ताज़ा खबर
 

ओडिशा के टिटलागढ़ का यह शिव मंदिर, जहां गर्मी का नहीं पड़ता है कोई असर

यह मंदिर कुम्‍हड़ा पहाड़ पर स्थित है। पथरीली चट्टानों के चलते यहां पर प्रचंड गर्मी होती है। लेकिन मंदिर में गर्मी के मौसम का कोई असर देखने को नहीं मिलता है। टिटलागढ़ के इस शिव-पार्वती मंदिर में एसी से भी ज्यादा ठंडक होती है।

Author नई दिल्ली | June 12, 2019 9:20 AM
उड़ीसा के टिटलागढ़ में मौजूद है शिव का यह चमत्कारी मंदिर।

Shiva Temple: भारत में कई ऐसे अद्भुत और चमत्कारी मंदिर हैं जिनका रहस्य आज तक कोई जान नहीं पाया है। कुछ पौराणिक कथाओं में इनके बारे में कुछ जानकारी जरूर मिल जाती है। यहां हम आपको उड़ीसा के टिटलागढ़ में स्थित शिव-पार्वती के उस मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जिस मंदिर के रहस्य को आज तक कोई नहीं जान पाया है। लोगों की इस मंदिर को लेकर काफी आस्था जुड़ी हुई हैं। आपको बता दें कि उड़ीसा का टिटलागढ़ सबसे गर्म क्षेत्र माना जाता है। बावजूद इसके लोगों का मानना है कि यहां मौजूद शिव पार्वती के मंदिर का तापमान काफी कम रहता है। अत: चाहे कितनी ही गर्मी क्यों न पड़ जाए उसके बाद भी मंदिर के अंदर इतनी ठंडक महसूस होगी जैसे कि एसी चल रहा हो। लेकिन ऐसा क्यों होता है इसके बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं है।

यह मंदिर कुम्‍हड़ा पहाड़ पर स्थित है। पथरीली चट्टानों के होने के कारण यहां पर प्रचंड गर्मी होती है। लेकिन मंदिर में गर्मी के मौसम का कोई असर देखने को नहीं मिलता है। टिटलागढ़ के इस शिव-पार्वती मंदिर में एसी से भी ज्यादा ठंडक होती है। जब्कि बाहर का तापमान काफी ज्यादा होने के कारण लोगों का बूरा हाल हो जाता है लेकिन मंदिर में आते ही लोगों को गर्मी में भी ठंडक का एहसास होता है। मंदिर में कोई एसी मौजूद नहीं है। उसके बाद भी मंदिर के अंदर काफी ठंड लगने लगती है। जब्कि बाहर झुलसा देने वाली गर्मी पड़ रही होती है। लोगों के मुताबिक मंदिर में जाते ही ठंडी हवाएं चलने का एहसास होने लगता है।

मंदिर के बाहर और अंदर के तापमान में इतना अंतर होने के रहस्य को कई लोगों ने जानने की कोशिशें भी की लेकिन इसका कोई प्रमाण नहीं मिल पाया। मंदिर के पुजारियों के मुताबिक बाहर चाहे कितनी ही गर्मी क्यों न पड़ रही हो लेकिन मंदिर के अंदर कंबल ओढ़ने की जरूरत पड़ जाती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X