ताज़ा खबर
 

नास्त्रेदमस भविष्यवाणी: इन 4 चीजों से दुनिया को होगा खतरा, क्या कोरोना वायरस को लेकर भी की थी भविष्यवाणी?

Nostradamus Ki Bhavishyavani: (सेंचुरीज vi-10) कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी इंटरनेट पर काफी वायरल हो रही है। कुछ लोगों का दावा है कि इन्होंने अपनी भविष्यवाणी की पुस्तक के छंद 2:53 में कोराना वायरस का जिक्र किया है।

नास्त्रेदमस ने अपनी पुस्तक में इस बात की भी भविष्यवाणी की थी कि दुनिया के लिए महामारी एक बड़ा खतरा साबित होगी।

Nostradamus Prophecy: ज्योतिष शास्त्र अनुसार भविष्य की घटनाओं का वर्तमान में पता लगाया जा सकता है। ये जानकारी ग्रहों की स्थिति को देखकर पता लगायी जाती है। लेकिन एक ऐसे भविष्यवेत्ता थे जिन्होंने कई सदियों पहले ही आने वाले कई सालों के लिए भविष्यवाणी कर दी थीं। समय समय पर हुई बड़ी घटनाओं को माइकल दि नास्त्रेदमस की भविष्यवाणियों से जोड़कर भी देखा गया। इनकी 4 ऐसी भविष्यवाणी हैं जिसमें दुनिया की आधी आबादी के नष्‍ट हो जाने की आशंका व्यक्त की जाती है।

सबसे पहले जान लेते हैं कौन थे नास्त्रेदमस: माइकल डी नास्त्रेदमस का जन्म 1503 में फ्रांस के यहूदी परिवार में हुआ था। बाद में इन्होंने कैथलिक धर्म अपना लिया। इनके द्वारा लिखी गई ‘द प्रॉफेसीज’ किताब में दुनिया के बारे में कई भविष्यवाणियां की गई हैं, जो हमेशा से ही चर्चा का विषय भी बनी रही हैं। लोगों का ऐसा मानना हैं कि इनकी लिखी हुई कविताओं में दुनिया की सारी बड़ी घटनाओं की भविष्यवाणी छुपी हुई है। जिसे समय समय पर लोगों ने नेपोलियन और फ्रांस की क्रांति से लेकर, कैनेडी की हत्या और वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हमले तक की घटनाओं से जोड़कर देखा। जानिए नास्त्रेदमस की दुनिया को लेकर 4 बड़ी भविष्यवाणी…

तृतीय विश्व युद्ध: नास्त्रेदमस ने अपनी भविष्यवाणी की पुस्तक में लिखा है – ‘एक पनडुब्बी में तमाम हथियार और दस्तावेज लेकर वह व्यक्ति इटली के तट पर पहुंचेगा और युद्ध शुरू करेगा। जब तृतीय युद्ध चल रहा होगा उस दौरान चीन के रासायनिक हमले से एशिया में तबाही और मौत का मंजर देखने को मिलेगा, ऐसा जो आज तक कभी नहीं हुआ।- (सेंचुरीज vi-51)

जलवायु परिवर्तन: नास्त्रेदमस के मुताबिक मौसम में भी काफी बदलाव देखने को मिलेंगे। प्राकृतिक आपदाएं बढ़ेंगी। बाढ़, तूफान, गर्मी और भूकंप ज्‍यादा होने लगेंगे। गर्मी चरम सीमा पर पहुंच जायेगी। भूमि में पानी सूखने लगेगा, लेकिन समुद्री जल स्तर बढ़ जायेगा। इनकी इस भविष्यवाणी को आज के समय से जोड़कर देखा जाता है जिस तरह से ग्लोबल वार्मिंग का असर पिछले कुछ सालों से शुरू हो चुका है। मौसम में भी बड़े बदलाव देखने को मिल रहे हैं अब धीरे धीरे मौसम आगे खसक गए हैं। गर्मी में भीषण गर्मी और ठंड में कड़ाके की ठंड और इसके साथ ही बारिश में अब चारों ओर बाढ़ के नजारे देखने को मिलते हैं।

महामारी का खतरा: नास्त्रेदमस ने अपनी पुस्तक में इस बात की भी भविष्यवाणी की थी कि दुनिया के लिए महामारी एक बड़ा खतरा साबित होगी। जैसे दुनिया में एड्स से पहले प्लेग एक महामारी थी जिसकी चपेट में कई लोग आये। फिर काला बुखार, हैजा ने भी लोगों को खूब परेशान किया। इसके बाद इबोला, बर्ड फ्लू, स्वाइन फ्लू भी कई लोगों के मौत का कारण बने। अब कोरोना वायरस के कारण लोगों को अपनी जान तक से हाथ खोना पड़ रहा है। (सेंचुरीज vi-10) कोरोना वायरस को लेकर उनकी भविष्यवाणी इंटरनेट पर काफी वायरल हो रही है। कुछ लोगों का दावा है कि नास्त्रेदमस ने अपनी भविष्यवाणी की पुस्तक के छंद 2:53 में कोराना वायरस का जिक्र किया है।

उल्कापिंड (एस्टेरॉयड) से तबाही : नास्त्रेदमस की भविष्यवाणियों के अनुसार जब दुनिया में तृतीय विश्वयुद्ध चल रहा होगा उसी समय आकाश से आग का एक गोला धरती की तरफ आयेगा जो हिंद महासागर में एक तूफान खड़ा कर देगा। इस घटना से दुनिया के कई राष्ट्र जलमग्न हो जाएंगे। अंतरिक्ष में ऐसी दो उल्कापिंड हैं जो धरती की ओर आ रही है- 2005 वाय-यू 55 और एपोफिस। एपोफिस 37014.91 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से पृथ्वी से टकरा सकता है। (सेंचुरीज I-69)

Next Stories
1 Weekly Horoscope (Rashifal): इस सप्ताह 3 राशि वालों को मिलेगी खुशखबरी, बाकियों के सितारे ये दे रहे संकेत
2 Vastu Tips: नए मकान को डेकोरेट करने जा रहे हैं, तो जरूर पढ़ें ये खबर, जानें- वास्‍तु के अनुसार कैसे सजाएं अपने घर को
3 Amarnath Yatra 2020: अमरनाथ यात्रा 23 जून से, पहली अप्रैल से शुरू हो जाएगा रजिस्ट्रेशन, यहां जानें इसकी पूरी प्रक्रिया
ये पढ़ा क्या?
X