ताज़ा खबर
 

Valmiki Jayanti 2017: जानिए कौन थे महर्षि वाल्मीकि और किस कारण से मनाई जाती है उनकी जयंती

Maharishi Valmiki Jayanti Day 2017: वाल्मीकि जयंती के शुभावसर पर उनकी शोभा यात्रा भी निकली जाती हैं जिनमें झांकियों के साथ भक्तगण उनकी भक्ति में नाचते, गाते और झूमते हुए आगे बढ़ते हैं।

valmiki jayanti, valmiki jayanti 2017, valmiki jayanti day, valmiki jayanti day 2017, maharishi valmiki, maharishi valmiki jayanti, maharishi valmiki jayanti 2017, महर्षि वाल्मीकि, महर्षि वाल्मीकि 2017, वाल्मीकि जयंती, वाल्मीकि जयंती 2017, maharishi valmiki jayanti day 2017, valmiki jayanti day india, valmiki jayanti day in hindi, valmiki jayanti in hindi, religion news updatesValmiki Jayanti 2017: क्यों मनाई जाती है वाल्मिकी जयंती।

अश्विन मास की शरद पूर्णिमा को महर्षि वाल्मीकि का जन्मदिवस (वाल्मीकि जयंती) मनाया जाता है। इस साल वाल्मीकि जयंती पांच अक्टूबर को मनी। वैदिक काल के प्रसिद्ध महर्षि वाल्मीकि ‘रामायण’ महाकाव्य के रचयिता के रूप में विश्व विख्यात है। महर्षि वाल्मीकि को न केवल संस्कृत बल्कि समस्त भाषाओं के महानतम कवियों में शुमार किया जाता है। महर्षि वाल्मीकि के जन्म के बारे में कोई ठोस जानकारी नहीं है। एक पौराणिक मान्यता के अनुसार उनका जन्म महर्षि कश्यप और अदिति के नौवें पुत्र वरुण और उनकी पत्नी चर्षणी के घर में हुआ। माना जाता है कि महर्षि भृगु वाल्मीकि के भाई थे। महर्षि वाल्मीकि का नाम उनके कड़े तप के कारण पड़ा था। एक समय ध्यान में मग्न वाल्मीकि के शरीर के चारों ओर दीमकों ने अपना घर बना लिया। जब वाल्मीकि जी की साधना पूरी हुई तो वो दीमकों के घर से बाहर निकले। दीमकों के घर को वाल्मीकि कहा जाता हैं इसलिए ही महर्षि भी वाल्मीकि के नाम से प्रसिद्ध हुए। महर्षि वाल्मीकि संस्कृत के महान आदि-कवि रहे हैं।

पूरे भारतवर्ष में वाल्मीकि जयंती श्रद्धा-भक्ति एवं हर्षोल्लास से मनाई जाती हैं। वाल्मीकि मंदिरों में श्रद्धालु आकर उनकी पूजा करते हैं। इस मौके पर शोभा यात्रा भी निकली जाती हैं जिनमें झांकियों के साथ भक्तगण उनकी भक्ति में नाचते, गाते और झूमते हुए आगे बढ़ते हैं। इस अवसर पर ना केवल महर्षि वाल्मीकि बल्कि श्रीराम के भी भजन भी गाए जाते हैं। महर्षि वाल्मीकि ने रामायण महाकाव्य के सहारे प्रेम, तप, त्याग इत्यादि दर्शाते हुए हर मनुष्य को सदभावना के पथ पर चलने के लिए प्रेरित किया। इसलिए उनका ये दिन एक पर्व के रुप में मनाया जाता है।

एक पौराणिक कथा के अनुसार वाल्मीकि महर्षि बनने से पूर्व उनका नाम रत्नाकर था। एक द‍िन उनकी मुलाकात नारद मुनि से हुई। इस मुलाकात में ही उनकी ज‍िंंदगी की द‍िशा बदल गई और वह एक महामानव बनने की ओर अग्रसर हुए। नारद मुन‍ि ने उन्‍हें सद्कर्म का ज्ञान द‍िया। ज्ञान होते ही वाल्मीकि नारद के चरणों में गिर पड़े और उनसे ज्ञान देने के लिए कहा। नारद मुनि ने उन्हें राम नाम जपने की सलाह दी। यही रत्नाकर आगे चलकर महर्षि वाल्मीकि के रूप में विख्यात हुए।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 छिपकली होती है मां लक्ष्मी का प्रतीक, ये आसान उपाय करने से होती है हर मुराद पूरी
2 विवाहित महिलाएं किस तरह से सिन्दूर लगाकर मिटा सकती हैं पति के साथ बढ़ी दूरियां और ला सकती हैं उन्हें करीब
3 कलयुग में भगवान आते हैं यहां रास रचाने, अगर देख ली लीला तो जा सकते हैं प्राण