ताज़ा खबर
 

लोककथा: पार्वती के साथ क्रीड़ा करते पैदा हो गईं श‍िवजी की पांच बेट‍ियां, माता को पता भी नहीं चला

शिवजी ने इन बेटियों का नाम जया, विषहर, शामिलबारी, देव और दोतलि रखा था।

शिवलिंग पर दूध चढ़ाते श्रद्धालू।

सावन के महीने को भगवान शिवजी का महीना माना जाता है। इस महीने में भगवान शिवजी और माता पार्वती से संबंधित कई त्यौहार मनाए जाते हैं। सावन के महीने में मधुश्रावणी नाम का त्यौहार भी मनाया जाता है। मधुश्रावणी को बिहार के मिथिला इलाके में मनाया जाता है। इस त्यौहार के दिन भगवान शिवजी और माता पार्वती की पूजा की जाती है। मधुश्रावणी के दिन विवाहित महिलाएं अपनी पति की लंबी आयु के लिए व्रत रखती हैं। इस दिन कई तरह की कहानियां और कथाएं भी सुनाई जाती हैं। इन्हीं कथाओं में एक है भगवान शिवजी की पांच बेटियों के जन्म की कहानी।

इस कहानी के मुताबिक एक बार भगवान शिवजी, माता पार्वती के साथ एक तालाब में जल क्रीड़ा कर रहे थे। इस दौरान भगवान शिवजी का वीर्यस्खलन हो गया। भगवान शिवजी ने इसे एक पेड़ के पत्ते पर रखे दिया, जिसमें बाद उनके वीर्य से पांच कन्याएं पैदा हो गई। ये पांच कन्याएं नाम के रूप में पैदा हुई थी। शिवजी ने इन कन्याओं का नाम जया, विषहर, शामिलबारी, देव और दोतलि रखा। इन कन्याओं के पैदा होने के बाद शिवजी वहां से चले गए। लेकिन समय-समय पर भोलेनाथ अपनी बेटियों से मिलने आते रहे। ऐसा कई दिनों तक चलता रहा। लेकिन एक दिन माता पार्वती को संदेह हुआ तो वो उन्होंने शिवजी का पीछा किया। शिवजी फिर से उसी तालाब पर अपनी बेटियों से मिलने आए। शिवजी तालाब में इन सांप रूपी बेटियों के साथ खेल रहे थे।

HOT DEALS
  • Apple iPhone SE 32 GB Gold
    ₹ 19959 MRP ₹ 26000 -23%
    ₹0 Cashback
  • Honor 9 Lite 64GB Glacier Grey
    ₹ 16999 MRP ₹ 17999 -6%
    ₹2000 Cashback

शिवजी को तालाब में सांपों के साथ देखकर पार्वती गुस्सा हो गई और इन सांपों को मारने की कोशिश की। तभी शिवजी ने पार्वती को इन सांपों की कहानी सुनाई। शिवजी की कहानी सुनकर माता पार्वती हंसने लगी। शिवजी की इस कहानी को सुनकर माता पार्वती ने सांप रूपी बेटियों की जान बख्श दी।

तभी महादेव ने कहा कि सावन के महीने में जो कोई भी सांपों की पूजा करेगा। उसे सर्प से भय नहीं लगेगा। यही कारण है कि सावन के महीने में सांपों की पूजा भी की जाती है। इस साल मधुश्रावणी त्यौहार नाग पंचमी के दिन से शुरू हो गया। यह त्यौहार 27 जुलाई को समाप्त होगा। इस दौरान नाग की पूजा पाठ करना शुभ माना जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App