ताज़ा खबर
 

16 जुलाई को लगने जा रहा है चंद्र ग्रहण, जानिए इससे जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

ऐसा माना जाता है कि चंद्र ग्रहण को नंगी आंखों से नहीं देखना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से ग्रहण की हानिकारक किरणें आपकी आंखों को नुकसान पहुंचा सकती हैं और ऐसा हकीकत में भी होता है। ग्रहण की किरणें आंखों को बहुत हानि पहुंचा सकती हैं। विज्ञान भी इस बात से कभी इनकार नहीं करता है।

lunar eclipse, lunar eclipse july 2019, lunar eclipse 2019 date and time, lunar eclipse 2019 india, lunar eclipse timings, lunar eclipse india 2019, chandra grahan, chandra grahan 2019, chandra grahan 2019 date and time, chandra grahan 2019 facts, chandra grahan 2019 india, chandra grahan news, lunar eclipse facts, partial lunar eclipse 2019, partial lunar eclipse july 2019Lunar Eclipse 2019 India: जानें चंद्र ग्रहण को लेकर कुछ जरूरी बातें।

साल 2019 का दूसरा चंद्र ग्रहण 16 जुलाई की रात को लगने जा रहा है। यह आंशिक चंद्र ग्रहण होगा। इस दौरान ग्रहों की जो स्थिति बन रही है, कहा जा रहा है कि ऐसी स्थिति 149 साल पहले बनी थी। अकसर चंद्र ग्रहण को लेकर बहुत सी बातें कही जाती हैं कि चंद्र ग्रहण को नंगी आंखों से नहीं देखना चाहिए, खाना नहीं खाना, पूजा पाठ नहीं करना चाहिए इसी तरह के बहुत से कार्यों को करने के लिए मना किया जाता है। इन सब कार्यों की मनाही के पीछे कई धार्मिक कारण छिपे हैं। लेकिन विज्ञान इन सब बातों को लेकर क्या कहता है जानिए यहां…

1. ऐसा माना जाता है कि चंद्र ग्रहण को नंगी आंखों से नहीं देखना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से ग्रहण की हानिकारक किरणें आपकी आंखों को नुकसान पहुंचा सकती हैं और ऐसा हकीकत में भी होता है। ग्रहण की किरणें आंखों को बहुत हानि पहुंचा सकती हैं। विज्ञान भी इस बात से कभी इनकार नहीं करता है। लेकिन आजकल इतनी सारी खोज होने के बाद बहुत से ऐसे चश्मे बन चुके हैं, जिन्हें पहनकर आप ग्रहण को देख सकते हैं।

2. ऐसी भी मान्यता है कि ग्रहण के समय कुछ भी खाना या पीना नहीं चाहिए। क्योंकि ग्रहण की किरणें खाने को अशुद्ध बना सकती हैं, जिसके कारण अपच या फिर कोई बीमारी हो सकती है। लेकिन इस बारे में हुई खोज बताती हैं कि ये सब सिर्फ अंधविश्वास है। ऐसा कोई भी सबूत नहीं है जो इस बात को साबित कर सके कि ग्रहण के समय खाना खाने से या फिर कुछ पीने से बीमारी लगती है।

3. कई लोग ये भी मानते हैं कि ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को सबसे ज़्यादा ख्याल रखना पड़ता है। यहां तक कि उन्हें घर से बाहर जाने कि भी अनुमति नहीं होती है। क्योंकि ग्रहण की किरणें गर्भ में पल रहे बच्चे को बीमार कर सकती है या तो फिर उसे विकलांग या किसी प्रकार का विकार दे सकती हैं। लेकिन वैज्ञानिकों का कहना है कि इस बात में कोई भी सच्चाई नहीं है। गर्भवती महिलाएं घर से बाहर भी निकल सकती हैं और ग्रहण को देख भी सकती है।

4. अनेक लोगों के मत के अनुसार अगर आप अपने आप को ग्रहण के दौरान कहीं पर काट लेते हो या फिर कहीं छोटा मोटा कट भी लग जाता है तो उससे निकलने वाले खून को सूखने में साधारण से ज़्यादा समय लगता है और चोट ठीक होने में भी काफी समय लगाएगी। यहां तक कि उस चोट का निशान भी ज़िन्दगी भर के लिए नहीं हटेगा। लेकिन विज्ञान इ बातों को नहीं मानता।

5. सभी लोग मानते हैं कि ग्रहण के तुरन्त बाद नहाना ज़रूरी होता है क्योंकि वो मानते हैं कि ऐसा करने से ग्रहण के कारण आई सारी नकारात्मक शक्तियां हट जाती हैं। लेकिन इस बात के बारे में कोई भी ध्यान नहीं देता कि जिस पानी से वह नहाने लगे हैं क्या वो पानी ग्रहण के प्रभाव में नहीं आया होगा, तो वो शुद्ध कैसे हुआ? इस बात को भी विज्ञान द्वारा झुटला दिया गया है। क्योंकि इस बात के पीछे ज़रा सी भी सच्चाई नहीं है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 क्यों मनाई जाती है गुरु पूर्णिमा, जानें इसकी पूजन विधि और महत्व के बारे में
2 क्यों और कैसे लगता है चंद्र ग्रहण, जानें इससे जुड़ी धार्मिक और वैज्ञानिक बातें
3 गुरु पूर्णिमा 2019: ये थे विश्व के 5 ऐसे महान गुरु, जिनके ज्ञान ने उनके शिष्यों को भी बना दिया महान
ये पढ़ा क्या?
X