ताज़ा खबर
 

Navratri 2018 Colours: नवरात्र में इस दिन इस रंग के कपड़े पहनना हो सकता है शुभ

Navratri 2018 Colors for Nine Days, Navratri 2018 Nine Days Colours October: सातवां दिन, 16 अक्टूबर - कालरात्रि, सरस्वती पूजा- इस दिन नीले रंग के कपड़े पहनना शुभ माना जाता है। इस रंग के कपड़े पहनने से मां कालरात्रि प्रसन्न होती है।

चौथा दिन, 13 अक्टूबर – स्कंदमाता पूजा – इस दिन नारंगी के कपड़े पहनने से स्कंदमाता की कृपा मिलती है।

Navratri 2018 Colors for Nine Days, Navratri 2018 Nine Days Colours: इस साल नवरात्र का शुरुआत 10 अक्टूबर से हुई है। यह पर्व 18 अक्टूबर तक चलेंगे। नवरात्र में रंगों का विशेष महत्व होता है। कहा जाता है जो लोग इस दौरान दिन के हिसाब से विशेष रंग के कपड़े पहनते हैं उन्हें विशेष लाभ मिलता है। नौ दिनों में नौ रंगों के कपड़े पहनने और मां के नौ रूपों की पूजा करने से व्यक्ति की मनोकामनाएं पूरी हो सकती हैं। आइए आज जानते हैं दिन के हिसाब से नवरात्र में किस रंग के कपड़े पहनें शुभ माने गए हैं।

पहला दिन , 10 अक्टूबर – शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी पूजा – इस दिन पीले रंग के कपड़े पहनना शुभ माना जाता है।

दूसरा दिन, 11 अक्टूबर – चंद्रघंटा पूजा – इस दिन हरे रंग के कपड़े से विशेष लाभ मिलता है।

तीसरा दिन, 12 अक्टूबर – कुष्मांडा पूजा – इस दिन ग्रे रंग के कपड़े पहनने से माता कुष्मांडा प्रसन्न होती है।

चौथा दिन, 13 अक्टूबर – स्कंदमाता पूजा – इस दिन नारंगी के कपड़े पहनने से स्कंदमाता की कृपा मिलती है।

पांचवां दिन, 14 अक्टूबर – सरस्वती पूजा – नवरात्र के पांचवें दिन मां सरस्वती की पूजा की जाती है और इस दिन सफेद कपड़े पहनने से मां सरस्वती की विशेष कृपा मिलती है।

छठा दिन, 15 अक्टूबर – कात्यायनी पूजा – छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा की जाती है और इस दिन लाल रंग के कपड़े
पहनना शुभ माना जाता है।

सातवां दिन, 16 अक्टूबर – कालरात्रि, सरस्वती पूजा – इस दिन नीले रंग के कपड़े पहनना शुभ माना जाता है। इस रंग के कपड़े पहनने से मां कालरात्रि प्रसन्न होती है।

आठवां दिन, 17 अक्टूबर – महागौरी, दुर्गा अष्टमी ,नवमी पूजन – इस दिन गुलाबी रंग के कपड़े पहनकर पूजा करना से शुभ माना जाता है।

नौवें दिन, 18 अक्टूबर -नवमी हवन, नवरात्रि पारण – नौवें दिन बैंगनी रंग पहनना शुभ होता है। इस दिन इस रंग के कपड़े पहनकर मां दुर्गा की पूजा करना शुभ होता है।

इस बार मां दुर्गा का आगमन नाव पर होने जा रहा है और प्रस्थान हाथी पर होगा जो कि शुभ संकेत है। नवरात्र में कलश स्थापना का खास महत्व होता है। इसलिए इसकी स्थापना सही और उचित मुहूर्त में ही करनी चाहिए। कलश स्थापना 10 अक्टूबर सुबह 6:22 से 7:25 तक, प्रतिपदा तिथि 9 अक्टूबर को 9:16 पर किया गया। इसके अलावा 10 अक्टूबर सुबह 11:36 से दोपहर 12:24 तक कलश स्थापना का कार्य हुआ। बता दें कि नवरात्र के पहले दिन कलश स्थापना करना मंगलकारी माना जाता है।

शास्त्रों के अनुसार कलश के मुख में भगवान विष्णु का कंठ तथा मूल में ब्रह्माजी का वास माना गया है। यह सुख-समृद्धि और वैभव का प्रतीक माना जाता है। इस बार पहला और दूसरा नवरात्र दस अक्टूबर को है। दूसरी तिथि का क्षय माना गया है। इसलिए शैलपुत्री और ब्रह्मचारिणी देवी की पूजा एक दिन की जाएगी।

 

राशिफल, 10 अक्टूबर:  मिथुन राशि वालों के बढ़ सकते हैं पारिवारिक मतभेद, धनु राशि के जातक रहेंगे ठीक

 

नवरात्र में रंगों का विशेष महत्व होता है। कहा जाता है जो लोग इस दौरान दिन के हिसाब से विशेष रंग के कपड़े पहनते हैं, उन्हें विशेष लाभ मिलता है। नौ दिनों में नौ रंगों के कपड़े पहनने और मां के नौ रूपों की पूजा करने से व्यक्ति की मनोकामनाएं पूरी होने की मान्यता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App