ताज़ा खबर
 

चार द‍िन में दो रेल हादसे: जान‍िए ग्रह-राश‍ि के ह‍िसाब से क्‍या है दुर्घटनाओं के कारण व उपाय

पिछले चार दिनों में दो बड़े रेल हादसे हुए हैं, जिसमें करीब दो दर्जन लोगों की मौत हुई है तो 100 से ज्यादा लोग घायल हो गए।

जीवन में घटने वाले किसी भी हादसे के पीछे हमारे ग्रहों की स्थिति जिम्मेदार होती है।

पिछले चार दिनों में दो बड़े रेल हादसे हुए हैं। शनिवार को ओडिशा के पुरी से उत्तराखंड के हरिद्वार जा रही कलिंगा उत्कल एक्सप्रेस उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले के खतौली में हादसे की शिकार हो गई। उत्कल एक्सप्रेस के 14 डिब्बे पटरी से उतर गए, जिसमें करीब 2 दर्जन लोगों की मौत हो गई। इसके अलावा मंगलवार देर रात उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ शहर में कैफियत एक्सप्रेस पटरी से उतर गई है। इस हादसे में ट्रेन की 10 बोगियां और इंजन पटरी से उतर गई। बताया जा रहा है कि इस हादसे में 75 लोग घायल हो गये। चार दिन में दो बड़े रेल हादसे होना चिंता का विषय है। ऐसे में महागुरु गौरव मित्तल बता रहे हैं कि ग्रह-राश‍ि के ह‍िसाब से दुर्घटनाओं के कारण व उपाय क्‍या है? इनका कहना है कि जिंदगी में ग्रहों की स्थिति से नकारात्मक दशा बनती है। आप कितनी भी सावधान रहें या सावधानी बरतें, लेकिन बार-बार दुर्घटनाग्रस्त होने की संभावना बढ़ जाती है।

-शनि का प्रभाव नसों और हड्डियों पर रहता है। शनि की स्थिति खराब है तो नसों में ऑक्सिजन और हड्डियों में कैल्शियम की कमी हो जाती है। वाहन मशीनरी से चोट लगने और हड्डियों में फ्रेक्चर होने की संभावना बढ़ जाती है। यह संभव है कि आपके पैरों में बार-बार चोट लगे और हड्डी टूटती हैं तो यह शनि की खराब स्थिति को दर्शाता है। ऐसी स्थिति से बचने के लिए ऐसे लोग हनुमान चालिसा का पाठ करें और मदीरा और मांस का सेवन बंद कर दें।

-राहु का प्रभाव आंखों और दिमाग पर रहता है। राहु की प्रतिकूल स्थिति जीवन में अचानक दुर्घटना लेकर आती है। इससे चोट लगती है। इससे मनोविकार, अंधापन, लकवा आदि होना राहु के ही लक्षण हैं। पानी, भूत-प्रेत, टोना टेटका या पानी से डर, ऊंचाई से भय भी राहु के ही लक्षण हैं। इससे बचने के लिए आपको गणेश जी और सरस्वती माता की वंदना करनी होगी। अवसाद से दूर रहना होगा और सामाजिक संबंध बढ़ाने होंगे। रिस्क वाली चीजों से दूर रहना होगा।

-मंगल ग्रह हमारे शरीर में रक्त का प्रतिनिधि है। मंगल की नकारात्मक दशा हमारे सिर में चोट लगने की संभावना बढ़ाती है। खेलते समय अगर मंगल आपके पक्ष में नहीं है तो चोट लगना आम बात है। रक्त संबंधी बीमारियों भी इसी की वजह से होती हैं। मंगल के प्रभाव की वजह से ही किसी दुर्घटना का शिकार होते हैं। इससे बचने के लिए मंगल का व्रत रखें, मसूर दाल का दान करें। इसके अलावा शराब और मांस से दूर रहें और अपने गुस्से पर नियंत्रण रखें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App