ताज़ा खबर
 

Shivratri 2018: महाशिवरात्रि पर भोलेबाबा को खुश करने के लिए चढ़ाएं ये चीजें, पूरे होंगी सभी मनोकामनाएं

Maha Shivratri 2018 Puja: शिवपुराण के अनुसार बिल्व वृक्ष को महादेव का रुप माना जाता है। फूल, कुमकुम, प्रसाद आदि वस्तुओं को इस दिन पूजा के समय इस्तेमाल किया जाता है। शिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर केसर में जल मिलाकर उसे अर्पित करें।

Maha Shivratri 2018 Puja: धतूरा अर्पित करने से संतान की प्राप्ति होती है।

Maha Shivratri 2018 Puja: महाशिवरात्रि हिंदू धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक माना जाता है। इस दिन भगवान शिव के भक्त पूरी रात जागकर शिव की आराधना में भजन करते हैं। इस दिन कुछ लोग उपवास भी करते हैं। शिवलिंग पर जल और बेलपत्र चढ़ाने के बाद ही उपवास खोला जाता है। महिलाओं के लिए शिवरात्रि का विशेष महत्व होता है। अविवाहित महिलाएं सुवर पाने की इच्छा के साथ भगवान शिव की आराधना करती हैं। वहीं पर विवाहित महिलाएं अपने पति और परिवार के लिए मंगलकामना करती हैं। पौराणिक मान्यता के अनुसार माता पार्वती ने भगवान शिव से पूछा था कि आप किस वस्तु से सबसे ज्यादा प्रसन्न होते हैं तो भगवान शिव ने कहा था कि जो भक्त उनके लिए श्रद्धाभाव से व्रत करता है उनसे वो सबसे अधिक प्रसन्न होते हैं। इस दिन श्रद्धालु अपनी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए शिवालयों में जलाभिषेक और पूजा अर्चना करते हैं और भगवान शिव को प्रसन्न करने का प्रयास करते हैं।

शिवरात्रि की रात में भगवान शिव के मंदिर में दीपक जलाना लाभदायक माना जाता है। शिवपुराण के अनुसार कुबेर देव ने पूर्व जन्म में रात के समय शिवलिंग के पास रौशनी हुई थी। इस वजह से अगले जन्म में वो देवताओं के कोषाध्यक्ष बने।

शिवरात्रि की रात को स्फटिक के शिवलिंग की पूजा की जा सकती है। घर के मंदिर में जल, दूध, दही, घी, शहद और शक्कर से इस शिवलिंग को स्नान करवाएं। इसके साथ ऊं नमः शिवाय मंत्र का 108 बार जाप करें।

हनुमान जी को भगवान शिव का ही अंशावतार माना जाता है। शिवरात्रि पर हनुमान चालीसा का पाठ करने से हनुमान और शिव जी की प्रसन्न होते हैं। हनुमान जी को संकटमोचन माना जाता है, इस दिन पूजन से वो सभी के दुखों और कष्टों को हर लेते हैं।

महाशिवरात्रि के दिन किसी जरुरतमंद व्यक्ति को भोजन करवाएं, शास्त्रों में माना जाता है कि गरीबों को दान करने से सभी पापों का नाश हो जाता है।

शिवपुराण के अनुसार बिल्व वृक्ष को महादेव का रुप माना जाता है। फूल, कुमकुम, प्रसाद आदि वस्तुओं को इस दिन पूजा के समय इस्तेमाल किया जाता है। शिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर केसर में जल मिलाकर उसे अर्पित करें।

शिवरात्रि के दिन भगवान शिव को दूध अर्पित किया जाता है। मान्यता है दूध अर्पित करने से भक्त और उसके परिवार का स्वास्थ्य ठीक रहता है और घर में समृद्धि रहती है। दूध में हल्दी डालकर अर्पित करने से संतान पाने की इच्छा पूरी होती है।

भगवान शिव को वैसे तो अनेकों फूले चढ़ाए जाते हैं लेकिन सफेद आकड़े के फूलों का विशेष महत्व माना जाता है। इन फूलों को अर्पित करने से घर में समृद्धि का वास होता है।

भगवान शिव को शहद अर्पित करने से वाणी में मिठास आती है और शत्रु के मन में आपके प्रति बुरी भावनाएं खत्म होती हैं। वहीं धतूरा अर्पित करने से संतान की प्राप्ति होती है।

Next Stories
1 Maha Shivratri 2018: शिवरात्रि की रात को सीधी रखी जाती है रीढ़ की हड्डी, जानें क्या है मान्यता
2 Mahashivratri 2018: जानें क्या है भांग वाली ठंडाई बनाने की विधि, भगवान शिव को है सबसे प्रिय
3 Mahashivratri 2018: राशि के अनुसार करें भगवान शिव की पूजा, जानें कैसे किया जा सकता है प्रसन्न
ये पढ़ा क्या?
X