ताज़ा खबर
 

Mahashivratri 2020: महाशिवरात्रि कब मनाई जायेगी? जानिए शिवरात्रि और महाशिवरात्रि में क्या है अंतर

Mahashivratri Kab Hai: फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को आने वाली शिवरात्रि को महाशिवरात्रि के नाम से जाना जाता है। इस दिन को शिव भक्त बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं।

Mahashivratri 2020: फाल्गुन मास में आने वाली शिवरात्रि को महाशिवरात्रि मनाई जाती है

Mahashivratri 2020 Date: साल 2020 में महाशिवरात्रि (Maha Shivratri 2020) पर्व 21 फरवरी को मनाया जायेगा। ये शिव और पार्वती के मिलन की रात मानी जाती है। लेकिन शिवरात्रि हर माह में आती है जिसे मासिक शिवरात्रि के नाम से जाना जाता है। फाल्गुन मास में आने वाली शिवरात्रि को महाशिवरात्रि मनाई जाती है जिसका साल में आने वाली सभी शिवरात्रियों में सबसे अधिक महत्व माना गया है। जानिए दोनों शिवरात्रि में क्या है फर्क…

शिवरात्रि: ये हर महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाई जाती है। जिसे प्रदोष भी कहा जाता है। हर महीने में आने के कारण इसे मासिक शिवरात्रि के नाम से भी लोग जानते हैं। जब यह तिथि श्रावण मास में आती है तो उसे बड़ी शिवरात्रि कहा जाता है। श्रावण मास भगवान शिव का माना जाता है इसलिए इस महीने आने वाली शिवरात्रि पर भगवान शिव की विशेष पूजा अर्चना की जाती है।

महाशिवरात्रि: फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को आने वाली शिवरात्रि को महाशिवरात्रि के नाम से जाना जाता है। इस दिन को शिव भक्त बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं। इस दिन व्रत रखने से कई व्रतों के बराबर पुण्य प्राप्त होने की मान्यता है। मान्यता है कि फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी की रात्रि में ही भगवान शिव लिंग रूप में प्रकट हुए थे।

फाल्गुनकृष्णचतुर्दश्यामादिदेवो महानिशि।
शिवलिंगतयोद्भूत: कोटिसूर्यसमप्रभ:॥
ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि में चंदमा सूर्य के नजदीक होता है। उसी समय जीवनरूपी चंद्रमा का शिवरूपी सूर्य के साथ योग-मिलन होता है। सूर्य देव इस समय पूर्णत: उत्तरायण में आ चुके होते हैं तथा ऋतु परिवर्तन का यह समय अत्यन्त शुभ कहा गया है।

महाशिवरात्रि का धार्मिक महत्व: बहुत से लोग ये जानते हैं कि महाशिवरात्रि के दिन शिव और पार्वती का विवाह हुआ था। जिसका जिक्र कई पौराणिक कथाओं में मिलता है। लेकिन शिव पुराण की एक कथा के अनुसार सृष्टि की शुरुआत में भगवान विष्णु और ब्रह्मा जी में एक विवाद छिड़ गया था कि उन दोनों में से श्रेष्ठ कौन है। दोनों के विवाद को देखकर उनके बीच में एक विशाल अग्नि स्तंभ प्रकट हुआ। जिसके मूल स्त्रोत का पता लगाने के लिए भगवान विष्णु वराह का रूप धारण करके पाताल की ओर बढ़े तो ब्रह्मा जी हंस का रूप लेकर आकाश की तरफ गये। लेकिन दोनों को उस स्तंभ का ओर-छोर नहीं मिल सका। फिर उस स्तंभ से भगवान शिव ने दर्शन दिया।

Next Stories
1 नास्त्रेदमस भविष्यवाणी: इन 4 चीजों से दुनिया को होगा खतरा, क्या कोरोना वायरस को लेकर भी की थी भविष्यवाणी?
2 Weekly Horoscope (Rashifal): इस सप्ताह 3 राशि वालों को मिलेगी खुशखबरी, बाकियों के सितारे ये दे रहे संकेत
3 Vastu Tips: नए मकान को डेकोरेट करने जा रहे हैं, तो जरूर पढ़ें ये खबर, जानें- वास्‍तु के अनुसार कैसे सजाएं अपने घर को
ये पढ़ा क्या?
X