ताज़ा खबर
 

इस बार कब है मौनी अमावस्या? जानें व्रत में भक्त क्यों रहते हैं पूरे दिन चुप…

Mauni Amavasya In 2021 Date: पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक द्वापर युग की शुरुआत इस दिन के साथ ही हुई थी इसलिए भी इस अमावस्या को खास माना जाता है

मान्यता है कि इस दिन मौन रहकर स्नान व दान करने से विशेष फलों की प्राप्ति होती है

Mauni Amavasya In 2021/ Maghi Amavasya 2021: हिंदू धर्म में जितनी अहमियत पूर्णिमा तिथि को दी जाती है, उतना ही महत्व अमावस्या का भी होता है। माघ के महीने में पड़ने वाली अमावस्या को मौनी या माघी अमावस्या कहते हैं। इस बार ये पवित्र तिथि 11 फरवरी को पड़ने वाली है। माघ मास के कृष्ण पक्ष की मौनी अमावस्या के दिन स्नान-दान की परंपरा है। खासकर गंगा स्नान को इस दिन बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन गंगा स्नान के बाद पितरों को जल देने से उनकी आत्मा को तृप्ति मिल जाती है। आमतौर पर भी अमावस्या तिथि को पितृ तर्पण करने का भी विधान है, आइए जानते हैं मौनी अमावस्या की खास बातें –

मौन रहने की है मान्यता: विद्वान बताते हैं कि माघी अमावस्या के ऋषि मनु का जन्म हुआ था। मनु शब्द से मौनी की उत्पत्ति हुई है, इसलिए इस दिन को मौनी अमावस्या का नाम दिया गया है। मान्यता है कि इस दिन मौन रहकर स्नान व दान करने से विशेष फलों की प्राप्ति होती है। यहां तक कि श्रद्धालु दिन भर के लिए मौन धारण करते हैं। शास्त्रों में ऐसा वर्णित है कि ईश्वर का जाप मुंह जुबानी करने जितने फलों की प्राप्ति होती है, मौन रहकर ध्यान व प्रभु के स्मरण करने से उससे कई गुना अधिक पुण्य मिलता है। माना जाता है कि दान करने से पहले अगर भक्त सवा घंटे का मौन धारण कर लें तो इससे 16 गुना अधिक फल मिलते हैं।

क्या है इस दिन का महत्व: विद्वान मानते हैं कि व्यक्ति का मन बहुत तेजी से दौड़ता है, इस पर काबू करने के लिए व्रत रखने की सलाह दी जाती है। मौनी अमावस्या पर व्रत करने से मन को संयमित करना आसान होता है। वहीं, पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक द्वापर युग की शुरुआत इस दिन के साथ ही हुई थी इसलिए भी इस अमावस्या को खास माना जाता है। मान्यता है कि इस दिन गंगा का जल अमृत बन जाता है। जिससे इस दिन गंगा में स्नान करने से पुण्य और मोक्ष की प्राप्ति होती है।

क्या है शुभ मुहूर्त: अमावस्या तिथि की शुरुआत 10 फरवरी, 2021 शुक्रवार को रात के 1 बजकर 10 मिनट से होगी। वहीं, इसकी समाप्ति 11 फरवरी, शनिवार की रात 12 बजकर 37 मिनट पर हो जाएगी।

Next Stories
1 आज है पौष पूर्णिमा, जानें किन शुभ योग के कारण दिन बन रहा है खास
2 Horoscope Today, 28 January 2021: धनु राशि के जातकों निवेश करने से पहले गंभीरता से सोचें, मकर राशि वाले गाड़ी चलाते समय सावधानी बरतें
3 भागवत कथा और भजनों के लिए चर्चित हैं जया किशोरी, जानिये कितनी पढ़ी-लिखी हैं
ये पढ़ा क्या?
X