ताज़ा खबर
 

Happy Navratri 2018: यहां से हुई थी नवरात्र पर्व मनाने की शुरुआत, जानिए इसका महत्व

Navratri 2018: नवरात्र हिंदू धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक है। 9 दिन चलने वाले इस त्योहार में मां दुर्गा के 9 रूपों की अराधना की जाती है।

Navratri 2018: नवरात्र का शाब्दिक अर्थ नौ रातों का समूह होता है। हर दिन दुर्गा माता के 9 अलग-अलग रूपों की पूजा की जाती है।

Navratri 2018: नवरात्र हिंदू धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक है। 9 दिन चलने वाले इस त्योहार में मां दुर्गा के 9 रूपों की अराधना की जाती है। नवरात्र का शाब्दिक अर्थ नौ रातों का समूह होता है। हर दिन दुर्गा माता के 9 अलग-अलग रूपों की पूजा की जाती है। नवरात्र साल में दो बार आने वाला त्योहार है। आश्विन माह में आने वाले नवरात्र को शारदीय नवरात्र कहते हैं। आश्विन शुक्ल पक्ष की पहली तिथि से नवमी तक नवरात्र मनाया जाता है। इसके बाद विजयादशमी यानी कि दशहरा का पर्व आता है। इस साल शारदीय नवरात्र 10 अक्टूबर से शुरू हो रहा है।

शारदीय नवरात्र का महत्व – आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की पहली तारीख से मनाया जाने वाला नवरात्रि का त्योहार सनातन काल से ही मनाया जा रहा है। ऐसी मान्यता है कि सबसे पहले भगवान राम ने नवरात्र की शुरुआत की थी। समुद्र किनारे शक्ति की उपासना करने के बाद ही भगवान राम ने लंका पर चढ़ाई की थी। बाद में उन्होंने रावण का वध कर विजय भी प्राप्त किया। इसीलिए, नवरात्र के नौ दिनों तक मां दुर्गा की पूजा करने के बाद दसवें दिन दशहरा का पर्व मनाया जाता है। इसे अधर्म पर धर्म की तथा असत्य पर सत्य की जीत के प्रतीक के तौर पर मनाया जाता है।

कब से कब तक है नवरात्र – इस साल शारदीय नवरात्र की शुरुआत 10 अक्टूबर से हो रही है। यह 19 अक्टूबर तक रहेगा। 19 अक्टूबर को ही दशहरा भी मनाया जाएगा। नवरात्र में बहुत से लोग पूरे 9 दिन का व्रत रखते हैं। कुछ लोग नवरात्र के प्रथम और आखिरी दिन ही उपवास रखते हैं। नवरात्र के प्रथम दिन उपवास का संकल्प लेने के बाद कलश की स्थापना की जाती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App