ताज़ा खबर
 

आज लगेगा साल का दूसरा चंद्र ग्रहण, जानिए ग्रहण लगने को लेकर धार्मिक मान्यताएं

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार राहु-केतु नामक दैत्य सूर्य-चंद्र पर आक्रमण करके उन्हें निगलने का प्रयत्न करते हैं। जितना अंग उनके मुंह में घुस जाता है, उतने से ग्रहण दृष्टिगोचर होता है। इस प्रताड़ना से इन देवताओं को बचाने के लिए दान-पुण्य, जप-तप काम आता है।

lunar eclipse, lunar eclipse 2020 in india, lunar eclipse 2020 time in india, chandra grahan, chandra grahan 2020, lunar eclipse 2020 india, lunar eclipse 2020 india date, lunar eclipse 2020 date in india, chandra grahan 2020 india, chandra grahan 2020 date, chandra grahan 2020 time, chandra grahan 2020 timings, chandra grahan 2020 date and time in indiaचंद्र ग्रहण को खुली आंखों से देखा जा सकता है और ये घटना पूर्णिमा के दिन ही घटित होती है।

साल 2020 का दूसरा चंद्र ग्रहण 05 जून को लगने जा रहा है। जो एक उपच्छाया चंद्र ग्रहण होगा। इस साल का पहला चंद्र ग्रहण भी ऐसा ही लगा था। ग्रहण के बारे में जानने के लिए लोगों में एक उत्सुक्ता बनी रहती है। हर कोई ये जानने का इच्छुक रहता है कि, क्या है ग्रहण और कैसे लगता है? वैज्ञानिक दृष्टि से देखें तो चंद्र ग्रहण एक सामान्य खगोलीय घटना है जो लगभग हर साल घटित होती है। तो वहीं इससे जुड़ी कुछ धार्मिक कथाएं भी प्रचलित हैं…

क्या होता है चंद्र ग्रहण? वैज्ञानिक दृष्टि से देखें तो चन्द्रग्रहण उस घटना को कहते हैं जब चन्द्रमा और सूर्य के बीच में धरती आ जाती है जिससे धरती की पूर्ण या आंशिक छाया चांद पर पड़ती है। चंद्र ग्रहण को खुली आंखों से देखा जा सकता है और ये घटना पूर्णिमा के दिन ही घटित होती है। जब चांद अपने पूर्ण आकार में रहता है।

चंद्र ग्रहण लगने के धार्मिक कारण: चंद्र ग्रहण की घटना को समुद्र मंथन के दौरान दानवों और देवों के बीच हुए विवाद से जोड़कर देखा जाता है। पौराणिक कथा अनुसार समुद्र मंथन से निकले अमृत कलश को देखकर देवताओं और राक्षसों में विवाद छिड़ गया। दोनों ही पक्षों को अमृत पाने की लालसा थी। इस मामले को सुलझाने के लिए भगवान विष्णु ने मोहिनी का रूप धारण किया। श्री हरि के मोहिनी रूप पर मोहित होकर देवता और दानव अमृत को पाने के लिए एक लाइन में बैठ गए। विष्णु जी की चाल थी देवताओं को सारा अमृत पिलाने की। जिस बात की भनक राक्षस राहु को लग गई और उसने छल से अमृत चख लिया। चंद्र और सूर्य ने ये बात तुरंत विष्णु भगवान को बताई और श्री हरि ने तुरंत राहु का सिर धड़ से अलग कर दिया। अमृत राहु के शरीर में जा चुका था।

जिस कारण वो राक्षस मरा नहीं बल्कि अमर हो गया। इस दानव के सिर वाला भाग राहु कहलाया और धड़ वाला भाग केतु। क्योंकि सूर्य और चंद्रमा के कारण राहु की ये दशा हुई थी इसलिए राहु-केतु नामक दैत्य सूर्य-चंद्र पर आक्रमण करके उन्हें निगलने का प्रयत्न करते हैं। जितना अंग उनके मुंह में घुस जाता है, उतने से ग्रहण दृष्टिगोचर होता है। इस प्रताड़ना से इन देवताओं को बचाने के लिए दान-पुण्य, जप-तप काम आता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Astrology Tips: हेल्थ के साथ साथ जीरा धन संबंधी मामलों के लिए भी होता है लाभकारी, जानिए कैसे
2 समुद्र शास्त्र: ऐसी नाक वाले व्यक्ति को जीवन में कभी नहीं होती धन की कमी
3 चंद्र ग्रहण के बुरे प्रभाव से बचने के लिए गर्भवती महिलाओं को क्या करना चाहिए, जानिए
ये पढ़ा क्या?
X