ताज़ा खबर
 

Durga Ji ki Aarti/Mata Ki Aarti: अम्बे तू है जगदम्बे काली…इस आरती से देवी मां को किया जाता है प्रसन्न

Ambe Tu Hai Jagdambe Kali Aarti In Hindi (Durga Aarti): अम्बे तू है जगदम्बे काली (Ambe Tu Hai Jagdambe Kali), जय दुर्गे खप्पर वाली, तेरे ही गुण गावें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती... पढ़ें यहां।

mata ki aarti, durga aarti, ambe maa ki aarti, maa ki aarti, shairawali ki aarti, navratri aarti, navratri song, navratri bhajan, ambe tu hai jagdame kali aarti, navratri aarti,जय माता दी, मां दुर्गा की पूरी आरती पढ़ें यहां।

Maa Ki Aarti (Ambe Mata Ki Aarti)/Navratri Aarti Song: मां अम्बे की अराधना के नौ दिन आज से शुरू हो चुके हैं। इन नौ दिनों में देवी मां के विभिन्न स्वरूपों की पूजा की जायेगी। लोग अपने अपने तरीकों से मां को प्रसन्न करने के लिए पूजा पाठ करेंगे। लेकिन एक चीज ऐसी है जिसके बिना मां दुर्गा की पूजा पूरी नहीं मानी जाती है वो है मां की आरती। लेकिन मां की आरती उतारने से पहले भगवान गणेश जी की आरती भी जरूर कर लें। देखिए अम्बे तू है जगदम्बे काली आरती और मां दुर्गा के मंत्र…

अम्बे जी की आरती (Mata Ki Aarti):

अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली,
तेरे ही गुण गावें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती।
तेरे भक्त जनो पर माता भीर पड़ी है भारी।
दानव दल पर टूट पड़ो मां करके सिंह सवारी॥
सौ-सौ सिहों से बलशाली, है अष्ट भुजाओं वाली,
दुष्टों को तू ही ललकारती।
ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥

माँ-बेटे का है इस जग में बड़ा ही निर्मल नाता।
पूत-कपूत सुने है पर ना माता सुनी कुमाता॥
सब पे करूणा दर्शाने वाली, अमृत बरसाने वाली,
दुखियों के दुखड़े निवारती।
ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥

नहीं मांगते धन और दौलत, न चांदी न सोना।
हम तो मांगें तेरे चरणों में छोटा सा कोना॥
सबकी बिगड़ी बनाने वाली, लाज बचाने वाली,
सतियों के सत को संवारती।
ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥

चरण शरण में खड़े तुम्हारी, ले पूजा की थाली।
वरद हस्त सर पर रख दो माँ संकट हरने वाली॥
माँ भर दो भक्ति रस प्याली, अष्ट भुजाओं वाली,
भक्तों के कारज तू ही सारती।
ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥

मां दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए इन मंत्रों का भी जरूर करें जाप…

1. सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके।
शरण्ये त्र्यंबके गौरी नारायणि नमोऽस्तुते।।

2. ॐ जयन्ती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी।
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तुते।।

3. * या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता,
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

* या देवी सर्वभूतेषु लक्ष्मीरूपेण संस्थिता,
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

* या देवी सर्वभूतेषु तुष्टिरूपेण संस्थिता,
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

* या देवी सर्वभूतेषु मातृरूपेण संस्थिता,
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

* या देवी सर्वभूतेषु दयारूपेण संस्थिता,
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

* या देवी सर्वभूतेषु बुद्धिरूपेण संस्थिता,
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

* या देवी सर्वभूतेषु शांतिरूपेण संस्थिता,
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

4. नवार्ण मंत्र ‘ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चै’ का जाप अधिक से अधिक अवश्‍य करें।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पहले नवरात्र पर मां शैलपुत्री की होती है पूजा, जानिए पंचांग अनुसार आज के सभी शुभ मुहूर्त
2 इन 3 राशि वालों पर मां अम्बे की रहेगी विशेष कृपा, नौकरी में तरक्की मिलने के आसार
3 इन दो राशि के जातक अपने प्यार का करेंगे इजहार, ये लोग नये रिश्ते बनाते समय रहें सावधान
ये पढ़ा क्या?
X