Navratri 2021: मां दुर्गा के प्रथम रूप ‘शैलपुत्री’ का कैसा है स्वरूप, जानिये

शैलपुत्री अपने अस्त्र त्रिशूल की भांति हमारे त्रीलक्ष्य, धर्म, अर्थ और मोक्ष के साथ मनुष्य के मूलाधार चक्र पर सक्रीय बल है।

Maa Shailputri, Navratri, Navratri 2021
शैलपुत्री मनुष्य के कायाकल्प के द्वारा सशक्त और परमहंस बनाने का प्रथम सूत्र है।

नवरात्रि का प्रथम दिवस- शैलपुत्री

नवरात्रि दो ऋतुओं के संधिकाल में स्वयं को तराशने व निखारने वाला बेहद विलक्षण और अदभुत नौ दिवसीय पर्व है। अश्विन माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से नवमी तक का यह महापर्व मानव की आंतरिक ऊर्जाओं के भिन्न भिन्न पहलुओं का प्रतिनिधित्व करती है। इनको ही मान्यतायें नौ प्रकार की या देवियों की संज्ञा देती है। शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कूष्माण्डा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी, सिद्धिदात्री, ये दरअसल किसी अन्य लोक में रहने वाली देवी से पहले मनुष्य की अपनी ही ऊर्जा के नौ निराले रूप हैं।

शैलपुत्री

वन्दे वंछितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम्।
वृषारूढाम् शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्॥

शैलपुत्री अपनें अस्त्र त्रिशूल की भाँति हमारे त्रीलक्ष्य, धर्म, अर्थ और मोक्ष के साथ मनुष्य के मूलाधार चक्र पर सक्रीय बल है। मूलाधार में पूर्व जन्मों के कर्म और समस्त अच्छे और बुरे अनुभव संचित रहते हैं। यह चक्र कर्म सिद्धान्त के अनुसार यह चक्र प्राणी का प्रारब्ध निर्धारित करता है, जो अनुत्रिक के आधार में स्थित तंत्र और योग साधना की चक्र व्यवस्था का प्रथम चक्र है। यही चक्र पशु और मनुष्य के बीच में लकीर खींचता है। यह मानव के subconscious mind यानी अचेतन मन से जुड़ा है। इस चक्र का सांकेतिक प्रतीक चार दल का कमल अंतःकरण यानी मन, बुद्धि, चित्त और अहंकार द्योतक हैं।

वृषभ पर आसीन के दाहिने हाथ में त्रिशूल जो धर्म, अर्थ और मोक्ष के द्वारा संतुलन का प्रतीक है, शैलपुत्री के लक्ष्य को स्पष्ट रूप से प्रतिबिम्बित करता है। बाएँ हाथ में सुशोभित कमल-पुष्प कीचड़ यानी स्थूल जगत में रह कर उससे परे रहने का संकेत देता है। मनुष्य में प्रभु की अपार शक्ति समाहित है शैलपुत्री उसका व्यक्त संकेत है। देह में यह शक्ति इस चक्र के आवरण में आवरण में अपनी सक्रिय भूमिका का निर्वहन कर रही है।

कभी प्रजापति दक्ष की कन्या सती के रूप में प्रकट शैलपुत्री मूलाधार मस्तिष्क से होते हुए सीधे ब्रह्मांड का प्रथम सम्पर्क सूत्र है । यदि देह में शैलपुत्री को जगा लिया जाए तो संपूर्ण सृष्टि को नियंत्रित करने वाली शक्ति शनैः शनैः देह में प्रकट होने लगती हैं। फलस्वरूप व्यक्ति विराट ऊर्जा में समा कर मानव से महामानव के रूप में तब्दील हो जाता है। शैलपुत्री की सक्रियता से मन और मस्तिष्क का विकास होने लगता है।अंतर्मन में उमंग और आनन्द व्याप्त हो जाता है। इनका जागरण न होने से मनुष्य विषय-वासनाओं में लिप्त होकर सुस्त, स्वार्थी, आत्मकेंद्रित होकर थका थका सा दिखाई देता है।


वस्तुतः शैलपुत्री मनुष्य के कायाकल्प के द्वारा सशक्त और परमहंस बनाने का प्रथम सूत्र है। स्वयं में ध्यान-भजन के द्वारा इनकी तलाश देह में काम को संतुलित करके बाहर से चट्टान की शक्ति प्रदान करती है। मानसिक स्थिरता देती है।

पढें Religion समाचार (Religion News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट