमशक्ल आदमियों को देख वे भी आश्‍चर्य में पड़ गए। उन्होंने स्त्री से पूछा ‘उसका पति कौन है?’ वह किंकर्तव्यविमूढ़ हो गई। तब वह पुरुष शंकर भगवान से प्रार्थना करने लगा- ‘हे भगवान! हमारी रक्षा करें। मुझसे बड़ी भूल हुई कि मैंने सास-ससुर की बात नहीं मानी और बुधवार को पत्‍नी को विदा करा लिया। मैं भविष्य में ऐसा कदापि नहीं करूंगा।’

जैसे ही उसकी प्रार्थना पूरी हुई, दूसरा पुरुष अंतर्ध्यान हो गया। पति-पत्‍नी सकुशल अपने घर पहुंच गए। उस दिन के बाद से पति-पत्‍नी नियमपूर्वक बुध त्रयोदशी प्रदोष का व्रत रखने लगे। अत: बुध त्रयोदशी व्रत हर मनुष्य को करना चाहिए।

शिव जी की आरती (Shiv Aarti):

जय शिव ओंकारा ॐ जय शिव ओंकारा ।
ब्रह्मा विष्णु सदा शिव अर्द्धांगी धारा ॥ ॐ जय शिव…॥

एकानन चतुरानन पंचानन राजे ।
हंसानन गरुड़ासन वृषवाहन साजे ॥ ॐ जय शिव…॥

दो भुज चार चतुर्भुज दस भुज अति सोहे।
त्रिगुण रूपनिरखता त्रिभुवन जन मोहे ॥ ॐ जय शिव…॥

अक्षमाला बनमाला रुण्डमाला धारी ।
चंदन मृगमद सोहै भाले शशिधारी ॥ ॐ जय शिव…॥

श्वेताम्बर पीताम्बर बाघम्बर अंगे ।
सनकादिक गरुणादिक भूतादिक संगे ॥ ॐ जय शिव…॥

कर के मध्य कमंडलु चक्र त्रिशूल धर्ता ।
जगकर्ता जगभर्ता जगसंहारकर्ता ॥ ॐ जय शिव…॥

ब्रह्मा विष्णु सदाशिव जानत अविवेका ।
प्रणवाक्षर मध्ये ये तीनों एका ॥ ॐ जय शिव…॥

काशी में विश्वनाथ विराजत नन्दी ब्रह्मचारी ।
नित उठि भोग लगावत महिमा अति भारी ॥ ॐ जय शिव…॥

त्रिगुण शिवजीकी आरती जो कोई नर गावे ।
कहत शिवानन्द स्वामी मनवांछित फल पावे ॥ ॐ जय शिव…॥

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 चंद्रमा में लगा उपच्छाया ग्रहण, यहां देखिए लाइव कवरेज
2 Horoscope Today, 3 June 2020: सिंह वालों का दिन रहेगा रोमांटिक, वहीं खर्चों में अप्रत्याशित बढ़ोतरी से आप रहेंगे परेशान
3 Career/Job Rashifal, 3 June 2020: वृश्चिक वालों को मिलेगा आर्थिक लाभ, धनु वाले ऑफिस में किसी षड्यन्त्र का हो सकते हैं शिकार