ताज़ा खबर
 

Panchang 25 October 2020: आज का पंचांग: जानें किस मुहूर्त में किया जाएगा दहन, बनेंगे कौन-से शुभ योग और क्या रहेगा राहु काल का समय

Maha Navami/ Dussehra/ Aaj Ka Panchang: कहते हैं कि किसी भी पूजा पाठ को करने के दौरान पंचांग और मुहूर्त का खास ख्याल रखना चाहिए। बिना मुहूर्त में किये गये कार्यों का फल नहीं मिलता है।

किसी भी काम को करने से पहले शुभ मुहूर्त और राहु काल का समय जान लेना चाहिए।

Today Panchang 25 October 2020 (आज का पंचांग): हिंदू पंचांग के मुताबिक हर साल आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की नवमी और तिथि को महानवमी और दशहरा मनाया जाता है। इस दिन अस्त्र-शस्त्र, शमी के पेड़ को श्री राम की आराधना की जाती है। साथ ही इस दिन रावण दहन भी किया जाता है। कई लोग इस दिन रावण के ज्ञान की भी अर्चना करते हैं।

और  इस साल महानवमी और दशहरा का त्योहार 25 अक्तूबर, रविवार और 26 अक्तूबर, सोमवार मनाया जाएगा। आइए जानते हैं आज का पंचांग और शुभ मुहूर्त –

बन रहे हैं कौन-से योग – आज के दिन सर्वार्थ सिद्धि योग नहीं बन रहा है। आज रात 4 बजकर 23 मिनट से धनिष्ठा नक्षत्र लगेगा। आश्विन महीने के शुक्ल पक्ष में सुबह 7 बजकर 41 मिनट तक नवमी तिथि रहेगी। उसके बाद दशमी तिथि यानी दशहरा का दिन शुरू हो जाएगा।

आज के शुभ मुहूर्त – आज अभिजित मुहूर्त भी बना रहेगा, सुबह 11 बजकर 42 से लेकर दोपहर 12 बजकर 27 मिनट तक यह मुहूर्त बन रहेगा। दोपहर 1 बजकर 57 मिनट से 2 बजकर 42 मिनट तक विजय मुहूर्त रहेगा। वहीं, शाम 5 बजकर 41 मिनट से 6 बजकर 58 मिनट तक अमृत काल रहेगा। शाम 5 बजकर 30 मिनट से 5 बजकर 54 मिनट तक गोधूलि मुहूर्त का समय है। सायाह्न सन्ध्या का समय शाम 5:41 से 6:58 होगा। इसके अलावा, रात 11 बजकर 40 मिनट से 12 बजकर 31 मिनट तक निशिता मुहूर्त लगा रहेगा।

कब रहेगा राहु काल – शाम 04 बजकर 17 मिनट से लेकर शाम 05 बजकर 41 मिनट तक राहुकाल का समय है। वहीं, गुलिक काल का समय सुबह 02 बजकर 53 से 04 बजकर 17 मिनट तक माना जा रहा है। इसके अलावा, सुबह 04 बजकर 12 मिनट से 04 बजकर 57 मिनट तक दुर्मुहूर्त भी लगा रहेगा। इसके अलावा, यमगण्ड काल दोपहर 12 बजकर 05 मिनट से लेकर शाम 01 बजकर 29 मिनट तक रहेगा।

Next Stories
1 Horoscope Today, 25 October 2020: वृष वाले जीवन शैली में करें बदलाव, रंग लाएगी मिथुन राशि वालों की मेहनत
2 Dussehra (Vijayadashami) 2020: क्यों दशहरा के दिन को माना जाता है इतना खास, जानें प्राचीन महत्व
3 नवदुर्गा का अंश मानी जाती हैं ये वनस्पतियां, जानें- किस औषधि में किस देवी के वास की है मान्यता
ये पढ़ा क्या?
X