ताज़ा खबर
 

कम वजन का रत्न पहनने से नहीं मिलता फल, जानें- कितना होना चाहिए वजन?

कई लोगों का मानना है कि बिना किसी विशेषज्ञ की सलाह के कोई भी रत्न धारण नहीं करना चाहिए।
माणिक रत्न का वजन कम से कम तीन रत्ती का होना चाहिए। (file photo)

अगर आप रत्न या रुद्राक्ष धारण करते हैं तो आपको कई बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए। कई लोग अपने शोक के लिए रत्न धारण करते हैं तो वहीं कई लोग विशेषज्ञों की सलाह पर रत्न धारण करते हैं। कई लोगों का मानना है कि बिना किसी विशेषज्ञ की सलाह के कोई भी रत्न धारण नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से आपको इसका नुकसान भुगतना पड सकता है। आज हम आपको बताएंगे कि रत्न पहनते समय रत्न के वजन का विशेष ध्यान रखना चाहिए। क्योंकि अगर आप रत्न को पहनते समय इसके वजन का ध्यान नहीं रखेंगे तो इसके पहनने का कोई लाभ नहीं होगा। यह जानकारी हम आपके लिए पं. शशि मोहन बहन द्वारा लिखी गई किबात ‘रत्न रंग और रुद्राक्ष’से साभार लेकर बता रहे हैं।

माणिक- माणिक रत्न का वजन कम से कम तीन रत्ती का होना चाहिए।
हीरा- हीरा पहनने वाले लोगों का ध्यान रखना चाहिए कि वजन कम से कम डेढ़ रत्ती का है या नही।
नीलम- नीलम का वजन कम से कम चार रत्ती का होना चाहिए।
पन्ना- कम से कम तीन रत्ती से छह रत्ती का होना चाहिए।
पुखराज- कम-से-कम तीन रत्ती से चार रत्ती का होना चाहिए। 6,11 या 15 रत्ती का पुखराज कभी नहीं पहनना चाहिए।
मोती- कम-से-कम 4,6,2 या 11 रत्ती का होना चाहिए, परन्तु 7 अथवा 8 रत्ती का कभी नहीं पहनना चाहिए।
मूंगा- कम- से-कम 4 से 6,11 या 13 रत्ती का होना चाहिए, परन्तु 5 या 14 रत्ती का कभी नहीं पहनना चाहिए।
गोमेद- कम-के-कम 4 से 6,11 या 13 रत्ती का होना चाहिए, परन्तु 7,10 या 16 रत्ती का कभी नहीं पहनना चाहिए।
लहसुनिया- कम-से-कम 4 रत्ती से 7 रत्ती का हना चाहिए, परन्तु 13 रत्ती का कभी नहीं पहनना चाहिए।
विशेषज्ञों के अनुसार आपको अपनी राशि के अनुसार ही रत्नों को धारण करना चाहिए। ऐसा करने से आपको रत्न पहनने का विशेष लाभ मिलता है। वहीं अगर अपनी मर्जी से रत्न पहनते हैं तो उसका फल नहीं मिलेगा। ऐसे में हम आपको बता रहे हैं कि वृषभ राशि के लोगों को विशेष रुप से मूंगा और पुखराज रत्न धारण नहीं करना चाहिए। वहीं मेष राशि के लोगों के लोगों को पन्ना और पुखराज रत्न धारण नहीं करना चाहिए। सिंह राशि के लोगों को कभी शनि का नीलम रत्न नहीं पहनना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.