Obestity Problem: लाख प्रयासों के बाद भी नहीं जा रहा है मोटापा तो इस ग्रह का करा लें उपचार

Astrological Upay For Obestity Problem: चंद्रमा, बृहस्पति और शुक्र ग्रह शरीर में वसा की मात्रा को नियंत्रित करने का काम करते हैं। अत: शरीर में वात, पित्त व कफ की मात्रा बढ़ने से ही मोटापा (Motapa Problem) बढ़ता है।

Obestity causes, Obestity reasons, Obestity problem, Obestity remedies,
Fat Obesity Problem: अगर आप बृहस्पति का पूजा-पाठ करेंगे तो मोटापा घटाने में सफल हो पायेंगे।

Obestity Causes And Remedies: मोटापा किसे पसंद होता है। ये शरीर में अपने साथ कई बीमारियां भी लेकर आता है। इसलिए इससे निजात पाने के लिए लोग कई उपाय करते हैं। लेकिन कई बार लाख-प्रयासों के बाद भी शरीर में से फेट जाता ही नहीं है। वहीं कुछ लोग ऐसे होते हैं जो खूब खाने के बाद भी पतले दुबले ही नजर आते हैं। ऐसा क्यों हैं? इसका कारण आपके ग्रह नक्षत्र हैं। ज्योतिष अनुसार शरीर की आकृति या बनावट का संबंध हमारे ग्रहों से होता है। मोटापा भी किसी न किसी ग्रह के प्रभाव से ही आता है। तो ऐसे में उस ग्रह का उपचार करने की जरूरत होती है। जिससे शरीर की चर्बी खत्म की जा सके।

शरीर में मोटापे के कारण: चंद्रमा, बृहस्पति और शुक्र ग्रह शरीर में वसा की मात्रा को नियंत्रित करने का काम करते हैं। अत: शरीर में वात, पित्त व कफ की मात्रा बढ़ने से ही मोटापा बढ़ता है। इसके अलावा यदि लग्न में कर्क, वृश्चिक राशि हो या लग्न में जलीय प्रकृति का ग्रह हो तो शरीर में मोटापा बढ़ेगा ही। लग्न का बृहस्पति व्यक्ति को खाने पीने का शौकिन बनाता है वहीं अग्नि तत्वीय ग्रह मंगल, सूर्य, बृहस्पति अगर कमजोर हों तो व्यक्ति की पाचन क्रिया सदैव गड़बड़ रहती है। जिन लोगों की कुंडली में बृहस्पति नीच राशि में होता है उनमें मोटापा अधिक बढ़ता है। जो जातक बृहस्पति के लग्न में जन्म लेते हैं उनमें भी मोटापा अधिक होता है। बृहस्पति की स्वामित्व वाली राशियों यानी धनु या मीन राशि के लोगों को भी अपने जीवन में मोटापे की समस्या जरूर आती है।

मोटापे को कम करने के उपाय: अगर आप बृहस्पति का पूजा-पाठ करेंगे तो मोटापा घटाने में सफल हो पायेंगे। यदि कुंडली में जलीय लग्न हो, चंद्रमा कमोजर हो तो चाँदी के गिलास में पानी पिएं और सफेद वस्तु का सेवनकरें। चंद्र मंत्र का जाप भी आपको लाभ देगा। बृहस्पति के खराब होने पर मसालेदार भोजन से परहेज रखें। गले में हल्दी की गाँठ गुरुवार के दिन धारण करने से मोटापे पर नियंत्रण हो सकता है। इस दिन पीली वस्तुओं का दान और गुरु मंत्र का जाप करना भी आपके लिए फलदायी साबित होगा। यदि शुक्र खराब है तब भी मोटापा तेजी से बढ़ता है ऐसे में सफेद व ठंडी चीजों से परहेज रखें। त्रिफला का नियमित सेवन करने से लाभ मिलेगा। मोटापे से बचने के लिए नियमित रूप से सूर्य को रोली मिलाकर जल अर्पित करें। पद्मासन में बैठने का अभ्यास करें। पीला पुखराज धारण न करें। सूर्यास्त के बाद भारी खाना न खाएं।

गुरुवार के दिन बृहस्पति के वैदिक मंत्र का जाप करने से मोटापे से संबंधित परेशानियों से निजात मिल सकती है। बृहस्पति के दोषों के निवारण के लिए गुरुवार के दिन देवगुरु बृहस्पति की पूजा करें और उन्हें गंध, अक्षत, पीले फूल, पीला भोजन, पीले वस्त्र अर्पित करें और इस गुरु मंत्र का जाप करें-
ऊँ बृहस्पतेति यदर्यो अर्हाद्युमद्विभार्ति क्रतुमज्जनेषु।
यद्दीदयच्छवसे ऋतु प्रजात तदस्मासु द्रविणं देहि चितम्।

पढें Religion समाचार (Religion News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट
X